अदरक का इस्तेमाल आप सभी अपने किचन में दैनिक उपयोग के लिए करती होंगी। कभी अपनी चाय को लाजवाब बनाने में, तो कभी सब्जी का स्वाद बढ़ाने में अदरक कई तरह से इस्तेमाल में लायी जाती है। लेकिन क्या आपने कभी सूखी अदरक यानी कि सोंठ का इस्तेमाल किया है? आपमें से शायद कई लोगों ने किचन में किसी रूप में इसका इस्तेमाल किया होगा। 

कई तरह से खाने के स्वाद को बढ़ाने वाली सोंठ सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद है। आइए नई दिल्ली की जानी मानी डॉक्टर आकांक्षा अग्रवाल (BHMS) से जानें सोंठ का इस्तेमाल किस तरह से सेहत के लिए फायदेमंद है और इसे क्यों अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। 

वजन घटाए 

weight loss benefits

सूखी अदरक यानी कि सोंठ पाचन में सुधार करके वजन घटाने की सुविधा प्रदान करती है, जो जमा वसा को जलाने और रक्त में ग्लूकोज को नियंत्रित करने में मदद करती है। यह अपने थर्मोजेनिक गुणों के कारण चयापचय को गति देती है और वसा के अवशोषण को नियंत्रित करती है। सोंठ का एक अन्य लाभ भूख और अधिक खाने को रोकने की क्षमता है। सोंठ को किसी भी रूप में इस्तेमाल करने से काफी देर तक भूख नहीं लगती है जिससे खाने की अति से बचा जा सकता है। सोंठ के पाउडर को पानी या दूध में मिलाकर पीने से वजन नियंत्रित होता है। 

कोलेस्ट्रॉल कम करे 

dry ginger sonth

वैज्ञानिक शोध ने साबित किया है कि सोंठ कुल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करती है। एलडीएल लिपोप्रोटीन (खराब कोलेस्ट्रॉल) के उच्च स्तर से हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। यदि आप गलत भोजन चुनते हैं, तो इसका एलडीएल स्तरों पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है। वैज्ञानिक शोध ने साबित किया है कि सोंठ का पाउडर कुल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करता है। एक अध्ययन से पता चला है कि 45 दिनों तक प्रतिदिन लगभग 3 ग्राम सोंठ के पाउडर का सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल लेवल काफी हद तक कम होता है।  

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: क्या आप जानती हैं किचन में मसालों की तरह इस्तेमाल होने वाले जावित्री के हेल्थ बेनिफिट्स

अपच से छुटकारा 

indigestion ginger dry

सोंठ का चूर्ण पुरानी अपच के कारण होने वाले पेट में दर्द और परेशानी को दूर करने के लिए जाना जाता है। बिना पचा हुआ भोजन और पेट खाली होने में देरी अपच के कारण हैं। सोंठ का पाउडर इस समस्या को प्रभावी रूप से कम कर सकता है। एक अध्ययन से पता चला है कि जब 24 स्वस्थ व्यक्तियों ने भोजन से पहले 1-2 ग्राम सोंठ के चूर्ण का सेवन किया, तो इससे पेट के खाली होने की गति 50 प्रतिशत तक बढ़ गई। सोंठ पाउडर का इस्तेमाल करने से कब्ज की समस्या से छुटकारा मिलने के अलावा मल त्याग में भी सुविधा होती है। सोंठ पुरानी अपच के कारण होने वाले पेट में दर्द और परेशानी से भी राहत दिलाता है। 

पीरियड्स के दर्द को कम करे

periods pain sonth 

परंपरागत रूप से, सोंठ का उपयोग मासिक धर्म के दर्द सहित विभिन्न दर्द और दर्द से राहत के लिए भी किया जाता है। खासतौर पर इसके पाउडर का इस्तेमाल डिलीवरी के बाद पेट की सफाई के लिए किया जाता है। डिलीवरी होने के बाद सोंठ के लड्डुओं का सेवन पेट को साफ़ करके शरीर को स्फूर्ति प्रदान करने में मदद करते हैं। इसके अलावा पीरियड्स के दर्द  में काफी सुधार दिखाया, जब विषयों ने अपने चक्र के पहले तीन दिनों के दौरान प्रति दिन एक ग्राम सोंठ पाउडर का सेवन किया।

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: एक महीने में 3 से 5 किलो तक वजन कम करने के लिए किचन के मसालों से बनाएं ये डिटॉक्स ड्रिंक्स

जी मिचलाना ठीक करे 

nausia ginger powder

सोंठ का चूर्ण गर्भवती महिलाओं में जी मिचलाना और मॉर्निंग सिकनेस के लक्षणों से निपटने में कारगर माना जाता है। चूंकि इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है, आधा चम्मच सोंठ का पाउडर शहद और गर्म पानी में मिलाकर भी मॉर्निंग सिकनेस से राहत पाने के लिए लिया जा सकता है। लेकिन प्रेग्नेंसी में इसके इस्तेमाल से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। ऐसे भी आप कभी जी मिचलाने या उलटी से बचने के लिए सोंठ पाउडर का सेवन कर सकती हैं। ,

Recommended Video

ब्लड शुगर नियंत्रित करे 

सोंठ शरीर में उच्च रक्त शर्करा को नियंत्रित करने के लिए एक उत्कृष्ट प्राकृतिक उपचार है। एक चुटकी नमक के साथ गर्म पानी में दो ग्राम तक सोंठ पाउडर मिलाकर सेवन करें। इसका सेवन सुबह खली पेट करने से शरीर की रक्त शर्करा नियंत्रित रहती है। 

सूजन कम करे 

नमक के साथ सोंठ मिलाने से भी शरीर में सूजन को कम करने में मदद मिलती है, खासकर जोड़ों और उंगलियों में सूजन के साथ। यह चोटों के कारण होने वाली सूजन से राहत देने के लिए भी कारगर नुस्खा है। इसका इस्तेमाल करने से सूजन कम होने के साथ शरीर में स्फूर्ति भी आती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik