काली इलायची भारतीय रसोई में पाए जाने वाले सबसे व्यापक मसालों में से एक है। किसी भी खाने में स्वाद का तड़का लगाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। चाहे आपकी मनपसंद बिरयानी हो या फिर स्वादिष्ट छोले, काली इलायची के बिना इनका स्वाद अधूरा है। यही नहीं इसके स्वास्थ्य लाभों की वजह से इसे आयुर्वेद में भी विशेष स्थान प्राप्त है और इसका इस्तेमाल कई औषधियों के रूप में भी किया जाता है। 

सांसों की बदबू दूर करने से लेकर पेट की कई समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए इस मसाले का इस्तेमाल बहुतायत में किया जाता है। आइए पीलीभीत के सलोनी हॉस्पिटल के जाने माने डॉक्टर वी. के.श्रीवास्तव (एम डी ,आयुर्वेद, पी.एच. डी.) से जानें काली इलायची के सेहत से जुड़े कुछ अद्भुत फायदों के बारे में और इसे क्यों अपनी डाइट का हिस्सा बनाना जरूरी है। 

पाचन तंत्र में सुधार करे 

digestive system black cardemom

काली इलायची अपने उत्तेजक गुणों की मदद से गैस्ट्रिक और आंतों की ग्रंथियों से आवश्यक रसों को स्रावित करने के लिए उत्तेजित करती है। यह पेट के एसिड की मात्रा को नियंत्रण में रखने के लिए रस स्राव की प्रक्रिया को विनियमित करने में भी मदद करती है। इसके परिणामस्वरूप गैस्ट्रिक अल्सर या अन्य पाचन विकारों के विकास की संभावना काफी कम हो जाती है। कार्मिनेटिव प्रकृति की होने के कारण काली इलायची पेट की गैस से राहत दिला सकती है और पुरानी कब्ज को ठीक करने के साथ भूख में सुधार करने में भी मदद करती है। इसके अलावा यह अपच के साथ-साथ इसके कारण होने वाले पेट फूलने की समस्या से भी छुटकारा दिलाने में मदद करती है। आप इसे अपनी डाइट में शामिल कर सकती हैं या पानी में उबालकर चाय के रूप में भी इसका सेवन कर सकती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: क्या आप जानती हैं किचन में मसालों की तरह इस्तेमाल होने वाले जावित्री के हेल्थ बेनिफिट्स

सांसों की बदबू से छुटकारा दिलाए 

bad breath black cardemom

कई बार हमारी सांसों की बदबू हमें परेशान करने लगती है और कई युक्तियों के बाद भी ये समस्या दूर नहीं होती है। अगर आपको भी ऐसी कोई समस्या है तो काली इलायची का सेवन करें। यह जीवाणुरोधी गुणों से भरपूर होती है और पेट से संबंधित ढांचे में सुधार करती है। कई बार पेट की खराबी भी बदबूदार सांसों का कारण होता है। काली इलायची इस समस्या को जड़ से छुटकारा दिलाने के लिए फायदेमंद है। कई दंत विकारों, जैसे दांतों में संक्रमण, मसूड़ों में संक्रमण आदि का इलाज भी काली इलायची से किया जा सकता है। सांसों की बदबू से छुटकारा पाने के लिए रात के खाने के बाद इलायची का एक टुकड़ा चबाएं। आप हर सुबह इस इलायची की चाय का सेवन भी कर सकती हैं जिससे पेट को डिटॉक्सीफाई करने और मजबूत बनाने में मदद मिल सके और सांसों की बदबू को रोका जा सके।

एसिडिटी कम करे 

acidity problem black cardemom

काली इलाइची में मौजूद मूल तत्व पेट की म्यूकोसल कोटिंग को मजबूत करते हैं और आपके द्वारा उत्सर्जित थूक की मात्रा को बढ़ाते हैं। जब आप काली इलायची का सेवन करती हैं तो यह काफी मात्रा में मौलिक तेलों का निर्वहन करती है जो लार अंगों को मजबूत करती है और इस तरह पेट को बेहतर ढंग से काम करने के लिए प्रेरित करती है। यह भूख में भी सुधार करती है और शरीर से एसिडिटी की समस्या को कम करने में मदद करती है। खाने के बाद नियमित रूप से इसके कुछ दानों का सेवन एसिडिटी को कम करता है। 

Recommended Video

श्वसन रोगों को ठीक करे 

काली इलायची फेफड़ों के अंदर रक्त के संचार को बढ़ाती है, जिससे अस्थमा और सर्दी जैसी सांस की समस्याओं के दुष्प्रभावों को कम करने में मदद मिलती है। आयुर्वेद में, काली इलायची को एक गर्म स्वाद के रूप में जाना जाता है, जो शरीर को अंदर से गर्म करती है, बलगम को हटाने और सीने में जकड़न होने को कम करने में मदद करती है। यहां तक कि छोटे बच्चों को भी जुखाम या सीने में जकड़न होने पर इस इलायची के कुछ दानों को पीसकर दूध के साथ देने से बलगम निकल जाता है और जकड़न ठीक हो जाती है। सीने में जकड़न होने पर काली इलायची को पानी में उबाकर इस पानी से स्टीम लेना भी फायदेमंद होता है।

इसे जरूर पढ़ें:Beauty Hack 'काली इलायची' से इस तरह पाएं ग्‍लोइंग त्‍वचा

त्वचा को ग्लोइंग बनाए 

black cardemom beauty benefits

काली इलायची एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन-सी और आवश्यक खनिज पोटेशियम से भरपूर होती है। इसलिए इस मसाले का नियमित सेवन आपके आंतरिक तंत्र को विषाक्त पदार्थों से मुक्त रख सकता है, जिससे त्वचा की सतह पर रक्त के संचार में सुधार होता है और त्वचा भीतर से साफ़ होकर ग्लोइंग नज़र आती है। यदि आप लंबे समय तक टोंड और जवां दिखना चाहती हैं तो नियमित रूप से काली इलायची का सेवन करना आपके लिए फायदेमंद है। 

उपर्युक्त सभी कारणों की वजह से काली इलायची सेहत के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद है और इसे अपनी डाइट में शामिल करना जरूरी है। लेकिन इसके सेवन से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik