तनाव होने पर बॉडी में होती हैं ये 9 अजीब चीजें

क्या आप जानती हैं कि तनाव आपके हार्मोन, आंतों के बैक्टीरिया, दिल, नींद, ब्रेन, इम्‍यूनिटी, एनर्जी, फर्टिलिटी और त्वचा पर असर डाल सकता है।
stress women main

हर कोई समय-समय पर तनाव महसूस करता है, लेकिन जब तनाव लंबे समय तक रहता है तब इसका असर आपके शरीर पर होने लगता है। सिर्फ नींद से जुड़ी समस्‍याओं या पूरे दिन चिंतित महसूस करने के अलावा लंबे समय तक तनाव में रहने से आपके साथ कई तरह की अजीब चीजें हो सकती हैं। जी हां तनाव हमारे पूरे शरीर को प्रभावित करता है और आपने देखा होगा कि जब आपके दिमाग में बहुत कुछ चलता है तो आपकी सामान्य आदतों में भी बदलाव दिखाई देता है। 

एक्‍सपर्ट का मनाना है कि तनाव शरीर को कई तरह से प्रभावित करता है। यह जीवन के अधिकांश हिस्‍सों में समस्‍याएं पैदा कर सकता है, जिसमें अनुभूति, हेल्‍थ, आपकी सोशल लाइफ और इमोशनल भलाई शामिल हैं। जितना अधिक समय तक आप तनाव में रहेंगे, उतना ही अधिक अजीब महसूस होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि तनाव से बॉडी का स्‍ट्रेस हार्मोन कोर्टिसोल बढ़ने लगता है जो आपके ब्‍लड शुगर से लेकर मूड पर बुरा असर करता है। आज हम आपको ऐसी अजीब चीजों के बारे में बता रहे हैं जो लंबे समय तनाव में रहने पर आपको महसूस होती हैं। अगर आपको भी ऐसी ही चीजें देखने को मिल रही हैं तो आपको तनाव से राहत पाने वाली एक्टिविटी के साथ ही एक्‍सपर्ट से बात करनी चाहिए, जो तनाव के इन साइड इफेक्‍ट को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है।

1रिच फूड्स खाने की इच्‍छा

sugary food inside

यह कोई संयोग नहीं है कि डोनट तनाव के समय आपको विशेष रूप से आकर्षक लगता है। जी हां तनाव में होने पर आपको हाई फैट और हाई शुगर से भरपूर फूड्स खाने की क्रेविंग होती है। बहुत ज्‍यादा तनाव में शरीर को काम करने के लिए अतिरिक्त ईंधन की जरूरत होती है। खाने या न खाने पर यह आपको अगले भोजन तक एक्टिव रखने में मददगार होता है।

2जल्‍दी-जल्‍दी बीमार पड़ती हैं आप

women unwell inside

कोर्टिसोल का उत्पादन रोग से लड़ने वाले सफेद ब्‍लड कोशिकाओं को कम करता है। यह तनाव और कमजोर प्रतिक्रिया के बीच संबंध को साबित करता है। ऐसा होने पर आपके शरीर की बीमारी से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है।

3मूड को बैलेंस करना होता है मुश्किल

women stress inside

जब आपको लंबे समय तक तनाव रहता है तो आप अलग तरह से व्यवहार करना शुरू कर देते हैं। आपका व्‍यवहार लोगों के प्रति अभद्र हो सकता है। आप ठीक से सो नहीं पाती हैं और चिड़चिड़ा या अशांत महसूस करती हैं।   

4डाइजेशन में अजीब महसूस होना

digestive system inside

कुछ महिलाओं में तनाव के करण एसिडिटी और ब्लोटिंग जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। कुछ महिलाओं को इसके कारण बहुत ज्‍यादा भूख या ठूस ठूस कर खाने की इच्‍छा होती है तो कुछ को ऐंठन महसूस होती है। 

5सेक्‍शुअल एक्टिविटी कम या ज्‍यादा होना

couple inside

लंबे समय तक तनाव आपकी सेक्‍शुअल एक्टिविटी को कम कर सकता है। तनाव आपके सेक्‍स हार्मोन को ट्रिगर करता है। लेकिन कुछ में इसके विपरित दिखाई देता है यानि उनमें सेक्‍शुअल एक्टिविटी की इच्‍छा बढ़ जाती है। 

6रोजमर्रा के कामों में परेशानी

daily tasks inside

बहुत ज्‍यादा या लंबे समय तक रहने वाले तनाव का असर आपके ब्रेन से जुड़े कामों पर पड़ता है और यह वास्तव में आपके हिप्पोकैम्पस के आकार को छोटा कर सकता है, जो यह बताता है कि आप किसी भी काम में ध्‍यान फोकस नहीं कर पाते हैं। यह एकाग्रता और मेमोरी को प्रभावित करता है। 

7त्‍वचा हो जाती है सेंसिटिव

sensitive skin inside

आश्चर्य होता है जब आप तनाव में होते हैं तो आपके पेट में तितलियां जैसा क्यों महसूस होता है? आप इसके लिए अपने आंत-ब्रेन अक्ष को दोष दे सकती हैं जो भावना के प्रति बहुत सेंसिटिव है। हम जानते हैं कि आंत, ब्रेन और त्वचा अंतरंग रूप से जुड़े हुए हैं। जब आंत में माइक्रोबायम बाधित हो जाता है तो यह सूजन को बढ़ावा देता है जो ब्रेन और त्वचा सहित पूरे शरीर को प्रभावित करता है जो हार्मोन कोर्टिसोल के उत्पादन को उत्तेजित करता है वहीं तेल उत्पादन और मुंहासे को बढ़ावा देने वाले ऑयल ग्‍लैंड को भी बांधता है।

8बाल सफेद या झड़ने लगते हैं

hair fall inside

तनाव के कारण कुछ महीने बाद बाल पतले हो सकते हैं। इस दौरान बाल आराम की अवस्‍था में पहुंच जाते हैं जिससे वह तेजी से झड़ने लगते हैं। यह एक ऐसी स्थिति है जिसे टेलोजेन एफ्लुवियम कहा जाता है। इसे आप ऐसे भी समझ सकती हैं कि टेलोजेन एफ्लुवियम अस्थायी बालों के झड़ने का एक रूप है जो आमतौर पर किसी व्यक्ति को दर्दनाक घटना या तनाव का अनुभव होने के कई महीनों बाद होता है। इसके अलावा बहुत ज्‍यादा तनाव से आपके बाल सफेद भी होने लगते हैं। ऐसा बहुत ज्‍यादा स्‍ट्रेस के कारण फ्री रेडिकल्‍स के नुकसान से होता है। 

9दर्द से निपटने में होती है मुश्किल

body pain inside

अध्ययन बताते हैं कि जब लोगों को तनाव होता है तो दर्द के प्रति उनकी सहनशीलता कम हो जाती है। पुराना दर्द इन समय के दौरान बढ़ जाता है या खराब हो सकता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि कोर्टिसोल पूरी ताकत से बह रहा होता है और प्रोस्टाग्लैंडिंस हार्मोन है जो सुस्त दर्द को कम करने में मदद करते हैं। अगर आप भी इन अजीब चीजों को अनुभव कर रही हैं तो तुरंत अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Loading...
Loading...