'मौसमी फल खाओ' यह सलाह हममें से बहुत लोगों को घर पर अपने बड़ों से मिली होगी। कई डॉक्टर और न्यूट्रिशनिस्ट भी हमें ताजे फलों और सब्जियों का स्टॉक करने के लिए कहते हैं जो एक विशेष समय के लिए मौसम में होते हैं। कहा जाता है कि मौसमी फलों और सब्जियों में पोषक तत्वों की एक पूरी श्रृंखला होती है जो मौसम के दौरान शरीर को हेल्‍दी रहने में मदद कर सकती है। 

सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर भारत में लोकल और मौसमी फलों और सब्जियों के सेवन पर जोर देती हैं। दिवेकर ने हमें हाल ही में इंस्टाग्राम पर अपनी पोस्ट के माध्यम से मौसमी फल सीताफल की याद दिला दी।  

जी हां, सीताफल या कस्टर्ड एप्‍पल एक स्वादिष्ट फल है जो हमारी हेल्‍थ के लिए भी बहुत अच्‍छा माना जाता है। कई स्वास्थ्य संबंधी समस्‍याओं के लिए इसकी सिफारिश की जाती है। हालांकि, कई लोग कुछ आशंकाओं और फैक्‍ट्स के कारण इससे बचते हैं।

रुजुता दिवेकर ने इस पोस्ट में स्वादिष्ट फल सीताफल से जुड़े डर के साथ-साथ इससे जुड़े तथ्यों के बारे में बताया। इस बारे में विस्‍तार से जानने के लिए इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें।

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar)

1. डर- डायबिटीज होने पर इसे खाने से बचें

तथ्य- सीताफल का ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है और ऐसे मौसमी फलों को डायबिटीज रोगियों के लिए अधिक अनुशंसित किया जाता है।

इसे जरूर पढ़ें: शरीफा खाएं और आंखों की रोशनी बढ़ाने के साथ दिल को भी रखें सेहतमंद

2. डर- अगर मोटे हों तो इससे बचें

तथ्य- अक्सर सुनने में आता है कि अधिक वजन वाले लोगों को सीताफल खाने से बचना चाहिए। हालांकि, यह सच नहीं है। वास्तविकता यह है कि यह फल विटामिन-बी कॉम्प्लेक्स, विशेष रूप से विटामिन-बी 6 का एक अच्छा स्रोत है। इसलिए, यह सूजन को कम करने में भी काम करता है।

3. डर- हार्ट रोगी इसे लेने से बचें

तथ्य- हार्ट रोगी सीताफल से परहेज करते हैं लेकिन ऐसा नहीं होना चाहिए। सच तो यह है कि यह फल दिल के लिए अच्छा होता है। यह मैंगनीज और विटामिन-सी जैसे मिनरल्‍स से भरपूर होते हैं और हार्ट और सर्कुलेटरी सिस्‍टम पर इसका एंटी-एजिंग प्रभाव पड़ता है। हेल्‍दी हार्ट और सर्कुलेटरी सिस्‍टम के लिए यह फल आपके आहार का हिस्सा होना चाहिए।

 

4. डर- पीसीओडी में इसे खाने से बचें

तथ्य - एक और प्रचलित मिथ यह है कि पीसीओडी से पीड़ित महिलाओं को इस फल को खाने से बचना चाहिए, लेकिन यह अनावश्यक है। सीताफल आयरन का एक अच्छा स्रोत है और थकान, चिड़चिड़ापन की भावनाओं से लड़ने के साथ-साथ फर्टिलिटी में भी सुधार करता है।

sitaphal facts and myths

रुजुता दिवेकर ने सीताफल के बारे में कई मिथकों का भंडाफोड़ किया है। यानी बहुत से लोग इस स्वादिष्ट फल को बिना किसी दोष के खा सकते हैं। फल को कई कारणों से हेल्‍दी माना जाता है और आप इसे सीधे या शेक के रूप में या अपनी पसंद अनुसार खा सकते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: शरीफा को घर पर पकाने के आसान टिप्स, लगेगा बाज़ार से भी अधिक टेस्टी

 

सीताफल जिसे कस्टर्ड एप्‍पल भी कहा जाता है, ऊपर से हरे और अंदर से हल्के पीले रंग का सुगंधित, मीठा और क्रीमी होता है। पूरी तरह से पक जाने पर फल भूरे या पीले रंग का हो जाता है। सीताफल अमेरिका का मूल निवासी है, लेकिन भारत में भी काफी लोकप्रिय है।

क्या आपको यह फल पसंद है? क्‍या आपने स्वादिष्ट सीताफल के बारे में कुछ सामान्य मिथक सुने हैं? हमें हमारे फेसबुक पेज पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी और आर्टिकल पढ़ने के लिए, हरजिंदगी से जुड़े रहें!

Article & Image Credit: Instagram.com (Rujuta Diwekar)