आयुर्वेद में कई फूल और पत्तियों का विशेष महत्त्व है। किसी पौधे का फूल, किसी का फल, तो किसी पौधे की पत्तियों को औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है जिससे कई बीमारियों से छुटकारा मिलता है। ऐसे ही औषधीय गुणों से भरपूर पत्तियां हैं हरसिंगार की पत्तियां। यह पत्तियां डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया और गठिया के लिए उपयोगी औषधि के रूप में तो कार्य करती ही हैं। इसके अलावा इसके सेवन से गैस, खांसी, सांस लेने जैसी कई समस्याओं का भी इलाज किया जा सकता है। इन पत्तियों में मौजूद एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल और एंटी-फंगल गुण शरीर में विभिन्न संक्रमणों से लड़ने में मदद करते हैं।

हरसिंगार को नाइट जैस्मीन या पारिजात के नाम से भी जाना जाता है। इसकी पत्तियां काफी चौड़ी होती हैं और इसके फूल 5 से 8 सफेद कोरोला पंखुड़ियों के साथ देखने में लुभावने लगते हैं, जिनमें नारंगी-लाल रंग का केंद्र होता है। आइए पीलीभीत के सलोनी हॉस्पिटल के जाने माने डॉक्टर वी. के.श्रीवास्तव (एम डी ,आयुर्वेद, पी.एच. डी.) से इस लेख में जानें हरसिंगार की पत्तियों के सेहत के लिए कुछ फायदों के बारे में। 

चिकनगुनिया और डेंगू का इलाज करें हरसिंगार की पत्तियां

har singar for chikan guniya 

वैसे तो चिकनगुनिया और डेंगू गंभीर बीमारियों में से हैं और इससे पीड़ित लोगों को तुरंत चिकित्सकीय परामर्श की आवश्यकता होती है। लेकिन घरेलू उपचार के रूप में हरसिंगार की पत्तियों का जूस पीने से चिकनगुनिया और डेंगू के बुखार से राहत मिलती है। इन बीमारियों के दौरान मरीज का प्लेटलेट काउंट तेजी से कम होने लगता है। हरसिंगार की पत्तियां प्लेटलेट्स को बढ़ाने में मदद करती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:क्या आप जानती हैं बैगन की सब्जी के साथ उसकी पत्तियां भी हैं सेहत के लिए फायदेमंद

सर्दी जुकाम से छुटकारा दिलाएं हरसिंगार की पत्तियां 

harsingar for cold

हरसिंगार की पत्तियां एक एक्सपेक्टोरेंट के रूप में काम करती हैं, जो गले से बलगम निकालने और खांसी को ठीक करने में मदद करती हैं। साथ ही, इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण भी होते हैं, जो खासतौर पर मौसमी बदलाव के दौरान खांसी और जुकाम पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करते हैं। सर्दी और खांसी के इलाज के लिए हरसिंगार की कुछ पत्तियों  को पानी में उबालकर इसकी चाय या काढ़ा तैयार करें। इसमें नींबू की कुछ बूंदें मिलाएं और गरमा-गरम इसका सेवन करें। 

आर्थराइटिस का इलाज करें हरसिंगार की पत्तियां 

bone problema harsingar

आजकल के अनुचित खान -पान की वजह से आर्थराइटिस न केवल वृद्ध लोगों में बल्कि किसी भी आयु वर्ग के लोगों के बीच एक गंभीर समस्या बन गई है। ऐसे में सूजन और दर्द को कम करने के लिए इसके एंटी-आर्थराइटिस गुणों के कारण हरसिंगार का सेवन करना चाहिए। हरसिंगार की पत्तियों को पीसकर तैयार चूर्ण को एक कप पानी में उबालकर तुरंत सेवन करने से हड्डियों की कई समस्याओं से छुटकारा मिलता है। यही नहीं इसकी पत्तियों को जामुन की कुछ पत्तियों के साथ उबाल लें और इसका काढ़ा तैयार करें। इस काढ़ा का नियमित सेवन आर्थराइटिस की समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: क्या आप जानती हैं पेपरमिंट की चाय के 10 हेल्थ बेनिफिट्स

पेट दर्द और गैस की समस्या दूर करें हरसिंगार की पत्तियां 

stomach ache problem

कई बार पेट में बनने वाली गैस (पेट में बनने वाली गैस के लिए घरेलू नुस्खे) आपको बेहद परेशान कर सकती है और कमजोरी, पेट दर्द और यहां तक कि चक्कर आने का कारण भी बन सकती है। हरसिंगार की पत्तियों के नियमित सेवन से गैस संबंधी समस्या आसानी से दूर हो जाती है। इसके लिए आप इसकी पत्तियों का सेवन कर सकती हैं या इसे पीसकर इसका जूस निकालकर भी इसका सेवन कर सकती हैं। 

Recommended Video

स्किन रैशेज़ से छुटकारा दिलाएं हरसिंगार की पत्तियां 

skin rashes remedy

हरसिंगार की पत्तियां त्वचा के लाल चकत्ते को ठीक करने के लिए एक लाभदायक औषधि के रूप में काम करती हैं। हरसिंगार में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण किसी भी अन्य एंटीसेप्टिक की तरह त्वचा के घाव को भरने में भी मदद करते हैं और स्किन में होने वाली खुजली और रैशेज़ से छुटकारा भी दिलाते हैं। इसके इस्तेमाल के लिए आप हरसिंगार की पत्तियों को पीसकर प्रभावित स्थान पर लगाएं। थोड़ी देर तक इसे त्वचा पर लगाए रखें। इसके इस्तेमाल से बहुत जल्दी ही त्वचा की कई समस्याओं से छुटकारा मिल जाता है। 

हरसिंगार की पत्तियां कई तरह से सेहत के लिए लाभदायक हैं लेकिन किसी भी तरह के दुष्प्रभाव से बचने के लिए इसके इस्तेमाल से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik, unsplash and shutterstock