• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

सोनल जैसी खूबसूरती और फिटनेस के लिए 35 साल की महिलाएं करें ये 3 योग

अगर आप बॉलीवुड एक्‍ट्रेस सोनल चौहान की तरह खूबसूरत और फिट दिखना चाहती हैं तो इन 3 योगासन को जरूर करें। 
author-profile
Published -13 Apr 2022, 14:47 ISTUpdated -13 Apr 2022, 15:31 IST
Next
Article
sonal fitness yoga benefits

पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ के बीच सही बैलेंस बनाए रखने के लिए महिलाओं पर काफी प्रेशर होता है। घर के काम, अंतहीन कामों की लिस्‍ट, बच्चों और बुजुर्गों की देखभाल करना, इन सब चीजों को करने के बाद वे मुश्किल से अपने लिए समय और एनर्जी निकाल पाती हैं। इसके चलते न केवल महिलाओं का वजन बढ़ने लगता है बल्कि बढ़ती उम्र के साथ कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं। 35 की उम्र के बाद बढ़ते वजन के कारण जोड़ों और कमर का दर्द भी सताने लगता है।

लेकिन यह बहु-कार्य वह है जो हर महिला के लिए किसी भी फिजिकल एक्टिविटी में संलग्न होना अधिक महत्वपूर्ण बनाता है और योग से बेहतर कुछ नहीं हो सकता। योग न केवल आपकी मसल्‍स को फैलाता है और आपके शरीर को आराम देता है, बल्कि आपके मन को भी शांत कर सकता है, जो कि प्रत्येक व्यक्ति के लंबे और स्वस्थ जीवन का आनंद लेने के लिए जरूरी है। 

अगर आप चाहती हैं कि 35 की उम्र के बाद भी आप एकदम फिट रहें तो बहुत जरूरी है कि अपने रूटीन में योग को शामिल कर लें। इस आर्टिकल में हम योग के ऐसे 3 आसन के बारे में बता रहे हैं जो हेल्‍दी और लंबे जीवन के लिए हर महिला को रोजाना करना चाहिए। इन योगासन की जानकारी हमें बॉलीवुड एक्‍ट्रेस सोनल चौहान के इंस्‍टाग्राम को देखने के बाद पता चला है।  

जी हां, सोनल चौहान भले ही लाइमलाइट से दूर हों लेकिन सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं और सोशल मीडिया पर अपने योग की तस्वीरें और वीडियोज शेयर करती रहती हैं। कुछ दिनों पहले उन्‍होंने इंस्‍टाग्राम से 3 ऐसे योगासन की फोटोज शेयर की है जो 35 साल की महिलाओं की हेल्‍थ के लिए बेस्‍ट हो सकते हैं। इन्‍हें रोजाना करके वह सोनल की तरह खूबसूरती और फिटनेस पा सकती हैं। आइए इन योगासन के बारे में विस्‍तार से आर्टिकल के माध्‍यम से जानें।

सुखासन

Sukhasan yoga

इस योग का फोटो शेयर करते हुए उन्‍होंने कैप्‍शन में लिखा, 'आइए आज बुनियादी बातों पर वापस आएं और बस अपनी आंखें बंद करें, अपने विचारों को साफ करें, सांस लें और ब्रह्मांड की सभी सकारात्मकता में डूब जाएं। और इसे पूरे दिन विकीर्ण करें।' 

आगे उन्‍होंने लिखा, 'सुखासन, कमल मुद्रा में बैठकर ध्यान के लिए उपयोग की जाने वाली एक मूलभूत मुद्रा है। अधिक समय तक मुद्रा को धारण करने से इस मुद्रा में हिप्‍स के लचीलेपन और पीठ की ताकत की आवश्यकता होती है। टाइट हिप्‍स वाले और कुर्सियों पर बैठने वालों के लिए, इस आसान मुद्रा के लिए अतिरिक्त अभ्यास और वार्म अप की आवश्यकता हो सकती है।'

सुखासन के फायदे

  • आसन में सुधार होता है। 
  • पीठ को मजबूत करता है।
  • एकाग्रता और फोकस में सुधार करता है।
  • विश्राम को बढ़ावा देता है।

कर्नापीड़ासन

Karnapidasana

सोनाली ने कर्नापीड़ासन का योग शेयर करते हुए कैप्‍शन में लिखा, 'कर्नापीड़ासन में संस्कृत के तीन शब्द हैं; कर्ण जिसका अर्थ है कान, सूचना जिसका अर्थ है दर्द और आसन जिसका अर्थ है मुद्रा। कर्नापीड़ासन कान पर दबाव डालता है और कान से संबंधित सभी स्थितियों को दूर करने में सहायक होता है। हलासन का उन्नत रूप होने के कारण इसे राजा हलासन भी कहा जाता है।'

कर्नापीड़ासन के फायदे

  • यह एक एनर्जाइजर है और मस्तिष्क को शांत करने में मदद करता है।
  • पूरे स्पाइनल कॉलम में स्‍ट्रेचिंग और मजबूत करता है। 
  • यह फेफड़ों की ताकत में सुधार करता है। इस प्रकार यह अस्थमा पीड़ितों के लिए सहायक है।
  • थायरॉयड ग्‍लैंड और पेट के अंगों को उत्तेजित करता है।
  • कंधे और रीढ़ में स्‍ट्रेच आता है।
  • डिप्रेशन, प्रेशर, हाई ब्‍लड प्रेशर और थकान को नियंत्रित करता है।
  • मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने में मदद करता है।
  • साइनसाइटिस, इनफर्टिलिटी, सिरदर्द और पीठ दर्द को कम करने में मदद करता है।
  • डाइजेशन को बढ़ाता है।
  • पीठ और कंधे को मजबूत करता है। 
  • कूल्हों और नितंबों को टोन करता है।

हलासन

halasan

अगर आप भी 35 की उम्र के बाद खुद को फिट रखना चाहती हैं तो अपने रूटीन में हलासन को शामिल करें। योग शेयर करते हुए उन्‍होंने कैप्‍शन में लिखा, 'हल मुद्रा, हलासन, संस्कृत शब्द 'हला' से लिया गया है जिसका अर्थ है 'हल'। इसका नाम ऐसा इसलिए रखा गया है क्योंकि अंतिम मुद्रा हल, एक कृषि उपकरण जैसी दिखती है।'

हलासन के फायदे

  • इस आसन को करते हुए पीठ को मोड़ा जाता है, इसलिए यह पीठ की मसल्‍स और रीढ़ की हड्डी की ताकत में सुधार करता है। साथ ही पैर और पेट की मसल्‍स में भी मजबूती आती है।
  • यह गर्दन क्षेत्र में तंत्रिकाओं पर दबाव बनाकर रीढ़ की नसों के कामकाज में सुधार करता है।
  • यह थायरॉयड, पैराथायरॉयड, एड्रेनल और पिट्यूटरी ग्‍लैंड्स के कार्य में भी सुधार करता है। अन्य सभी एंडोक्राइन ग्लैंड्स इन मुख्य ग्‍लैंड्स द्वारा नियंत्रित होती हैं और इसलिए एंडोक्राइन तंत्र के समग्र कार्य में सुधार होता है।
  • हलासन ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है और अपच के लिए अच्छा है। 
  • मनो-शारीरिक प्रणाली को सक्रिय, गर्म और हल्का करता है।
  • अस्थमा, ब्रोंकाइटिस के लिए उपयोगी होता है।
  • लचीलापन बढ़ाता है और पैरों में ऐंठन के दौरान आराम की भावना प्रदान करता है।

Recommended Video

  • रीढ़ की हड्डी को मजबूत और लचीला बनाता है।
  • डाइजेस्टिव में सुधार करता है, जो इस मुद्रा को उपयोगी बनाता है जो कब्ज और गैस्ट्रिक समस्याओं से पीड़ित हैं।
  • डायबिटीज से परेशान लोगों के लिए फायदेमंद है क्योंकि यह ब्‍लड शुगर के लेवल को सामान्य करता है।
  • प्रजनन अंगों को उत्तेजित करता है।
  • मेनोपॉज के दौरान महिलाओं की मदद करता है।
  • इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूतकरता है।
  • यह पीठ दर्द, सिरदर्द, अनफर्टिलिटी, अनिद्रा और साइनसाइटिस के लिए भी चिकित्सीय है।

आप भी इन योगासन को करके सोनल की तरह फिट और खूबसूरत दिखाई दे सकती हैं। आप सोनल की फोटोज को देखकर आसानी से योग कर सकती हैं। योग से जुड़े ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 
Article & Image Credit: Instgram (@Sonal Chauhan) 

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।