बदलते मौसम के साथ ही बाजार में हर जगह हरी सब्जियां दिखाई देने लगती हैं। सरसों के साग को देखकर मुंह में पानी आ जाता है और अगर इसे मक्‍के की रोटी और सरसों के साग के साथ खाया जाए, फिर तो सोने पर सुहागा हो जाता है। सर्दियों में सरसों का साग को गर्म रहने के लिए खाया जाता है। सरसों का साग तैयार करने के लिए बहुत सारी हरी सब्जियां को मिलाया जाता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि सरसों का साग अपने आप से थोड़ा कड़वा होता है, इसलिए साग में पालक, मेथी और बथुआ भी शामिल करने से कड़वाहट संतुलित होती हैं और यह सभी चीजें सरसों के साग को शक्तिशाली पोषण से भरपूर बनाते हैं। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि सरसों का साग आपकी हेल्‍थ के लिए भी अच्‍छा होता है। ये वेट लॉस में मदद करने से लेकर कोलेस्‍ट्रॉल को कंट्रोल करने तक और त्‍वचा को ग्‍लोइंग बनाने में मदद करता है। क्‍या सच में सरसों का साग हमारी हेल्‍थ के लिए फायदेमंद होता है, यह जानने के लिए हमने शालीमार स्थित फोर्टिस हॉस्पिटल की डाइटीशियन सिमरन सैनी से बात की। तब उन्‍होंने हमें इस बारे में विस्‍तार से बताया।

एक्‍सपर्ट की राय

सिमरन सैनी जी का कहना है कि ''सरसों का साग का विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन ई का पावरहाउस है। यह हमारी आंखों, त्वचा और बालों के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है। यह आयरन और कैल्शियम से भी भरपूर होता है और इस तरह यह हड्डियों की हेल्‍थ और हीमोग्लोबिन के लेवल को बनाए रखने में मदद करता है। फाइबर से भरपूर होने के कारण यह डाइजेस्टिव सिस्‍टम को साफ रखने में मदद करता है और पेट को लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराता है। इसके अलावा साग में डाला जाने वाला घी सर्दियों में एक्‍स्‍ट्रा फायदे देता है और हमारे शरीर को गर्म और लुब्रिकेंट बनाए रखता है।'' इस आर्टिकल के माध्‍यम से हम आपको सरसों का साग खाने के कुछ फायदे विस्‍तार से बता रहे हैं।

sarso ka saag benefits inside

पोषक तत्‍वों का पावरहाउस है सरसों का साग

जैसा कि आपको सिमरन सैनी जी भी बता चुकी हैं कि सरसों के साग में इतने सारे पोषक तत्‍वों के मौजूद होने के कारण इसे खाना बहुत फायदेमंद होता है। इसमें बहुत सारे फिनोल्स और फ्लेवोनोइड्स होते हैं। यह आहार फाइबर, प्रोटीन, विटामिन के, मैंगनीज, कैल्शियम, विटामिन बी 6, विटामिन सी और कई और अधिक पोषक तत्वों से भरपूर होता है।

इसे जरूर पढ़ें: Diet Tips: वेट लॉस से लेकर झुर्रियों को भगाने तक सर्दियों के इन 5 साग के हैं ये 5 फायदे

आहार फाइबर का सबसे अच्‍छा स्रोत

हाई मात्रा में फाइबर की मौजूदगी के कारण, जो लोग सरसों का साग का सेवन करते हैं उन्हें कब्ज और कोलन कैंसर होने की आशंका कम होती है। यह शरीर में पर्याप्त मल त्याग सुनिश्चित करता है। जैसा कि आहार फाइबर धमनियों को साफ करता है, यह पत्तेदार हरा साग ब्‍लड प्रेशर के स्तर को सक्षम करता है और इस प्रकार हाई ब्‍लड प्रेशर या हृदय रोग का खतरा कम करता है।

sarso ka saag for weight loss inside

फाइटोकेमिकल्स की प्रचुरता

सरसों के साग में फाइटोन्यूट्रिएंट्स - ग्लूकोसाइनोलेट्स और फिनोल प्रचुर मात्रा में होते हैं। ये फाइटोन्यूट्रिएंट्स शरीर को बीमारियों से बचाते हैं और शरीर को भीतर से मजबूत करते हैं।

वजन होता है कम

सरसों के साग में हाई मात्रा में फाइबर होने के कारण इसका सेवन मेटाबॉलिज्‍म को नियमित करने में मदद करता है और इस तरह शरीर का वजन सही रहता है।

कोलेस्‍ट्रॉल से बचाता है

खराब या एलडीएल कोलेस्ट्रॉल से बचाने में सरसों का साग आपकी मदद करता है। यह शरीर को बाइल बाइडिंग प्रक्रिया को कुशलता से पूरा करने में मदद करता है। यह शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने में मदद करता है।

sarso ka saag rich with vitamin c inside

विटामिन ए और सी से भरपूर

ये दो मजबूत एंटीऑक्सीडेंट शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव को रोकते हैं जो शरीर में महत्वपूर्ण कार्यों और टिशू को नुकसान पहुंचाने वाले फ्री रेडिकल्‍स के कारण होता है।

शरीर को डिटॉक्सीफाई करता है

इस हरी सब्जी में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो शरीर को प्राकृतिक रूप से डिटॉक्स करने में मदद करते हैं, टॉक्सिन को खत्म करते हैं और शौच के माध्यम से छुटकारा दिलाते हैं। यह शरीर में केमिकल्‍स और हैवी मेटल्स को बेअसर करने में भी मदद करता है।

 

इम्‍यूनिटी को करता है मजबूत

सरसों के साग में विटामिन सी की मात्रा में इम्‍यूनिटी बढ़ाने वाले गुण होते हैं जो शरीर को सेल डैमेज से बचाते हैं, इसे भीतर से मजबूत करते हैं और कैंसर जैसे रोगों की शुरुआत को रोकते हैं। यह सर्दी और फ्लू जैसे मौसमी और वायरल संक्रमणों को रोकता है।

sarso ka saag stomach inside

अस्थमा के रोगियों के लिए मददगार

सरसों के साग में विटामिन सी एंटी-इंफ्लेमेटरी पदार्थ, हिस्टामाइन के टूटने में मदद करके अस्थमा से जूझ रहे लोगों के लिए बहुत अच्‍छा होता है। इसके अलावा, मैग्नीशियम मौजूद होने के कारण यह ब्रोन्कियल नलियों और फेफड़ों को आराम देने में मदद करता है। इसके अलावा नाक की एलर्जी का मतलब साइनस सूजन के लिए एक खुला निमंत्रण है। लेकिन जब सरसों यहां है तो डर क्यों। वर्ल्ड एलर्जी ऑर्गेनाइजेशन जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन बताता है कि विटामिन सी साइनस एलर्जी पर अंकुश लगा सकता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि सरसों का साग विटामिन सी से भरपूर होता है।

इसे जरूर पढ़ें: 9 तरह के ऐसे साग, जिनको खाया जाता है, जानें आप भी इनके बारे में

मुंहासे को भी रोक सकता है

सरसों का साग हेल्‍थ के लिए ही नहीं बल्कि त्‍वचा के लिए भी अच्‍छा होता है। इसमें फाइबर की बहुत अधिक मात्रा शरीर को डिटॉक्स करती है, जबकि इसके विटामिन सीबम उत्पादन को नियंत्रित करते हैं। इससे आप मुंहासों की समस्‍या से बची रहती हैं और चेहरे पर ग्‍लो भी आता है। 

आप भी सरसों के साग को अपनी डाइट में शामिल करके ये अद्भुत लाभ पा सकती हैं। डाइट से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए आपकी अपनी वेबसाइट हरजिंदगी से जुड़ी रहें।