गेंदे के फूलों का घर के कई कामों में इस्तेमाल करना व इससे तैयार फेस पैक्स और हेयर मास्क से खूबसूरती में चार चाँद लगाना एक आम बात है और आप सभी इसके फूलों का इस्तेमाल जरूर करती होंगी। लेकिन क्या आप जानती हैं इसके फूलों से तैयार की गई चाय के सेवन के भी कई स्वास्थ्य लाभ हैं। इसलिए डाइटीशियन इसे अपनी डाइट में शामिल करने की सलाह देते हैं। 

इसकी चाय गेंदे के फूलों की पंखुड़ियों को पानी में उबालकर तैयार की जाती है जिससे फूल के कई पोषक तत्व इसमें आ जाते हैं और हमारे शरीर के लिए प्रभावी रूप से काम करते हैं। इसके थोड़े कड़वे स्वाद के बावजूद, गेंदे के फूलों की चाय एक पारंपरिक उपचार है जिसका उपयोग लोक चिकित्सा में इसके चिकित्सीय गुणों के कारण किया जाता है। आइए फैट टू स्लिम ग्रुप की सेलिब्रिटी इंटरनेशनल डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिष्ट शिखा ए शर्मा से जानें इस चाय के सेहत के लिए फायदों के बारे में। 

कैंसर से सुरक्षा 

mari gold flower tea

गेंदे के फूलों में फ्लेवोनोइड्स नामक तत्व मौजूद होते हैं।  इन तत्वों को कोलोन कैंसर, ल्यूकीमिया और मेलेनोमा कोशिकाओं के खिलाफ साइटोटॉक्सिक, एंटी इन्फ्लेमेट्री और निरोधात्मक गतिविधियों का प्रदर्शन करने के लिए अच्छा स्रोत माना जाता है। गेंदे के फूलों की चा का सेवन करने से कैंसर की बीमारी का खतरा काफी हद तक कम किया जा सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips : मानसून में खुद को हाइड्रेटेड रखने के लिए ट्राई करें ये हेल्दी ड्रिंक्स

पीरियड्स कण्ट्रोल करे 

good for periods

गेंदे के फूलों की चाय गैस्ट्राइटिस, एसिड रिफ्लक्स और अल्सर के इलाज के साथ-साथ पेट या मासिक धर्म की ऐंठन को कम करने के लिए भी फायदेमंद है। पीरियड्स के दौरान इस चाय का सेवन कई समस्याओं से निजात दिलाता है और मेंस्ट्रुअल फ्लो को भी नियंत्रित करने में मदद करता है। 

दांतों का दर्द कम करे 

डेंटन में दर्द की समस्या होने पर गेंदे के फूलों की चाय को हल्का ठंडा करें और इससे कुल्ला करें। प्रभावित दांत में थोड़ी देर तक ये चाय रखें और थोड़ी देर बाद इसे मुंह से बाहर थूक दें। इससे दांत में दर्द से राहत मिलने के साथ दांतों के इन्फेक्शन से भी बचाव हो सकता है। 

त्वचा के लिए फायदेमंद

mari gold tea natural beauty 

गेंदे के फूलों की चाय त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद है। इसके नियमित सेवन से त्वचा सम्बन्धी कई विकारों से छुटकारा मिलता है। साथ ही, इसे ठंडा करके चेहरे पर टोनर की तरह इस्तेमाल करने से त्वचा में ग्लो भी आता है। ये चेहरे की भीतर से सफाई करके खूबसूरत त्वचा प्रदान करती है। इसका ये प्रभाव इसकी एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज़ की वजह से होता है। गेंदे के फूल के एंटीऑक्सिडेंट और एसपीएफ़ त्वचा की क्षति को कम कर सकते हैं, त्वचा की उम्र बढ़ने का मुकाबला कर सकते हैं और स्किन रैश का इलाज कर सकते हैं।

एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

mari gold tea

एंटीऑक्सिडेंट लाभकारी यौगिक हैं जो आपके शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव के हानिकारक प्रभावों को बेअसर करते हैं। गेंदे के अर्क में कई शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जिनमें ट्राइटरपेन्स, फ्लेवोनोइड्स, पॉलीफेनोल्स और कैरोटेनॉइड्स शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, यह ट्यूमर नेक्रोसिस फैक्टर अल्फा जैसे विरोधी भड़काऊ यौगिकों का दावा करता है। जबकि सूजन एक सामान्य शारीरिक प्रतिक्रिया है, पुरानी सूजन कई स्थितियों से जुड़ी होती है, जिसमें मोटापा, चयापचय सिंड्रोम और टाइप 2 मधुमेह शामिल हैं। एक अध्ययन में इस फूल की चाय के सेवान ने ऑक्सीडेटिव तनाव को काफी कम कर दिया और एंटीऑक्सीडेंट के स्तर में कमी को वापस कर दिया।

इसे जरूर पढ़ें:गेंदे के फूल के कुछ ऐसे फायदे जो आपने पहले कभी नहीं सुने होंगे

Recommended Video

गेंदे के फूलों की चाय 

आवश्यक सामग्री 

  • गेंदे के फूल - 4 -5 
  • पानी -2 गिलास 
  • शहद -वैकल्पिक (आवश्यकतानुसार )

बनाने का तरीका 

gende ki tea

  • एक पैन में पानी डालें और गैस में उबलने के लिए रखें। 
  • इस पानी में गेंदे के फूलों की पंखुड़ियां अलग करके डालें। 
  • पानी को अच्छी तरह से उबलने दें। कम से कम 5 मिनट तक इसे ढककर धीमी गैस पर उबलने दें। 
  • पानी जब अच्छी तरह उबाल जाएगा तब इसमें गेंदे की पंखुड़ियों का एसेंस आ ने लगेगा और पानी का रंग बदलने लगेगा। 
  • इसे तब तक उबालें जब तक कि पानी आधा न रह जाए। 
  • गैस बंद कर दें और इसका सेवन करें। आप चाहें तो इसमें शहद मिला सकती हैं क्योंकि इसका स्वाद थोड़ा कड़वा होता है। 

इस चाय का सेवन दिन में 2 बार करें एक बार सुबह और एक बार रात के खाने के कम से कम 1 घंटे बाद इसे पीना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले विशेषज्ञ की सलाह लेना न भूलें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik