अंडा प्रोटीन का पावरहाउस माना जाता है और इसलिए हर किसी को इसे डाइट में शामिल करने की सलाह दी जाती है। वैसे अंडा देखने में भले ही एक छोटी सी चीज लगे, लेकिन वास्तव में इसे कई तरह से बनाया और खाया जाता है। कभी लोग नाश्ते में इससे आमलेट बनाते हैं तो कभी हाफ बॉयल एग खाना पसंद करते हैं। इसी तरह ब्रेड आमलेट से लेकर अंडे की सब्जी को भी खाया जाता है। वैसे तो अंडे में प्रोटीन के अलावा भी कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो आपकी ओवर ऑल हेल्थ के लिए फायदेमंद होते हैं। लेकिन कुछ लोग अंडे को बनाते समय उसकी जर्दी को बाहर कर देते हैं। दरअसल, अंडे की जर्दी में कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर होता है और इसलिए, कुछ लोग अंडे की जर्दी खाने से बचते हैं। वहीं कुछ लोग अंडे की जर्दी को एग व्हाइट से भी ज्यादा हेल्दी मानते हैं। तो चलिए आज हम आपको अंडे की जर्दी बनाम अंडे की सफेदी के कई स्वास्थ्य लाभ बताने जा रहे हैं। इस लेख को पढ़ने के बाद आप यह अच्छी तरह समझ पाएंगी कि आपको एग व्हाइट खाना चाहिए या एग यॉक या फिर दोनों को डाइट में शामिल करना चाहिए-

एग व्हाइट

 eggs inside

एक अंडे की बाहरी परत को एग व्हाइट कहा जाता है। जो लोग अधिक हेल्थ कॉन्शियस होते हैं, वे अक्सर केवल अंडे का सफेद भाग खाते हैं और अंडे की जर्दी को छोड़ देते हैं। ऐसा भी माना जाता है कि अंडे की जर्दी का सेवन करने से वजन बढ़ता है। जबकि अंडे का सफेद हिस्सा वसा रहित होता है। साथ ही इसमें कम कैलोरी होती है और यह खराब कोलेस्ट्रॉल को दूर रखता है। इतना ही नहीं, एग वाइट पोटेशियम से भरपूर होता है जो ब्लड प्रेशर लेवल को बनाए रखने में मदद करता है। अंडे की सफेदी में मांसपेशियों के निर्माण की क्षमता होती है, इसलिए जिन लोगों को भारी कसरत की आदत होती है वे अंडे की सफेदी खा सकते हैं। अंडे की सफेदी में राइबोफ्लेविन विटामिन माइग्रेन सिरदर्द को ठीक करने में मदद करता है और मोतियाबिंद को रोकता है। ऐसे में अंडे का सफेद भाग यकीनन हेल्थ के लिए काफी बेनिफिशियल होता है।

इसे जरूर पढ़ें: दिवाली पर बनाएं ये क्रिस्पी और क्रन्ची स्नैक्स, बच्चों के साथ-साथ बड़ों को भी आएंगे पसंद

एग यॉक या अंडे की जर्दी

 eggs inside

अंडे की जर्दी में कैलोरी की काफी अधिक मात्रा होती है।  अंडे की जर्दी में 55 कैलोरी तक होती है जबकि एग व्हाइट में मात्र 17 कैलोरी पाई जाती है। इसके अलावा, इनमें कोलेस्ट्रॉल स्तर उच्च होता हैं और आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर होने से आपको दिल की बीमारियाँ होने का खतरा होता है। इसलिए लोग इसे खाने से बचते हैं। हालांकि एक सच यह भी है कि अंडे की जर्दी में अंडे की सफेदी की तुलना में पोषक तत्वों और खनिजों की मात्रा अधिक होती है। अंडे की जर्दी में विटामिन बी 6, बी 12, ए, डी, ई और के जैसे पोषक तत्व अधिक होते हैं। यह कैल्शियम, मैग्नीशियम, लोहा और सेलेनियम से भरपूर होता है। आपको शायद पता ना हो लेकिन अंडे की जर्दी में लगभग 90 फीसदी पोषक तत्व होते हैं और बाकी 10 फीसदी अंडे की सफेदी में पाए जाते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: गेहूं के आटे से बनाएं ये फ्लेवर्ड मठरी, चाय के साथ के लिए होगा परफेक्ट नाश्ता

Recommended Video

क्या खाएं

 eggs inside

अब सवाल यह उठता है कि अंडे की जर्दी और एग व्हाइट में से क्या खाया जाए और क्या छोड़ा जाए। चूंकि अंडे की जर्दी में अधिकांश पोषक तत्व पाए जाते हैं, इसलिए इसे पूरी तरह से छोड़ देना या डाइट से बाहर कर देना उचित नहीं है। हालांकि, इसके उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर के कारण बेहतर होगा कि आप इसे मॉडरेशन में खाएं। वहीं, अगर आप दिल की बीमारियों से ग्रस्त हैं या अतीत में हार्ट सर्जरी से गुजर चुकी हैं, तो अंडे की जर्दी को छोड़ना और एग व्हाइट का सेवन करना अधिक बेस्ट ऑप्शन है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik