खाने में शामिल फैट का नाम सुनते ही आपके मन में मोटापा और इससे लगने वाली बीमारियां, पेट बाहर निकलना, कोलेस्ट्रॉल बढ़ना आदि जैसी कई छवियां या धारणा मन में बनने लगती होंगी और आप यह सोच कर परेशान हो जाते होंगे और उस फूड आइटम को न खाने का फैसला भी ले लेते होंगे।

आमतौर पर देखा जाए तो यह धारणा कई लोग अपने मन में बना चुके हैं कि फैट का सेवन करना मतलब बीमारी को दावत देना है। लोग फैट को सेहत के लिए हानिकारक मानते हैं, मगर यह धारणा गलत है। फैट दो प्रकार के होते हैं। गुड फैट और बैड फैट लेकिन इनकी समझ होना जरूरी है। आप अपनी डाइट में गूड फैट को शामिल करके फायदा उठा सकते हैं। कुछ अच्छे फैट शरीर के लिए बहुत फायदेमंद और ज़रूरी होते हैं। तो चलिए, आज हम आपको बताते हैं फैट से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें, जिनके बारे में जानना बहुत ज़रूरी है।

क्या है फैट?

inside  what is fat

फैट एक तरह का कार्बनिक पदार्थ है जो ऑक्सीजन और कार्बन हाइड्रोजन से मिलकर बना होता है। फैट इंसान को एनर्जी देने का काम करता है यानी बॉडी को चार्ज करता है। जब आप  भाग-दौड़, व्यायाम या अन्य किसी भी तरह का काम करते हैं तो शरीर को ईंधन की ज़रूरत पड़ती है। यह ज़रूरत फैट पूरी करता है। तो आपको समझ आ ही गया होगा कि आखिर ये फैट होता क्या है।

फैट कितने प्रकार के होते हैं?

आप सोच रहे होंगे कि फिर क्यों फैट को खतरे की घंटी कहा जाता है? तो हम आपको बता दें कि, शरीर में फैट की मात्रा पर इसके प्रभाव निर्भर करते हैं। जैसे अगर आपकी बॉडी में फैट की मात्रा कम होगी तो आप कमज़ोर पड़ जाएंगे। ऐसे ही अगर इसकी मात्रा ज़्यादा होगी तो आपके शरीर में अनेक तरह की बीमारियों हो सकती है। साथ ही ये भी जान लें कि फैट की कई तरह की प्रकृति होती है, तो चलिए हम आपको इसके बारे में  बताते हैं-

सैचुरेटेड फैट

inside  how many type of Fat

सैचुरेटेड फैट को सॉलिड फैट के नाम से भी जाना जाता है। ये फैट आमतौर पर जानवरों से मिलने वाले उत्पादों जैसे दूध, दही, चीज़, मीट, अंडा आदि में पाया जाता है। नारियल का तेल, बटर में भी ये फैट होता है। सैचुरेटेड फैट को सही मात्रा में लेना बहुत ज़रूरी है वर्ना कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ा सकता है। कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ने के कारण इसे 'बैड फैट' भी कहते हैं।

इसे ज़रूर पढ़ें-खाली पेट काजू खाने से होते हैं ये 6 लाभ, आप भी रोजाना जरूर खाएं

ट्रांस फैट

inside  fat

ट्रांस फैट स्वास्थ्य के लिए हानिकारक पदार्थ है। इस फैट को ट्रांस फैटी एसिड के नाम से भी जाना जाता है । ये आपके शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकता है क्योंकि इसकी वजह से कई गंभीर बीमारियां हो जाती हैं।

Recommended Video

अनसैचुरेटेड फैट

inside  fat facts

अनसैचुरेटेड फैट का सेवन हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होता है। अनसैचुरेटेड फैट को ही 'गुड फैट' कहा जाता है। ये फैट शरीर में कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम करता है। इसलिए हमें इस फैट का सेवन करना चाहिए। ये ज़्यादातर नट्स व वेजिटेबल ऑयल, सोयाबीन, मछली आदि में पाया जाता है।

इसे ज़रूर पढ़ें-रोज सुबह पीएंगी 'त्रिफला का पानी' तो होंगे ये फायदे

फैट से जुड़े अन्य फैक्ट

1- हमारे शरीर के लिए फैट एक महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि बॉडी का नर्वस सिस्टम फैट की परत से ढका होता है।

2- कई शोध के मुताबिक डाइट में लगभग 2000 कैलोरी की ज़रूरत होती है जिसमें से हमें लगभग 33% से 40% कैलोरी फैट से लेनी चाहिए।

3- फैट्स से बॉडी को विटामिन-डी, ए, के और ई मिलता है।

4- फैट सेहत के लिए बुरा नहीं होता अगर इसका सही मात्रा में सेवन किया जाए तो इसके कई फायदे हैं और अनसैचुरेटेड फैट्स सेहत के लिए बहुत लाभदायक है।

5- बच्चों के दिमाग और उसके विकास के लिए फैट बहुत ज़रूरी है।

6-  एक शोध के मुताबिक रोज़ पुरुष को लगभग 90 से 95 ग्राम फैट और महिला को 70 ग्राम फैट की ज़रूरत होती है। साथ ही 7 से 10 उम्र के बच्चों को लगभग 70 ग्राम फैट लेना चाहिए।

आपको फैट के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी हो ही गई होगी। जब भी आप अपने आहार में फैट लें तो इसकी मात्रा का खास ध्यान रखें। लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर और लाइक ज़रूर करें, साथ ही ऐसी अन्य जानकारी पाने के लिए जुड़े रहें हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik