• ENG | தமிழ்
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

Expert Tips: क्या आप जानती हैं पेपरमिंट की चाय के 10 हेल्थ बेनिफिट्स

पेपरमिंट की चाय कई तरह से हमारी सेहत के लिए फायदेमंद है। आइए इंटरनेशनल डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिष्ट शिखा ए शर्मा से जानें इसके फायदों के बारे में। 
author-profile
Published - 08 Jul 2021, 13:40 ISTUpdated - 08 Jul 2021, 16:03 IST
freepikpippermint tea health benefits

पेपरमिंट मुख्य रूप से यूरोप में पाए जाने वाले पौधों को एक प्रजाति है। ये पौधे विशेष रूप से उनके द्वारा प्रदान की जाने वाली शीतलन संवेदना के लिए जाने जाते हैं। उन्हें ताजे और सूखे दोनों रूपों में खाद्य पदार्थों में जोड़ा जा सकता है। पेपरमिंट या पुदीना कई खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में एक लोकप्रिय घटक है, जिसमें चाय से लेकर सॉस, सलाद , चटनी और डेसर्ट शामिल हैं। 

shikha a sharma

इस पौधे की पत्तियों को खाने से कई स्वास्थ्य लाभ तो मिलते ही हैं। इसकी पत्तियों से तैयार चाय के अलग ही फायदे हैं। इसकी चाय जहां एक तरफ पाचन में सुधार करती है, वहीं इस चाय के सेवन से अनिद्रा और स्ट्रेस को भी दूर किया जा सकता है। आइए इस लेख में फैट टू स्लिम ग्रुप की सेलिब्रिटी इंटरनेशनल डाइटीशियन और न्यूट्रिशनिष्ट शिखा ए शर्मा से जानें पेपरमिंट की चाय के सेहत से जुड़े कुछ फायदों के बारे में और इसे क्यों अपनी डाइट का हिस्सा बनाना जरूरी है। 

1वजन कम करे

weight loss peppermint tea

पेपरमिंट की चाय के सेवन से शरीर का वजन नियंत्रित करने में मदद मिलती है। ये चाय शरीर के टॉक्सिन्स को बाहर निकालने में मदद करती है और शरीर से अतिरिक्त वजन को कम करती है। इसके सेवन के बाद काफी देर तक शरीर को भरा हुआ महसूस होता है और भोजन की अति न होने से वजन नियंत्रित रहता है। 

2ताजा सांसों के लिए

freepik
bad breath peppermint tea

पेपरमिंट टी में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। ये पत्तियां अपनी साफ, अच्छी सुगंध और स्वाद के कारण पूरी दुनिया में लोकप्रिय है। पुदीने की चाय पीने से सांसों को तरोताजा करने में मदद मिल सकती है और ये चाय सांसों की दुर्गंध से लड़ने के लिए भी लाभदायक है। अगर आपको भी कभी मुंह से बदबू आने जैसी समस्या होती है तो पेपरमिंट की पत्तियां चबाने या इसकी चाय के सेवन से आपको इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है। इसकी पत्तियों का इस्तेमाल कई तरह के माउथ फ्रेशनर और च्युइंग गम बनाने में किया जाता है। 

 

3पाचन को सुचारु बनाए

improve digestion peppermint tea

पेपरमिंट की पत्तियां गैस, सूजन और अपच जैसे पाचन संबंधी लक्षणों को दूर करने में मदद करती हैं। इसकी चाय का नियमित रूप से सेवन पाचन को दुरुस्त करने के साथ पेट की कई समस्याओं से भी राहत दिलाता है। इसकी चाय आपके पाचन तंत्र को आराम देती है और पेट दर्द को कम करती है। ये मांसपेशियों के संकुचन को भी रोकती है और पेट दर्द को दूर करने में मदद करती है।

4सिरदर्द और माइग्रेन से राहत

freepik
head ache and migrane

चूंकि पेपरमिंट की पत्तियां मांसपेशियों को आराम देने वाले दर्द निवारक के रूप में कार्य करती हैं। इसलिए इसकी चाय कुछ प्रकार के सिरदर्द को कम कर सकती है। पेपरमिंट की पत्तियों में मेंथॉल कंपाउंड होता है, जो एंटी हेडेक गुण प्रदर्शित करता है। यह गुण सिर दर्द कम करने में मदद करता है। इसकी चाय शरीर को आराम दिलाकर सिरदर्द के साथ शरीर के दर्द से भी छुटकारा दिलाती है। एक शोध से पता चलता है कि पेपरमिंट ऑयल तनाव, सिरदर्द और माइग्रेन को कम करता है और इसकी चाय भी इन समस्याओं के लिए समान रूप से कार्य करती है। 

5कोल्ड से छुटकारा दिलाए

freepik
cold relief peppermint

सर्दी और फ्लू के उपचार की कई औषधियों में पेपरमिंट का इस्तेमाल किया जाता है। यह नाक से सांस लेने में सुधार कर सकता है और इससे बनी चाय के सेवन से सर्दी जुखाम के साथ सीने की जकड़न से भी छुटकारा मिलता है। इसकी चाय का गरम रूप में ही सेवन करने से जुकाम बहुत जल्द ही ठीक हो जाता है और ये गले के दर्द को भी कम करती है। 

 

6पीरियड्स के दर्द को कम करे

freepik
periods pain

पेपरमिंट ऑयल मासिक धर्म में ऐंठन को कम करने में मदद कर सकता है। एक अध्ययन के परिणामों के अनुसार, पेपरमिंट ऑयल कैप्सूल मासिक धर्म के दर्द से राहत दिलाने में उतना ही प्रभावी है जितना कि मेफेनैमिक एसिड, जो एक प्रकार की नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी दवा है। इसलिए लड़कियां मासिक धर्म में ऐंठन और दर्द के घरेलू उपचार के रूप में पेपरमिंट की चाय का सेवन करती हैं। इसका सेवन बहुत जल्द पीरियड्स के दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। 

7अनिद्रा को दूर करे

freepik
insomnia problem mint tea

जिन लोगों को रात में अच्छी नींद न आने की समस्या है उन्हें अपनी डाइट में पेपरमिंट की चाय को जरूर शामिल करना चाहिए। ये चाय ब्रेन को रिलैक्स करके अच्छी नींद के लिए प्रेरित करती है। इस चाय के सेवन से मस्तिष्क की सभी तंत्रिकाओं को आराम मिलता है जो अच्छी नींद का कारण बनते हैं। ये डिप्रेशन की समस्या को कम करने में भी मदद करती है। 

 

8शरीर को ऊर्जावान बनाए

freepik
mint tea energy

पेपरमिंट की चाय थकान के लक्षणों को कम करने और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में भी मदद करती है। इसके सेवन से मस्तिष्क को तुरंत एनर्जी मिलती है और शरीर में स्फूर्ति आती है। शिखा ए शर्मा बताती हैं कि इस चाय का सेवन 10 साल से ऊपर के बच्चे भी कर सकते हैं जिससे उनमें एकाग्रता बढ़ती है। पुदीने की चाय में मौजूद मेंथॉल में कोलिनेस्टरेज नामक तत्व होता है जिसकी वजह से ये चाय याददाश्त और एकाग्रता में सुधार कर सकती है। 

9अस्थमा के मरीजों के लिए फायदेमंद

freepik
asthama problem

जिन लोगों को अस्थमा की समस्या है उनके लिए पेपरमिंट की चाय बेहद फायदेमंद है। इसके सेवन से सांसों से संबंधित कई समस्याओं से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। खासतौर पर अस्थमा के मरीजों को इसका सेवन जरूर करना चाहिए जिससे उन्हें सांस लेने में कोई समस्या न हो। हालांकि इसे अस्थमा की दवा के रूप में नहीं देखा जा सकता है लेकिन ये चाय इस बीमारी के खतरे को कम करने के साथ इसके मरीजों के लिए फायदेमंद साबित होती है।

10डायबिटीज नियंत्रित करे

freepik
control blood sugar mint tea

पेपरमिंट की चाय को डायबिटीज नियंत्रण करने के लिए प्रभावी रूप से जाना जाता है। इसमें मौजूद सेनोलिन यौगिक और एंटीऑक्सीडेंट गुण टाइप 2 मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करते हैं यह  एंटीऑक्सीडेंट स्तर को बनाए रखने और टाइप 2 मधुमेह के कारण होने वाले रोगों को रोकने में भी मदद करते हैं। इसलिए शुगर के मरीजों को इसे अपनी नियमित डाइट का हिस्सा जरूर बनाना चाहिए। 

11कैसे बनाएं पेपरमिंट की चाय

how to make mint tea

एक बर्तन में 2 कप पानी डालें। पानी में अच्छी तरह से उबाल आने दें, फिर गैस का फ्लेम धीमा कर दें। पानी में लगभग चार या पांच पेपरमिंट की पत्तियां डालें। बर्तन को ढक दें और चाय को अच्छी तरह से उबलने दें। 5 मिनट बाद इसे कप में छान लें और इसका सेवन करें। स्वाद की लिए आप इसमें शहद और नींबू भी मिला सकती हैं। 

इस तरह पेपरमिंट की चाय सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है और इसे अपनी डाइट का हिस्सा जरूर बनाना चाहिए। लेकिन कोई अन्य स्वस्थ समस्या होने पर इसके सेवन से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।