मेनोपॉज के दौरान महिलाओं के शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं और ये जरूरी है कि हम उन सभी बदलावों के बारे में जानकारी रखें और खुद को स्वस्थ बनाएं। 40 से 50 साल की उम्र महिलाओं के लिए ऐसी होती है कि उन्हें थकान और परेशानियां भी होती हैं और साथ ही साथ उन्हें स्वास्थ्य संबंधित दिक्कतें भी होती रहती हैं। शरीर में कई बार तो सिस्ट जैसी स्थिति भी बन जाती है और प्रजनन अंगों की परेशानी अलग होती है। 

वुमन्स डे स्पेशल सीरीज में हम हर उम्र की महिला की डाइट को लेकर एक्सपर्ट न्यूट्रिशनिस्ट, डायटीशियन और डायबिटीज एजुकेटर स्वाति बथवाल से बात कर अलग से डाइट प्लान बनाने की कोशिश कर रहे हैं। आज इसी कड़ी में हम 40 से 50 साल की उम्र वाली महिलाओं के लिए डाइट टिप्स लेकर आए हैं। 

विटामिन D और कैल्शियम का ध्यान रखना है सबसे जरूरी-

ये बात आपको देखनी होगी कि उम्र के इस पड़ाव में हड्डियां और आंखें वगैराह बहुत ही ज्यादा कमजोर हो जाती हैं और शरीर में एस्ट्रोजन लेवल कम हो जाता है। मेनोपॉज के दौरान आपको कम से कम 1200 एमजी कैल्शियम की जरूरत होती है। कई महिलाओं कों 45 के बाद मेनोपॉज होता है तो कई को 50 के बाद होता है। इस दौरान कैल्शियम बहुत जरूरी है इसी के साथ-साथ हॉट फ्लैशेज को रोकने के लिए अश्वगंधा या कोहोश चाय जरूर लें। अगर अश्वगंधा ले रही हैं तो दिन में 1 ग्राम के आस-पास ये बहुत होगा इससे ज्यादा कभी न लें। 

menopause nutrition

इसे जरूर पढ़ें- Expert Tips: पीरियड्स के दर्द और मूड स्विंग्स से हैं परेशान तो अपनी डाइट में शामिल करें ये चीज़ें

विटामिन D के लेवल को ठीक करने के लिए आप सूरज की रौशनी में बैठें। इसके अलावा, आप सप्लिमेंट्स भी ले सकते हैं। कॉड लिवर ऑयल्स, मशरूम, सीवीड आदि विटामिन D के अच्छे सोर्स हैं और इसलिए इन्हें अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। 

अर्थराइटिस की समस्या हो रही है तो इस तरह की डाइट लें-

अगर आपको मेनोपॉज के समय अर्थराइटिस की समस्या भी हो रही है तो आप ओमेगा 3 रिच खाना खाएं। इसमें फ्लैक्सीड पाउडर, अखरोट, चिया सीड्स आदि अपनी डाइट में शामिल करें। इसके अलावा, कैल्शियम से भरपूर खाना जैसे ब्रॉकली, गोभी की पत्तियां, पालक, लो फैट डेयरी प्रोडक्ट्स आदि का सेवन करने से आपकी ये समस्या थोड़ी कम हो सकती है। 

diet and nutrition issues

एस्ट्रोजन की कमी और दिल की बीमारी को ठीक करने के लिए ये खाएं-

मेनोपॉज के बाद शरीर में एस्ट्रोजन की कमी हो जाती है और इस कमी के कारण दिल की बीमारी होने की गुंजाइश भी होती है। आपको ऐसे फूड्स खाने चाहिए जिसमें विटामिन B12 और विटामिन B6 भरपूर मात्रा में हों। इनमें डेयरी और डेयरी प्रोडक्ट्स शामिल हैं। इसके अलावा, आप काजू को भी अपनी डाइट में शामिल करें। अगर शरीर में B12 विटामिन की कमी होती है होमोसिस्टीन की मात्रा खून में ज्यादा हो जाती है। होमो सिस्टीन हार्ट अटैक का प्रमुख कारण होता है। इसे ठीक करने के लिए अपनी डाइट में अंडे, मछली, चिकन आदि शामिल करें जो विटामिन B12 के अच्छे सोर्स हो सकते हैं। 

diet and menopause nutriiton

इसे जरूर पढ़ें- शरीर में हो रही है Vitamin D की कमी तो ये नेचुरल चीज़ें करेंगी पूरा, जानें एक्सपर्ट टिप्स  

आंखों की बीमारी के लिए डाइट में शामिल करें ये सब- 

Age-related macular degeneration (AMD) एक तरह की आंखों की बीमारी है जो इस उम्र में अधिकतर महिलाओं को होती है। ऐसे में ल्यूटीन और जीएक्सिन्थिन जैसे कम्पाउंड्स का होना जरूरी है। ऐसे में विटामिन A शामिल होना चाहिए आपकी डाइट में। इसे शामिल करने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां, आम, लाल और पीले शिमला मिर्च आदि अपनी डाइट में शामिल करें।  

Recommended Video

ब्रेस्ट कैंसर से बचने के लिए अपनी डाइट में शामिल करें ये- 

फाइटोएस्ट्रोजेन एक कंपाउंड है जो एस्ट्रोजन की तरह ही काम करता है और ये कम मात्रा में खाया जाए तो ब्रेस्ट कैंसर से बचाव कर सकता है। इसके लिए अपनी डाइट में अलसी के बीज और सोया या उससे बने प्रोडक्ट्स को एड करें। इसी के साथ, काजू, कॉर्न आदि को भी आप अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं।  

ये अपनी डाइट में शामिल करने से आपको फायदा हो सकता है, लेकिन अगर आपको कोई बीमारी है या किसी चीज़ का इलाज चल रहा है तो आप अपने डॉक्टर की सलाह के बाद ही इन सभी टिप्स को फॉलो करें। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।