अगर हम आयुर्वेद के अनुसारअपने खान-पान का ध्यान रखें, तो कई बीमारियों से लड़ सकते हैं। आयुर्वेद के अनुसार हमें ठंडी स्मूदी का सेवन नहीं करना चाहिए, लेकिन डॉक्टर वरालक्ष्मी ने अपने इंस्टाग्राम पर कुछ आसान टिप्स बताई हैं, जिससे आप स्मूदी को हेल्दी और टेस्टी बना सकते हैं। आयुर्वेद के अनुसार ठंडी स्मूदी हमारे शरीर की अग्नि को कम करता है और दूध के साथ खट्टे फलों को खाना भी नुकसानदायक होता है। अगर हमारा पाचन तंत्र बेहतर रहता है, तो हमें सभी बीमारियों से लड़ सकते हैं। इसके लिए आप डॉक्टर वरालक्ष्मी की टिप्स से अपनी स्मूदी को आयुर्वेदिक बना सकती हैं।

स्टीम किए हुए फलों की स्मूदी

 ayurvedic smoothie inside

डॉक्टर वरालक्ष्मी ने बताया कि आपको हमेशा स्मूदी बनाने के लिए स्टीम किए हुए फलों का सेवन करना चाहिए बजाए कच्चे फलों के। ऐसा करने से हमारे शरीर की अग्नि सही रहती है और स्वास्थ बेहतर बना रहता है। आयुर्वेदिक स्मूदी के लिए आप सीजन में आने वाले फलों का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा हरे फल जैसे सेब, नाशपाती, बैरी आदि का इस्तेमाल करना आपके लिए बेहतर होगा। जब भी आप स्मूदी बनाएं, उससे पहले फलों को स्टीम कर लें।

फलों या सब्जियों की स्मूदी

जब भी हम स्मूदी की बात करते है, तो सोचते हैं कि उसमें फल और सब्जियां ज्यादा शामिल करें। लेकिन डॉ वरालक्ष्मी के अनुसार आपको केवल फलों की या केवल सब्जियों की स्मूदी बनानी चाहिए। गाय या भैंस के दूध के बजाए आपको ओट-मिल्क, कोकोनट मिल्क या कोई भी आयुर्वेदिक मिल्क इस्तेमाल करना चाहिए। अगर आप साधारण दूध से स्मूदी बनाते हैं, तो यह सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है।

इसे जरूर पढ़ें: शहद को गरम करके न करें सेवन, एक्सपर्ट से जानें ऐसी अन्य टिप्स

स्मूदी में हेल्दी मसाले मिलाएं

 ayurvedic smoothie inside

अक्सर हम ठंडी स्मूदी पीना पसंद करते हैं, जो पेट खराब होने का कारण बनती है। लेकिन अगर आप अपनी स्मूदी को हेल्दी बनाना चाहती हैं, तो उसमें हल्दी, अदरक, दालचीनी या धनिया मिला सकती हैं। इससे पाचन तंत्र तो अच्छा रहेगा ही बल्कि स्किन भी ग्लोइंग बनेगी। डॉक्टर वरालक्ष्मी ने बताया कि गर्मियों में साधारण पानी से ही स्मूदी बनाना लाभकारी होता है। अगर आपको स्पाइसी स्मूदी पसंद है, तो सर्दियों में अदरक का सेवन अधिक कर सकते हैं।

कम सामग्री का इस्तेमाल करें

हम अक्सर स्वाद बढ़ाने के लिए स्मूदी में तरह-तरह के इंग्रीडिएंट्स मिलाते हैं, लेकिन यह हेल्थ खराब करता है। डॉक्टर वरालक्ष्मी ने बताया कि आपको स्मूदी में साधारण दूध, फल, प्रोटीन पाउडर और नट्स का एक साथ उपयोग कम से कम करना चाहिए। अगर आप चाहें कि किसी भी एक फूड को अपनी स्मूदी में शामिल कर सकती हैं। स्मूदी में जितनी कम फैट वाली चीजें होंगी उतना ही सेहत के लिए अच्छा है।

इसे जरूर पढ़ें: आपकी सेहत के लिए कितनी फायदेमंद होती है खट्टी गोभी, जानें इसके हेल्थ बेनिफिट्स

Recommended Video

कौन-सी स्मूदी है बेस्ट?

 ayurvedic smoothie inside

डॉक्टर वरालक्ष्मी ने बताया कि आपको सीजन के मुताबिक ही स्मूदी पीनी चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार जिन लोगों को काफा मजबूत होता है, उन्हें ग्रीन स्मूदी पीनी चाहिए जो पाचन तंत्र अच्छा करती है। स्प्रिंग सीजन में ग्रीन स्मूदी, अदरक और शहद वाली स्मूदी अच्छी होती हैं। गर्मियों में मीठी यानि फलों की स्मूदी और दालचीनी वाली स्मूदी पीना अच्छा रहता है।

तो आप कौन-सी स्मूदी पीने वाले हैं यह हमें जरूर बताएं। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।