Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    वेट लॉस के लिए अपना रही हैं इंटरमिटेंट फास्टिंग तो जान लें ये गंभीर नुकसान

    वेट लॉस के लिए इंटरमिटेंट फास्टिंग को अपनाने से पहले इससे होने वाले जोखिमों के बारे में जरूर जान लें। 
    author-profile
    Updated at - 2022-12-03,11:00 IST
    Next
    Article
    intermittent fasting hindi

    इंटरमिटेंट फास्टिंग एक ऐसा शब्द है जिसका उपयोग लोग खाने के पैटर्न का वर्णन करने के लिए करते हैं जिसमें फास्टिंग का रेगुलर पीरियड्स शामिल होता है जिसमें वे बहुत कम या बिना कैलोरी के फूड्स का सेवन करते हैं।

    इंटरमिटेंट फास्टिंग सिर्फ एक और फैशनेबल डाइट है जो एक ट्रेड के रूप में समय-समय पर आती है। हालांकि, यह निश्चित रूप से अन्य फैड डाइट से बेहतर है, फिर भी इसमें कुछ जोखिम हैं।

    जी हां, एक डाइट सभी में फिट नहीं हो सकती है। हर इंसान अलग होता है और इसलिए हमारे लिए जो सबसे अच्छा काम करता है उसके अनुसार डाइट को अनुकूलित किया जाना चाहिए। तो आइए इंटरमिटेंट फास्टिंग के साथ आने वाले सबसे बड़े जोखिम के बारे में बात करते हैं। इसकी जानकारी हमें न्यूट्रिशनिस्ट मेघा मुखीजा जी बता रही हैं। मेघा मुखीजा 2016 से Health Mania में चीफ डा‍इटीशियन और फाउंडर हैं। 

    इंटरमिटेंट फास्टिंग के साइड इफेक्ट (Intermittent Fasting Side Effects)

    एसिडिटी और ब्‍लोटिंग 

    stomach disorder

    भोजन और डिहाइड्रेशन के बीच बड़े अंतराल के कारण, इंटरमिटेंट फास्टिंग कुछ के लिए एसिडिटी और ब्‍लोटिंग को ट्रिगर कर सकता है। इसके अलावा, लोग कभी-कभी खाने की खिड़की में ज्यादा खा लेते हैं, जो वे चुन रहे हैं उस पर कम नियंत्रण भी एसिडिटी को ट्रिगर करने का एक बड़ा कारक हो सकता है।

    इसे जरूर पढ़ें: इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान यह हैक्स आएंगे आपके काम

    खाने की ज्‍यादा क्रेविंग

    नॉन-फास्टिंग के घंटों में आपको अत्यधिक क्रेविंग होती है और आप अधिक मात्रा में भोजन करते हैं। लंबे घंटों के फास्टिंग को अपनाने में समय और अभ्यास की आवश्‍यकता होती है। साथ ही कुछ लोगों के लिए यह उनके वर्क रूटीन और फिजिकल एक्टिविटी के कारण बिल्कुल भी संभव नहीं होता है। यह नॉन-फास्टिंग के घंटों में अत्यधिक खाने की तीव्र इच्छा और मुकाबलों को बढ़ावा देगा।

    intermittent fasting side effects by expert

    सिरदर्द और चक्कर आना

    इंटरमिटेंट फास्टिंग के शुरुआती फेस में लगभग सभी लोगों को सिरदर्द का सामना करना पड़ता है। इस सिरदर्द को लो ब्‍लड शुगरऔर बीपी के लेवल के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। कैफीन निकासी इसे प्रभावित करने वाला एक अन्य कारक हो सकता है।

    चिड़चिड़ापन और मूड में बदलाव

    यह आमतौर पर थकान और लो ब्‍लड शुगर के कारण होता है। कुछ लोगों के लिए बीपी भी नीचे जा सकता है जिससे वे कमजोर महसूस कर सकते हैं और इसलिए उन्हें और अधिक कर्कश बना सकते हैं। मस्तिष्क ग्लूकोज पर चलता है इसलिए इसकी कमी से भी शुरू में मूड खराब हो जाता है।

    ब्‍लड शुगर असंतुलन और अस्थिरता

    blood sugar level

    यदि आपको इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान लगातार मतली, सिरदर्द, चक्कर आना या अत्यधिक पसीना आता है, तो यह खतरे का संकेत हो सकता है। यह लो ब्‍लड शुगर (हाइपोग्लाइकेमिया) को इंगित करता है जो खतरनाक है।

    Recommended Video

     

    इसके अलावा, इस समय के दौरान सही चीजें नहीं खाने से ब्‍लड शुगर में गंभीर अस्थिरता हो सकती है। इसलिए डायबिटीज से ग्रस्‍तलोग, विशेष रूप से डायबिटीज की दवाएं लेने वाले लोगों को इसे लेने से बचना चाहिए। अनुसंधान ने यह भी साबित किया है कि IF ब्‍लड शुगर लेवल पर कोई अतिरिक्त लाभ नहीं देता है।

    इसे जरूर पढ़ें: इंटरमिंटेट फास्टिंग से जुड़े इन मिथ्स को बिल्कुल भी ना मानें सच

    अगर आप भी वेट लॉस के लिए इंटरमिटेंट फास्टिंग को अपनाना चाहती हैं तो सबसे पहले इसके नुकसान के बारे में जान लें।  इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें, साथ ही कमेंट भी करें। डाइट से जुड़े ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।   

    Image Credit: Shutterstock & Freepik

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।