अगर आपसे कहा जाए कि आप सिर्फ ऊपरी क्रीम या ब्यूटी ट्रीटमेंट्स से अपनी स्किन को अच्छा कर लेंगे तो ऐसा नहीं होगा। कॉस्मेटोलॉजी की फील्ड में मेरा एक्सपीरियंस कहता है कि हमारी अंदरूनी हेल्थ ही हमारी ब्यूटी का हिस्सा बनती है और ऐसे में आपके लिए ये भी बहुत जरूरी है कि आप अपनी स्किन के साथ-साथ अपनी फिजिकल एक्टिविटी को भी ध्यान में रखें। 

जब शरीर और मन हेल्दी रहेगा तब स्किन और बालों पर भी इसका असर दिखेगा। ग्लोइंग स्किन, घुंघराले बाल और छरहरी काया सब कुछ अंदरूनी खान-पान और एक्सरसाइज का नतीजा होते हैं। अगर आपके शरीर में सही पोषण नहीं है तो स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं होंगी, स्ट्रेस होगा और डैंड्रफ और एक्ने आदि की परेशानी होगी। ये सेल्युलाइट और डिहाइड्रेशन से भी जुड़ा हो सकता है। ये पिगमेंटेशन की समस्या से भी जुड़ सकता है। 

प्रकृति किसी डॉक्टर से कम नहीं और फल, सब्जियां, जरूरी पोषण जो कुछ भी हमें मौसम से चाहिए होता है वो हमें प्रकृति से मिल जाता है। 

सर्दियों में डाइट से जुड़े फायदे-

अगर सर्दियों की बात करें तो स्किन से जुड़े कई फायदे आपको मिलेंगे। सर्दियों में हमें वो सारे फल और सब्जियां मिलेंगी जो हमें ठंडे मौसम से बचाने का काम कर सकती हैं। विटामिन-सी हमारे इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है और हमें कफ और कोल्ड से बचा सकता है। 

diet and beauty

इसे जरूर पढ़ें- शरीर भूखा है या डिहाइड्रेटेड? जानें इन दोनों के बीच का अंतर और डाइट टिप्स

सर्दियों में हम भरपूर मात्रा में मौसमी खा सकते हैं जिसमें विटामिन-सी भरा हुआ है। इसी के साथ, हरी पत्तेदार सब्जियां भी मौजूद होती हैं जो आपको कई तरह के विटामिन दे सकती हैं। सर्दियों के सीजन की सब्जियां जैसे पालक, मेथी, सरसों का साग आदि अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। आपको ऐसा खाना चुनना है जो आपको सभी तरह के विटामिन और मिनरल दे सके। विटामिन-ए भी इन्हीं सब्जियों से मिलता है और ये आपकी सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है। 

इसी के साथ, आपको ध्यान रखना है कि आप इस सीजन में नारंगी रंग की सब्जियों और फलों को अपनी डाइट में शामिल करें जैसे पपीता, गाजर, कद्दू आदि। 

सर्दियों में आंवला भी बहुत आसानी से उपलब्ध होता है और ये विटामिन-सी का बहुत ही अच्छा स्रोत होता है। एक कच्चे पपीते का जूस आपको बहुत सारे विटामिन और मिनरल दे सकता है। इसी के साथ, आप डाइल्यूट कर आंवले का जूस भी ले सकते हैं। ये कहा जाता है कि आंवले का विटामिन-सी इतना स्ट्रांग होता है कि वो गर्मी से भी दूर नहीं होता और वो इम्यूनिटी के लिए काफी अच्छा साबित हो सकता है। 

सर्दियों में च्यवनप्राश का सेवन जरूर करें-

सर्दियों में आपको आंवला, पपीता और हरी सब्जियों के साथ च्यवनप्राश भी खाना चाहिए। ये 45 हर्बल एक्सट्रैक्ट्स के साथ आता है और इसलिए ये सर्दियों के मौसम में आपको इम्यूनिटी देने के काम आ सकता है। 

diet for exerciece

सर्दियों में आपको फलों और सब्जियों के जूस पर भी ध्यान देना चाहिए और अपने मील में सभी तरह के रंगों का इस्तेमाल करना चाहिए। उदाहरण के तौर पर हरी सब्जियां, लाल फल और सब्जियां, नारंगी फल और सब्जियां आदि। जूस ना सिर्फ आपको जरूरी न्यूट्रिएंट्स देगा बल्कि इससे शरीर डिहाइड्रेट भी नहीं होगा। 

सर्दियों में गर्म ड्रिंक्स-

सर्दियों में गर्म ड्रिंक्स भी आपकी काफी मदद कर सकते हैं। सूप और हर्बल टी इन दिनों में सबसे ज्यादा असरदार साबित हो सकती हैं। आप आलू, गाजर, शलजम, मटर, टमाटर आदि से मिक्स वेजिटेबल सूप बना सकती हैं। हॉट सूप सर्दियों में आपको पीने में भी अच्छा लगेगा और साथ ही साथ ये आपको कई सारे न्यूट्रिएंट्स देगा। आप थोड़ा सा दूध भी अपने सूप में मिला सकती हैं।  

diet and exercises

इसे जरूर पढ़ें- अपने बच्चों को कैसे बनाएं फिजिकली एक्टिव, जानें एक्सपर्ट टिप्स 

योग और मेडिटेशन से लाएं चेहरे पर रौनक- 

सही मानसिक स्वास्थ्य और स्ट्रेस से मुक्ति हमेशा अच्छी सेहत के लिए जरूरी होती है। ऐसे में पुराने समय के ऋषि-मुनि योग पर भरोसा करते थे। योग और मेडिटेशन एक ऐसा सुविधाजनक स्वरूप है जिससे हम अपने शरीर और मन के बीच सामंजस्य बैठा सकते हैं। मॉर्डन लाइफस्टाइल में भी योग एक बहुत ही बड़ी चीज़ माना जाता है। आपके शरीर और मन के लिए ये बहुत अच्छा है और प्राणायाम एक्सरसाइज आपके शरीर को गर्मी देने का काम कर सकती हैं। हालांकि, ये सभी योगा इंस्ट्रक्टर के गाइडेंस में ही सीखना चाहिए।  

सर्दियां असल में एक्सरसाइज करने के लिए अच्छा समय साबित हो सकती हैं। गर्मियों में ये मुश्किल लगती है, लेकिन सर्दियों में इसे करना आसान होता है। सर्दियों की हवा शरीर को अधिक एनर्जी और स्फूर्ति दे सकती है। तो अगर आप एक्सरसाइज करने का सोच रहे हैं तो सर्दियां एक बेहतरीन समय साबित हो सकता है।  

पर एरोबिक्स उम्र से जुड़ी एक्सरसाइज है इसलिए पहले डॉक्टर से संपर्क करें। जॉगिंग, रस्सी कूदना, साइकिल चलाना आदि सभी इसके अंतर्गत आ सकती हैं। एक्सरसाइज की अवधि बढ़ाने के लिए भी सही समय होता है। उदाहरण के तौर पर अगर आप रेगुलर वॉक पर जाते हैं तो ये वो समय है जब आप डिस्टेंस बढ़ा सकते हैं।  

Recommended Video

सही फिजिकल फिटनेस का मतलब है कि आपको एक ऐसा दिमाग मिलेगा जिससे आपको स्ट्रेस सही तरह से खत्म हो सकता है। इस मामले में कई स्टडीज हो चुकी हैं जो कहती हैं कि अगर लोग सही तरह से एक्सरसाइज करेंगे तो उनके व्यवहार में भी बदलाव आएगा और उनका कॉन्फिडेंस भी बढ़ेगा। मानसिक संतुष्टि के लिए भी ये बहुत जरूरी है।  

सही डाइट और रेगुलर एक्सरसाइज आपको बेहतरीन सेहत और ब्यूटी दे सकती है। ध्यान रखें कि हमारी अंदरूनी हेल्थ और बाहरी सुंदरता दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।