आजकल पेट में गैस की समस्या एक आम समस्या है।  खराब जीवन शैली, अनुचित खान-पान और कमजोर पाचन तंत्र जैसे कई लक्षण पेट में गैस और सूजन को बढ़ावा दे सटे हैं। वास्तव में गैस की समस्या के साथ पेट में सूजन शामिल होती है। ऐसा माना जाता है कि कुछ खाद्य पदार्थ खाने और कुछ खाद्य पदार्थों से परहेज करने से लोगों की गैस की समस्या को कम किया जा सकता है। मुख्य रूप से गैस की समस्या से बचने के लिए डाइट एक्सपर्ट्स कुछ फूड्स को डाइट में  शामिल न करने की सलाह देते हैं। आइए जानी मानी न्यूट्रिशनिस्ट प्रीति त्यागी से जानें उन फूड्स के बारे में।  

गैस की समस्या के कारण

gas food to avoid

गैस्ट्रिक समस्या के मुख्य कारकों में भोजन को तेज गति से निगलना, अधिक मात्रा में गैस वाले ड्रिंक्स का सेवन और ज्यादा मात्रा में ऑयली जंक फूड्स का सेवन स्टार्च और अघुलनशील फाइबर के उच्च स्तर के साथ-साथ स्वस्थ आंत माइक्रोबायोम यानी लाभकारी बैक्टीरिया में असंतुलन शामिल हैं। पेट में मौजूद होता है, जो पाचन में मदद करता है।

इसे जरूर पढ़ें:नवरात्रि में खुद को कैसे रखें फिट और ग्लोइंग, न्यूट्रिशनिस्ट प्रीति त्यागी से जानें

गैस्ट्रिक समस्या के लक्षण

कुछ मामलों में, गैस्ट्रिक समस्या यानी कि पेट में गैस की समस्या गंभीर लक्षणों के साथ भी हो सकती है, जिसमें असहनीय पेट दर्द, लगातार उल्टी, अचानक वजन कम होना, मल के साथ रक्त का निर्वहन और तेज बुखार शामिल हैं। इसलिए किसी भी अंतर्निहित स्थिति का सटीक निदान प्राप्त करने और प्रभावित व्यक्ति को उचित उपचार प्रदान करने के लिए किसी चिकित्सा विशेषज्ञ से सलाह लेने की सलाह दी जाती है। हालांकि अगर किसी व्यक्ति में गैस्ट्रिक समस्या के लक्षण तेजी से कम होते हैं जैसे कब्ज, पेट फूलना या गैस, दस्त, सूजन और अपच, लेकिन बार-बार विकसित होने पर असुविधा होती है, तो कुछ घरेलू उपचार और व्यायाम इस समस्या को दूर रखने में मदद कर सकते हैं। ज्यादातर  मामलों में गैस की समस्या मामूली होती है और घरेलू इलाज के बाद जल्दी से दूर किया जा सकता है। साथ ही, इस समस्या को कम करने के लिए कुछ फूड्स को डाइट से हटा देना चाहिए। 

डाइट में इन फूड्स को न करें शामिल 

कुछ खाद्य समूह, हालांकि विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट सहित महत्वपूर्ण आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करते हैं, यह एक फूले हुए पेट का कारण बनते हैं और गैस्ट्रिक मुद्दों के लक्षणों को और खराब करते हैं। इसलिए इन खाद्य पदार्थों का सेवन कम करने की सलाह दी जाती है जब तक कि गैसी आंत, पेट फूलना और कब्ज से जुड़े सभी दर्द और परेशानी की समस्या कम न हो जाए और पाचन प्रक्रिया सामान्य रूप से आगे न बढ़ जाए। आइए जानें इन फूड्स के बारे में -

बहुत कम फाइबर वाला आहार

शरीर के वजन को नियंत्रित बनाए रखने के लिए दैनिक कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट का सेवन सीमित करना महत्वपूर्ण होता है। जबकि फाइबर - अपचनीय कार्ब्स, को काफी मात्रा में खाया जाना चाहिए। जब नियमित भोजन में घुलनशील और अघुलनशील आहार फाइबर कम होते हैं, तो आंत्र और मूत्राशय के माध्यम से ठोस, तरल अपशिष्ट को बाहर निकालना मुश्किल हो जाता है और गैस्ट्रिक परेशानी या पेट में गैस की समस्या होती है।

इसे जरूर पढ़ें:मेनोपॉज में डाइजेशन और जी मिचलाने से जुड़ी सभी समस्याओं के बारे में जानें

शराब का सेवन 

शराब का सेवन ज्यादा मात्रा में करने से शरीर में गैस की समस्या बढ़ जाती है। मुख्य रूप से अलकोहल तत्व पेट की कई समस्याओं का कारण बनते हैं जिससे पेट दर्द और फूलना जैसे कई कारक जन्म ले सकते हैं। 

कॉफी और चाय का सेवन 

tea avoid

कॉफी और चाय में मुख्य रूप से कैफीन पाया जाता है जो पेट में गैस का प्रमुख कारण बन सकता है। कैफीन का ज्यादा सेवन पेट में दर्द और अन्य समस्याओं के साथ गैस की समस्याओं का भी मुख्य कारण है। 

फ्रुक्टोज का सेवन 

कुछ खाद्य पदार्थ जैसे मीठे कैलोरी से भरे जंक फूड, शीतल पेय, पैकेज्ड फलों के रस, नाशपाती और प्याज में बहुत अधिक मात्रा में चीनी पाई जाती है जिन्हें फ्रुक्टोज कहा जाता है, जो आंत में गैस्ट्र्रिटिस को ट्रिगर करने के लिए जाना जाता है। इसलिए गैस की कोई भी समस्या होने पर आपको डाइट से इस तरह के फूड्स को हटा देना चाहिए। 

लैक्टोज का ज्यादा मात्रा में सेवन 

डेयरी उत्पाद जिनमें लैक्टोज की प्रचुर मात्रा मौजूद होती है खासतौर पर दूध, मक्खन और पनीर (उम्र के हिसाब से पनीर का सेवन)जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन कम करने का सुझाव दिया जाता है, क्योंकि इससे पेट में गैस का निर्माण होता है। 

अघुलनशील फाइबर

जई, मटर और बीन्स में अघुलनशील फाइबर की महत्वपूर्ण मात्रा होती है, जिससे पाचन प्रक्रिया जटिल हो जाती है और इसलिए जिन्हें अक्सर पाचन संबंधी समस्याएं होती हैं, उन्हें नियमित आहार के हिस्से के रूप में इसका सेवन कम से कम करना चाहिए।

Recommended Video

स्टार्च युक्त खाद्य पदार्थ 

समृद्ध, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ जैसे पास्ता, मक्का और गेहूं आधारित उत्पाद, साथ ही आलू में स्टार्च की मात्रा अधिक होती है, जो इन व्यंजनों को पचाने में एक चुनौती पेश करता है। गैस्ट्रिक समस्याओं से पूरी तरह से ठीक होने के लिए, आहार में स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थों का सेवन कम करने के लिए सचेत प्रयास किए जाने चाहिए।

डाइट से इन फूड्स को दूर रखते हुए आप गैस की समस्या से छुटकारा तो पा ही सकते हैं और पेट दर्द की समस्या को भी कम कर सकते हैं। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and unsplash