ग्रीन टी के फायदों के बारे में हम सभी जानती हैं और वेट लॉस के लिए ज्‍यादातर महिलाओं की डेली रुटीन में यह शामिल भी है। जी हां ग्रीन टी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट के रूप में यह कई हेल्‍थ बेनिफिट्स के लिए जाना जाता है, लेकिन अगर आप इसका इस्‍तेमाल आयरन से फूड्स के साथ करती हैं तो आपको ग्रीन टी के फायदे पूरे नहीं मिल पाते हैं। जी हां अगर आप वेट लॉस के लिए ग्रीन टी पीती हैं लेकिन साथ में आयरन से भरपूर चीजें भी खाती हैं तो आपका वेट लॉस नहीं होगा। यह बात हम नहीं कह रहें बल्कि इंफ्लेमेटरी बॉउल डिजीज के माउस मॉडल पर किए गए एक प्रयोग से पता चला है कि डाइटरी आयरन के साथ ग्रीन टी का सेवन करने से ग्रीन टी के फायदे कम हो जाते है। 

पेन स्टेट्स के पोषण विज्ञान के सहायक प्रोफेसर, मैट्टम विजय-कुमार के अनुसार, ''अगर आप आयरन युक्‍त फूड्स के बाद ग्रीन टी का पीती हैं तो टी के मुख्‍य तत्‍व आयरन के साथ बंध जाते हैं। जब ऐसा होता है, तो ग्रीन टी एक एंटीऑक्सीडेंट के रूप में अपनी क्षमता खो देती है। ग्रीन टी के बेनिफिट्स पाने के लिए आयरन से भरपूर फूड्स का सेवन नहीं करना सबसे अच्छा हो सकता है," विजय-कुमार कहना हैं।

इसे भी पढ़ें: इस महिला की तरह 5 चीजों को रातभर भिगोकर खाएंगी तो 5 बीमारियां रहेंगी दूर

green tea benefits weight loss inside

आयरन युक्त फूड्स में रेड मीट और हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे कि पालक और केल शामिल हैं। विजय-कुमार के अनुसार, वही परिणाम आयरन सप्‍लीमेंट पर भी लागू होती हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि ईजीसीजी - ग्रीन टी में मुख्य तत्‍व - सूजन के दौरान व्‍हाइट ब्‍लड सेल्‍स द्वारा जारी प्रो-इंफ्लेमेटरी एंजाइम मायलोपरोक्सीडेज को रोकता है। EGCG द्वारा myeloperoxidase का निष्क्रिय करना IBD फ्लेयर-अप को कम करने में फायदेमंद हो सकता है। लेकिन जब ईजीसीजी और आयरन को एक साथ लिया जाता है तो आयरन से जुड़ा ईजीसीजी मायलोपरोक्सीडेज को बाधित करने की क्षमता खो देता है।

इस जटिलता को जोड़ते हुए, उन्होंने पाया कि ईजीसीजी को एक मेजबान प्रोटीन द्वारा भी निष्क्रिय किया जा सकता है, जो इंफ्लेमेटरी स्थितियों में अत्यधिक प्रचुर मात्रा में है, 'अमेरिकन जर्नल ऑफ पैथोलॉजी' में प्रकाशित अध्ययन कहता है। आईबीडी को पाचन तंत्र की क्रोनिक सूजन क नाम से जाना जाता है, जिसके परिणामस्वरूप खूनी दस्त, दर्द, थकान, वजन में कमी और आयरन की कमी/एनीमिया सहित अन्य लक्षण दिखाई देते हैं। आइबीडी के मरीजों को आयरन सप्‍लीमेंट दी जानी आम बात है।

green tea benefits weight loss inside

इस तरह ग्रीन टी और आयरन सप्‍लीमेंट को एक साथ लेने से उल्‍टा असर होता है क्‍योंकि दोनों पोषक तत्‍व एक दूसरे को रोकते और बांधते हैं। विजय कुमार ने कहा, "यह महत्वपूर्ण है कि आइबीडी के मरीज जो आयरन सप्लीमेंट और ग्रीन टी दोनों लेते हैं, उनके लिए यह जानना बेहद जरूरी है कि एक पोषक तत्व दूसरे को कैसे प्रभावित करता है।"

इसे भी पढ़ें: इन 3 वजहों से डायबिटीज काबू में करने के लिए प्याज है रामबाण

विजय-कुमार ने यह भी बताया है कि "अध्ययन से मिली जानकारी दोनों लोगों के लिए मददगार हो सकती है, जो ग्रीन टी का आनंद लेते हैं और इसे अपने सामान्य लाभों के लिए पीते हैं, साथ ही ऐसे लोग जो इसका इस्तेमाल विशेष रूप से बीमारियों और स्थितियों के इलाज के लिए करते हैं,"

"ग्रीन टी का लाभ इसके सक्रिय घटकों की जैवउपलब्धता पर निर्भर करता है। यह केवल एक चीज नहीं है कि हम क्या खाते हैं बल्कि यह भी खाते हैं कि हम क्या खाते हैं और इसके साथ क्या खाते हैं," इम्यूनोलॉजी में स्नातक छात्र बेंग सैन येओह ने कहा। संक्रामक रोग और अध्ययन के पहले लेखक।

Source : ANI