ब्लड शुगर लेवल का बढ़ना इन दिनों सबसे ज्यादा बड़ी समस्या बनकर सामने आ रहा है। एक तरह से देखा जाए तो डायबिटीज की समस्या भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में अपने पैर पसार रही है। ब्लड शुगर लेवल कई कारणों से बढ़ता है और अगर इसे सही समय पर ठीक न किया जाए तो ये बहुत सारी अन्य बीमारियों का कारण बन सकता है। 

जब आपको डायबिटीज होती है तो आपका ब्लड शुगर लेवल लगातार बढ़ता चला जाता है और समय के साथ-साथ ये शरीर को काफी डैमेज कर सकता है।

इस विषय के बारे में हमने सर्टिफाइड क्लीनिकल डायटीशियन, लेक्चरर, डायबिटीज एजुकेटर, मीट टेक्नोलॉजिस्ट और NUTR की फाउंडर लक्षिता जैन से बात की और ये जानने की कोशिश की कि आखिर ब्लड शुगर लेवल को नेचुरली कैसे कंट्रोल किया जा सकता है। 

क्या होता है नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल?

100 mg/dL से कम (8 घंटे की फास्टिंग के बाद) और 140 mg/dL से कम (खाने के दो घंटे बाद) अगर है तो इसे नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल माना जा सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें- कैसे पता करें आपकी किडनी सही तरह से कर रही है काम? 

how to control blood sugar

अगर आपका ब्लड शुगर लेवल ज्यादा बढ़ता है तो शरीर में ब्लड वेसल्स डैमेज हो जाती हैं और उसके कारण ये समस्याएं होती हैं-

  • किडनी की बीमारी और किडनी फेलियर हो सकता है। 
  • स्ट्रोक का खतरा बढ़ सकता है। 
  • हार्ट अटैक का खतरा बढ़ सकता है। 
  • आंखों की रोशनी पर भी शुगर की वजह से फर्क पड़ता है। 
  • इम्यून सिस्टम पर बढ़े हुए ब्लड शुगर लेवल का असर पड़ता है। 
  • इरेक्टाइल डिसफंक्शन हो सकता है। 
  • नर्व डैमेज हो सकता है और न्यूरोपैथी की जरूरत पड़ सकती है। 
  • हाथ और पैरों में झनझनाहट हो सकती है। 
  • किसी घाव का देर से भरना और कुछ केस में गैंग्रीन जैसी समस्याओं का होना भी पॉसिबल है।  

Recommended Video

कैसे कंट्रोल करें ब्लड शुगर लेवल नैचुरली- 

लक्षिता जैन के मुताबिक कुछ ऐसे तरीके हैं जिनसे आप अपने ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल कर सकते हैं, लेकिन आपको इस बात का ध्यान जरूर रखना चाहिए कि दो से ज्यादा नेचुरल होम रेमेडीज को एक साथ नहीं जोड़ना चाहिए क्योंकि इससे हाइपो-ग्लाइसीमिया (शुगर लेवल का कम हो जाना) हो सकता है और साथ ही साथ आप अपने रूटीन में बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले लें। नेचुरल रेमेडीज ऐसी हो सकती हैं- 

controlling blood sugar naturally

  • अगर आपको रोटी और चावल दोनों पसंद है तो आप खाने से 10 मिनट पहले दालचीनी का पानी पी सकते हैं जिससे इंसुलिन का बढ़ना रुक जाएगा। 
  • अपने खाने में हल्दी जरूर इस्तेमाल करें या फिर सुबह सबसे पहले उठकर उबले पानी में थोड़ी सी हल्दी डालकर पिएं। 
  • 2-3 कच्चे लहसुन की कलियां रोज़ाना खाएं। 
  • दिन में तीन बार ½ कप करेले का जूस पी सकते हैं। 
  • 2 चम्मच मेथी दाने को 1 ग्लास पानी में भिगोकर रात भर रख दें और सुबह सबसे पहले वही पानी पिएं। 
  • अंगूर डायबिटीज के मरीजों के लिए अच्छा हो सकता है और आप दिन में 3 बार 3-3 अंगूर करके खाएं। 
  • 1 चम्मच आंवला जूस को 1 कप करेले के जूस में मिलाएं और इसे रोज़ाना दो महीने तक पिएं। इससे नेचुरली ब्लड शुगर लेवल कम होता जाएगा। 
  • आम की सूखी पत्तियों का पाउडर बनाएं और इस पाउडर को आधा चम्मच दिन में दो बार पानी के साथ लें। 
  • 3-4 चम्मच करेले का जूस सुबह खाली पेट पीना फायदेमंद होता है। 
  • 10-12 करी पत्ते रोज़ाना खाएं, इन्हें सुबह खाली पेट कच्चा चबाना है। 
  • रोज़ाना 8-10 तुलसी की पत्तियां सुबह खाली पेट खाएं।  

इसे जरूर पढ़ें- Expert Tips: अपने किचन से तुरंत हटाएं ये 5 चीज़ें, सुधरने लगेगी परिवार की सेहत  

किस तरह का दूध पीना होगा बेहतर? 

ब्लड शुगर लेवल दूध पीने से बढ़ता है और ऐसे में आप नॉर्मल दूध की जगह स्किम्ड मिल्क (फैट % 0.5% से कम), नट मिल्क (बादाम का दूध सबसे बेस्ट होगा) या फिर ऊंट का दूध (नेचुरल इंसुलिन) ट्राई करें। कुछ दिनों के लिए गाय, भैंस आदि के दूध को लेना बंद कर दें।  

सब्जियों और फलों को अपनी डाइट में जरूर शामिल करें- 

आप दिन में 2 सर्विंग्स फ्रूट और 5 सर्विंग्स सब्जियों की जरूर अपने मील में शामिल करें।   

इसके अलावा, आप नेचुरल स्वीटनर का इस्तेमाल करें जैसे शक्कर, गुड़, खजूर की शक्कर और सफेद शुगर का इस्तेमाल कम कर दें।  

ये सारे ट्रिक्स आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं, लेकिन आपको ध्यान इस बात का रखना है कि ये सभी डॉक्टर की सलाह पर शुरू करें। डॉक्टर की प्रिस्क्राइब की गई दवाएं एकदम छोड़कर सिर्फ देसी नुस्खों पर ध्यान देना पूरी तरह से सही नहीं हो सकता है। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।