जब चेहरे पर कई सारे दाने हो जाते हैं तब अधिकतर लोग किसी न किसी तरह की क्रीम और ट्रीटमेंट का सहारा लेते हैं। कई लोग इसे लेकर सेंसिटिव स्किन को दोष देते हैं, लेकिन वो ये नहीं जानते कि उनकी स्किन में ये बंप्स क्यों हो रहे हैं। दरअसल, चेहरे पर एक्ने को छोड़ दिया जाए तो भी कई तरह के बंप्स होते हैं और ये अलग-अलग स्किन और हेल्थ कंडीशन के कारण दिखते हैं। अगर इनके बारे में ठीक तरह से जानकारी ना हो तो लोग इनका ट्रीटमेंट भी सही तरह से नहीं करवा पाते हैं।

स्किन पर इस तरह के दानों को देखकर हम नॉर्मल एक्ने का ट्रीटमेंट लेने लगते हैं, लेकिन ये तो सही नहीं है। अगर आपको ये पता हो कि स्किन कंडीशन क्या है तो आपको ट्रीटमेंट लेने में भी आसानी होगी।

Dermafollix skin & hair transplant क्लीनिक की  डर्मेटोलॉजिस्ट डॉक्टर आंचल पंथ ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर इससे जुड़ी जानकारी शेयर की है। आंचल जी ने चेहरे पर होने वाले 4 सबसे आम तरह के बंप्स के बारे में बताया है।

आंचल के अनुसार बंप्स कई तरह के होते हैं और इनमें सिस्टिक एक्ने भी शामिल होते हैं। ये बहुत मुश्किल है कि किसी तरह के बंप पर कमेंट किया जाए बिना ये जाने की आखिर समस्या क्या है।

इसे जरूर पढ़ें- हाथ हो जाते हैं बहुत ज्यादा ड्राई तो ये 6 तरीके करेंगे आपकी मदद

ये हैं सबसे आम तरह के एक्ने-

व्हाइटहेड्स-

अधिकतर लोगों को व्हाइटहेड्स की समस्या होती है, लेकिन उनमें से कुछ को ये इतनी ज्यादा बढ़ जाती है कि बंप्स की शक्ल ले लेती है और ये माथे और नाक के आस-पास ज्यादा होती है। व्हाइटहेड्स की समस्या के कारण आपकी स्किन रफ दिखती है और साथ ही साथ कई बार चेहरे पर गंदगी भी भर जाती है और ऑयल इकट्ठा होने लगता है। ये कुछ मामलों में एक्ने का भी कारण बन सकते हैं।

whiteheads and skin bumps

क्या करें-

व्हाइटहेड्स के लिए सैलिसिलिक एसिड या बेंजाईल वी ऑक्साइड जैसे कंटेंट्स ज्यादा बेहतर होते हैं और ये इन्हें कम करने में मदद करते हैं।

मिलिया-

मिलिया छोटे-छोटे सफेद डॉट्स की शक्ल में दिखती है और ये चेहरे पर किसी भी जगह हो सकती है। ये ज्यादातर मामलों में आंखों के आस-पास दिखती है और इसमें क्रीम्स काम नहीं करती है।

milia and skin bumps

क्या करें-

आपको इसके लिए डर्मेटोलॉजिस्ट से बात करनी होगी और साथ ही साथ आपको यूवी प्रोटेक्शन का ध्यान भी रखना होगा। दरअसल, सूरज की धूप से ये समस्या ज्यादा बढ़ जाती है और इसलिए आपको सनस्क्रीन का इस्तेमाल हमेशा करना चाहिए। 

 

सिरिंगोमा- 

ये लगभग फ्लैट, लेकिन अलग रंग की दिखने वाली स्किन कंडीशन है। इसके साथ मिलिया भी हो सकती है जिसके कारण ऐसा लगे जैसे आपका चेहरे दानों से भर गया है। ये चेहरे को डिस्कलर भी दिखाती है। 

sersocoma and skin bump

क्या करें-   

इसका ट्रीटमेंट आपको डर्मेटोलॉजिस्ट की सलाह के बाद ही लेना होगा। इसमें भी किसी तरह की क्रीम का काम नहीं होगा। इसके ट्रीटमेंट के लिए रेडियो फ्रीक्वेंसी की मदद लेनी होती है और ऐसा भी होता है कि ये दोबारा रिपीट हो जाए। 

डर्मेटोसिस पापुलेशन निग्रा - 

जिस तरह मिलिया सफेद डॉट्स होते हैं वैसे ही डर्मेटोसिस ब्लैक डॉट्स होते हैं जो चेहरे पर बंप्स की शक्ल ले लेते हैं। इसे चेहरे के साइड पर और गालों पर ज्यादा पाया जाता है। इसके लिए भी क्रीम्स का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है क्योंकि ये काम नहीं करेंगी। 

dematosis and skin bump

क्या करें- 

अपने डर्मेटोलॉजिस्ट से संपर्क करें और इसका इलाज करवाने की कोशिश करें। ये बार-बार रिपीट होते हैं और आपको परेशान कर सकते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें- Jawed Habib Tips: धोने के बाद फ्रिज़ी हो जाते हैं बाल तो झटपट करें ये काम 

Recommended Video

क्यों काम नहीं करती हैं क्रीम- 

अधिकतर आपने देखा होगा कि ब्यूटी क्रीम के एडवर्टाइजमेंट में हमेशा चेहरे को बदलते दिखाया जाता है, लेकिन जब आप इन क्रीम को खरीदकर घर पर लाते हैं तो कोई काम नहीं होता। आखिर ऐसा क्यों होता है क्या आपने कभी सोचा है? दरअसल, ऐसी स्किन कंडीशन स्किन की बहुत डीप लेयर से शुरू होती हैं और क्रीम्स उतनी अंदर वाली लेयर तक जा नहीं पाती है। इसी के साथ, अगर आप बहुत ज्यादा क्रीम का उपयोग अपने हिसाब से करते हैं तो कई बार स्किन सेंसिटिविटी एक्टिव हो जाती है और चेहरे पर हमें कई तरह के रिएक्शन दिखने लगते हैं। 

इसलिए बेहतर होगा कि आप किसी भी स्किन कंडीशन के लिए पहले डॉक्टर से संपर्क कर अपने लिए सही तरह का ट्रीटमेंट चुनें। एक्सपर्ट की सलाह आपकी स्किन कंडीशन को ज्यादा बेहतर बना सकती है। 

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरीज पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।