आयुर्वेद हमेशा ताजा, शुद्ध और शाकाहारी सात्विक आहार की वकालत करता है। सात्विक भोजन का नियमित सेवन बीमारियों को रोकने में मदद करता है और अच्छे मानसिक, शारीरिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखता है। हेल्‍दी भोजन के अलावा, एक समान रूप से महत्वपूर्ण चीज हेल्‍दी डाइजेशन है। लोग अक्सर शिकायत करते हैं कि खाने के बाद उन्हें बेचैनी, सुस्ती और भारीपन महसूस होता है। यह अनुचित मात्रा में भोजन खाने के कारण होता है जो शरीर द्वारा ठीक से पचता नहीं है।

जठराग्नि की शक्ति - पाचक अग्नि - आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन की गुणवत्ता और प्रकृति से निर्धारित होती है। मूल नियम यह है कि आप जो कुछ भी खाते हैं वह पूरी तरह से पच जाना चाहिए, इस प्रकार अमा प्रोडक्‍शन से बचना चाहिए।

उपवास कैसे मदद करता है?

आयुर्वेद में एक कहावत है कि आप वह नहीं जो आप खाते हैं, बल्कि वह होते हैं जो आप पचाते हैं। खाने का पूरा उद्देश्य भोजन को आपके शरीर द्वारा आहार रस (पोषण) के रूप में अवशोषित करना या शरीर से मल (मल, मूत्र, पसीना) के रूप में निकालना है। इसलिए, पाचन तंत्र की नियमित सफाई और शरीर में अमा (विषाक्त पदार्थों) के उत्पादन को कम करने के लिए, कभी-कभी उपवास करने की सलाह दी जाती है।

ayurvedic expert

एक दिन उपवास करने से पाचन तंत्र की शक्ति बनी रहती है और आंत साफ होती है। व्रत के दिन फल और सब्जी के सूप जैसे भोजन का सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा, जूस, हर्बल चाय, नींबू और पुदीना के पत्तों के साथ पानी सहित ढेर सारा तरल पिएं। उपवास के दौरान किस तरह के आयुर्वेदिक टिप्‍स आपकी मदद कर सकते हैं? इस बारे में वेदास क्योर के संस्थापक और निदेशक, श्री विकास चावला जी बता रहे हैं। 

श्री विकास चावला जी का कहना है, ''आयुर्वेद में स्वास्थ्य को बनाए रखने और पुनः प्राप्त करने के लिए एक महत्वपूर्ण जीवन शैली की आदत के रूप में उपवास करना एक आदिम प्रथा है। आधुनिक आयुर्वेद में, उपवास एक ऐसी विधि की तरह है जो व्यक्ति को शरीर में ले जा रहे खाद्य पदार्थों के निरंतर बैराज से बहुत आवश्यक आराम देती है।'' 

उपवास का अभ्यास करने के लिए आयुर्वेदिक शब्द 'प्रत्याहार' है- यह शब्द संस्कृत के दो शब्दों से बना है: "प्रति", जिसका अनुवाद विरुद्ध है, और "आहार", जिसका अर्थ है शरीर में ली गई कोई भी चीज़। प्रत्याहार का अभ्यास करने में, व्यक्ति सचेत रूप से चुनता है कि किसी के शरीर-मन-आत्मा में क्या लेना है, चाहे वह भोजन, श्वास या संवेदी इनपुट हो। प्रत्याहार एक दोतरफा प्रक्रिया है, पहला अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों से बचना और दूसरा जो फायदेमंद है उसे खोलना और पोषण और स्वास्थ्य और मन और शरीर की खुशी में योगदान देता है।

इसे जरूर पढ़ें: इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए ये 5 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां अपनाएं

जड़ी-बूटियों का सेवन

fasting tips by ayurvedic expert

कुछ लिक्विड और जड़ी-बूटियां जो आयुर्वेद द्वारा 9 दिवसीय शुभ नवरात्रि उपवास के दौरान अनुशंसित की जाती हैं, वे जीरा, धनिया और सौंफ से बनी चाय (जिसे प्यार से CCF चाय के रूप में जाना जाता है) जो सभी के लिए फायदेमंद है क्योंकि यह विषाक्त पदार्थों को हटाने में मदद करती है। 

त्रिफला एक और बहुत प्रभावी हर्बल कॉम्बिनेशन है जो उपवास के दौरान ज्यादातर लोगों के लिए फायदेमंद है क्योंकि यह एक सौम्य डिटॉक्सीफायर है जो हेल्‍थ को बढ़ावा देते हुए डाइ‍जेस्टिव सिस्‍टम का स्‍पोर्ट करता है। नींबू, अदरक, इलायची, पुदीना आदि भी शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने के लिए अच्छे होते हैं।

Recommended Video

अन्‍य टिप्‍स

उपवास के दौरान थोड़ा सिरदर्द होना आम बात है क्योंकि विषाक्त पदार्थ निकल जाते हैं और शरीर को थोड़ा-थोड़ा करके शुद्ध किया जा रहा होता है। ये सभी सामान्य संकेत हैं और थोड़े समय में अपने आप चले जाएंगे। यदि ये लक्षण बने रहते हैं, तो उपवास को रोकने की सिफारिश की जाती है। 

आयुर्वेदिक के अनुसार, उपवास से आपको बेहतर और हल्का महसूस होता है क्योंकि शरीर कायाकल्प, बढ़ी हुई ऊर्जा और स्पष्टता का स्वागत करता है। उपवास के समय एनर्जी बूस्टर के रूप में मूंगफली, मखाने, बादाम, अखरोट, काजू जैसे मेवे खाने की सलाह दी जाती है।

इसे जरूर पढ़ें: मोटापे से परेशान महिलाएं ये आयुर्वेदिक हर्ब्‍स आजमाएं

शरीर में हाइड्रेशन और क्‍लींजिंग के लेवल को बनाए रखने के लिए गर्म पानी पीना अंतिम उपाय है। हरीतकी, त्रिफला या अरंडी का तेल दोष (वात-स्वास्थ्य, पित्त-ऊर्जा और कफ-मूड) को संतुलित करके सफाई को बढ़ावा दे सकता है। आयुर्वेद फार्मासिस्ट से परामर्श करना आपकी 'प्रकृति' (शारीरिक संतुलन) के आधार पर दोष पर काम करने का सबसे अच्छा विकल्प है।

Image Credit: Freepik.com