गर्मियों में तापमान ज्यादा रहने की वजह से महिलाओं को कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स का सामना करना पड़ता है। इस सीजन में इनडाइजेशन की समस्या ज्यादा रहती है और गर्मी की वजह से कई बार कुछ खाने का भी मन नहीं करता। गर्मियों में धूप से बचने के लिए महिलाएं ज्यादातर घर में रहना पसंद करती हैं और ऐसी स्थिति में उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। ऐसी स्थितियों में अगर डाइट में प्रोटीन हेल्दी तरीके से शामिल किया जाए तो ना सिर्फ इम्यूनिटी और हेल्थ बरकरार रहते हैं, बल्कि वेट लॉस का भी फायदा मिलता है। दरअसल इस सीजन में मेटाबॉलिज्म हाई रहता है और इसी वजह से वेट लॉस करना आसान हो जाता है।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

protein diet for good health

मुंबई की जानी-मानी न्यूट्रिशनिस्ट शिल्पा मित्तल बताती हैं, 

'सभी लोगों को अपने बॉडी वेट के हिसाब से 1 gm प्रति किलो के हिसाब से लेना चाहिए। गर्मियों में हम जिन स्रोतों से प्रोटीन लेते हैं, उन पर हमें ध्यान देना चाहिए। मसलन अगर गर्मियों में अंडे का सेवन ज्यादा किया जाए तो यह गर्मी करता है। चूंकि इस सीजन में डाइजेशन थोड़ा वीक हो जाता है, इसीलिए प्रोटीन डाइट पर विशेष ध्यान देना चाहिए। मसलन अगर किसी को स्प्राउट्स खाने में परेशानी होती है, तो वे हल्की और आसानी से पचने वाली दाल जैसे कि मूंग या मसूर दाल ले सकती हैं। ये दाल शरीर को कूल भी करती हैं। इसके अलावा दही और छाछ ली जा सकती है।'

इसे जरूर पढ़ें: इन फूड्स को डाइट में शामिल करने से मन रहेगा शांत, दिमाग को मिलेगा सुकून

डेयरी प्रोडक्ट्स इस तरह से लें

milk benefits

शिल्पा मित्तल के अनुसार जिन महिलाओं को दूध सूट करता है, वे नियमित रूप से इसका सेवन करें। वहीं जिन्हें दूध हैवी लगता है, वे इसकी क्वांटिटी एक कप भी ले सकती हैं। खाना खाने के बाद दूध थोड़ा गैप में लें। दूध को डाइजेस्टिव बनाने के लिए आप उसमें मुनक्का, खजूर या अंजीर मिला सकती हैं। गाय का दूध भी सेहत के लिए अच्छा रहता है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि जीरो फैट दूध ना लें, क्योंकि इसका शरीर को कोई फायदा नहीं होता। इस मौसम में फुल फैट दूध की जगह सेमी फैट दूध लेना बेहतर है। इसी तरह अगर पनीर हैवी लगता है तो लो फैट पनीर अपनी डाइट में शामिल किया जा सकता है। 

Recommended Video

 

अच्छी तरह से पकी हुई हो दाल

कई बार दालें या खाना कच्चा रह जाता है। अधपकी दाल गर्मियों में हेल्थ प्रॉब्लम बढ़ा सकती है, इसीलिए इस बात का ध्यान रखें कि दाल ठीक तरीके से पक गई हो। अगर मूंग दाल को स्प्राउट करके उसका इस्तेमाल किया जाए तो वह बेहतर तरीके से डाइजेस्ट होती है। 

इसे जरूर पढ़ें: ये 5 आसान टिप्स अपनाएं और अपनी स्मूदी को हेल्दी और पौष्टिक तत्वों से युक्त बनाएं   

छोले बनाएं तो इन बातों का ध्यान रखें

छोले खाने में काफी टेस्टी लगते हैं। इसीलिए महिलाएं घर में अक्सर छोले की डिश बनाती हैं, लेकिन इसे पचाना आसान नहीं होता। शिल्पा मित्तल बताती हैं, 'छोले बनाने से पहले उन्हें 10-12 घंटे भिगोएं। भिगोने के दौरान पानी में अक्सर झाग बन जाता है। इस पानी को बार-बार बदलना चाहिए, क्योंकि यह गैस फॉर्म करता है। अच्छी तरह से भिगोए जाने और कुक करके खाने से छोले पेट के लिए बहुत ज्यादा हैवी नहीं रहते।'

इन आसान डाइट टिप्स को फॉलो करके आप गर्मियों में प्रोटीन का सेवन बरकरार रख सकती हैं और हेल्दी रह सकती हैं। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे जरूर शेयर करें। हेल्थ और न्यूट्रिशन से जुड़ी अन्य अपडेट्स के लिए विजिट करती रहें हरजिंदगी।