स्किन में डार्क पैच पड़ना और पिगमेंटेशन की समस्या होना काफी आम होता है। ये एक ऐसी समस्या है जो स्किन केयर रूटीन खराब होने या फिर हेल्थ कंडीशन के खराब होने के कारण होती है। अगर देखा जाए तो स्किन कंडीशन होते ही हमें लगता है कि हमें किसी तरह की स्किन क्रीम या फिर किसी हार्मोनल ट्रीटमेंट की जरूरत है, लेकिन कई बार जो समस्या होती है वो डाइट की वजह से होती है।

स्किन डार्क होने के कारण परेशान होने की जगह ये जरूरी है कि आप अपने स्किन पिगमेंटेशन का पता लगाएं। एक ही जगह पर स्किन के डार्क होने को अकन्थोसिस नाईग्रीकैन (Acanthosis Nigricans) कहते हैं।

मिस इंडिया कंटेस्टेंट्स को ट्रेनिंग देने वाली एक्सपर्ट डायटीशियन अंजली मुखर्जी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर इस समस्या से निजात पाने के कुछ तरीके शेयर किए हैं। अंजली लगभग 20 सालों से इसी फील्ड में काम कर रही हैं और वो डाइट टिप्स एक्सपर्ट भी हैं।

अंजली के मुताबिक Acanthosis Nigricans जैसी कंडीशन डार्क, वेलवेट डिस्कलरेशन पैदा करती है जो स्किन में किसी पैच की तरह लगती है। स्किन में इस तरह का डिस्कलरेशन अधिकतर ऐसी जगहों पर होता है जहां स्किन मुड़ रही हो।

skin condition and issues

इसे जरूर पढ़ें- सर्दियों में डाइट और एक्सरसाइज से ऐसे लाएं त्वचा में रौनक, शहनाज़ हुसैन से जानें टिप्स

कहां होती है ये ज्यादा?

इस तरह का स्किन कंडीशन अधिकतर ऐसी जगहों पर होता है जहां स्किन मुड़ती है। यानी गले में, कोहनी में, कमर में, पीठ में आदि। ये स्किन कंडीशन कुछ लोगों को चेहरे पर भी दिखती है जैसे गालों के बीच में। अगर आपके शरीर में मोटापा ज्यादा है तो ब्रेस्ट के नीचे आदि भी ये कंडीशन दिख सकती है।

इस कंडीशन को ठीक करने के लिए क्या करें?

अगर इस कंडीशन से आप ज्यादा परेशान हो रहे हैं तो डाइट पर ध्यान देना जरूरी है। आपको कुछ ऐसी चीज़ें करनी होंगी जिनसे ये समस्या बढ़े नहीं। इसे करने के लिए डर्मेट की सलाह ली जा सकती है। पर आप अपनी डाइट में भी कुछ बदलाव कर सकते हैं जो बेहतर हों।

"आपको ये ध्यान रखना है कि आप डाइट वगैरह से अपनी कंडीशन को होने से बचा सकते हैं और इसी इंटेंसिटी कम कर सकते हैं, लेकिन इसे पूरी तरह से डाइट से ठीक करना बहुत मुश्किल है।"

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Anjali Mukerjee (@anjalimukerjee)

 

किस तरह की डाइट करनी चाहिए फॉलो? 

ये समस्या अधिकतर उन लोगों को होती है जिन्हें इंसुलिन रेजिस्टेंस की समस्या होती है। इस समस्या को दूर करने के लिए आपको सबसे जरूरी ये ऑप्शन अपनाने चाहिए- 

लो GI वाली डाइट फॉलो करनी चाहिए-

ग्लाइसेमिक इंडेक्स वो सिस्टम होता है जो ये बताता है कि आपका खाना किस तरह से शरीर में ब्लड शुगर को बढ़ाएगा। ये अपने आप में एक डाइट प्लान नहीं है, लेकिन एक टूल है जिससे आपके कार्बोहाइड्रेट काउंटिंग और कैलोरी काउंटिंग में मदद मिल सकती है। अगर आप ज्यादा GI वाले फूड्स अपनी डाइट में शामिल करते हैं तो इन्हें खाने के 2 घंटे के अंदर आपके शरीर का ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है।   

ऐसे में आपको उन फूड्स को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए जो GI इंडेक्स में कम हों। यानी आप ऐसे फूड्स चुन सकते हैं जिनमें नेचुरल शुगर और कैलोरी कम होती हैं। 

skin condition pigments

इसे जरूर पढ़ें- यासमीन कराचीवाला से जानें 4 आसान ब्‍यूटी टिप्‍स 

इंसुलिन रेजिस्टेंस को रिवर्स करें- 

आप इंसुलिन रेजिस्टेंस को रिवर्स करने के लिए वजन कम करने की कोशिश कर सकते हैं। एक्सरसाइज करें और सही तरह से खाएं। अगर आप इंसुलिन रेजिस्टेंस की समस्या को ठीक कर लेंगे तो ये पिगमेंटेशन को काफी हद तक कम कर सकता है। 

Recommended Video

ये आपके पिगमेंटेशन की समस्या को कम कर सकता है, लेकिन अगर आपको इस समस्या से पूरी तरह से निजात पानी है तो उसके लिए डर्मेटोलॉजिस्ट से संपर्क करें। ये समस्या कई लोगों को परेशान करती है, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि आप इसे ठीक नहीं कर सकते हैं। इसके लिए डाइट और स्किन केयर रूटीन दोनों ही जिम्मेदार होते हैं। 

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।