Rich और कुरकुरे दिखने वाले ब्राउन बादाम को केवल आाप टेस्‍टी डिश ही नहीं बना सकती हैं बल्कि इसमें मौजूद विटामिन और पोषक तत्‍व आपकी हेल्‍थ के लिए भी बेहद अच्‍छे होते है। बादाम को विटामिन ई, डाइट्ररी फाइबर, ओमेगा 3 फैटी एसिड और प्रोटीन का अच्छा स्रोत माना जाता है। हमारे बुजुर्ग तो अद्भुत गुणों के कारण बादाम को सूपरफूड मानते है। इनमें प्रोटीन की मात्रा भी पाई जाती है, जिन्हें खाने में शामिल करने से आप काफी लंबे समय तक भरा पेट महसूस करते हैं। इनमें मैग्नीज़ भी पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूत करते हुए ब्लड शुगर लेवल को बनाए रखने में हेल्‍प करते हैं। जिन महिलाओं को हाई बीपी की प्रॉब्‍लम होती है, उनके लिए यह बहुत फायदेमंद होता हैं। बादाम खाने से मसल्‍स और नर्व फंक्शन बेहतर होता है।

लेकिन एक बात को लेकर अक्‍सर मेरी तरह हर महिला के मन में दुविधा बनी रहती है कि बादाम कच्‍चे खाने चाहिए या इन्‍हें भिगोकर खाना अच्‍छा रहता है। अगर आपके मन में भी यह दुविधा है तो आज हम आपकी इस दुविधा को दूर कर देते हैं। क्‍योंकि इस बारे में हमारी एक्‍सपर्ट आपको बता रहे हैं। जी हां फोर्टिस हॉस्पिटल की डाइटिशियन सिमरन सैनी हमें इस बारे में बता रही हैं। उनका कहना हैं कि 'रात में पानी में भिगोकर सुबह छिलका उतार कर खाने से जवान और बूढ़ों को तो फायदा होता ही है साथ ही साथ पढ़ने वाले बच्चों के लिए तो यह बहुत ही फायदेमंद होता हैं।'  

Read more: अगर आप vegetarian हैं तो जानिए खाने की इन चीज़ों में कितना प्रोटीन है?

almond benefits wellness

Image Courtesy: Pxhere.com

कच्चे बादाम या पानी में भीगे बादाम कौन से है बेहतर?

रोजाना सुबह अगर आपकी मां आपको पानी में भीगे बादाम छीलकर खिलाती हैं, तो शायद वह ठीक कर रही हैं। कच्चे बादाम और पानी में भीगे बादाम में से अगर एक को चुनना हो, तो वह उसके स्वाद के लिए, बल्कि एक हल्दी ऑपशन को चुनना होगा।

क्यों पानी में भीगे बादाम बेहतर विकल्प है? पहले तो बादाम के ऊपर मौजूद ब्राउन छिलके में टैनिन होता है, जो पोषक तत्वों को बादाम के अंदर आने से रोकता है। जब आप बादाम को पानी में भिगोते हैं, तो उसके ऊपर का छिलका आराम से उतर जाता है, जिससे बादाम में मौजूद सभी पोषक तत्व आपकी बॉडी को आसानी से मिल जाते हैं। इसके अलावा भीगा हुआ बादामडाइजेशन में भी हेल्‍प करता है। इसके अलावा भीगे हुए बादाम आपकी हेल्‍थ के लिए अन्‍य कई प्रकार से फायदेमंद हो सकता हैं। थोड़े से बादाम लेकर उसे आधा कप पानी में भिगोएं। ढक कर करीब आठ घंटे के लिए इन्हें रख दें। सुबह में पानी निकालकर बादाम से छिलका उतार लें और प्लास्टिक के टाइट बंद डिब्बे में भरकर रखें। पानी में भीगे हुए बादाम को अगर आप छिलकर स्टोर करते हैं, तो वह एक हफ्ते तक आप खाने में शामिल कर सकते हैं।

 

soaked almond health


पानी में भीगे बादाम के फायदे

Digestion होता है बेहतर -पानी में भीगे बादाम एक प्रकार के लिपेज़ नामक एंजाइम को निकालते हैं, जो digestion को बेहतर कर फैट को कम करने में लाभकारी है।

वजन कम करे- बादाम में मौजूद monounsaturated fat आपको लंबे समय तक भरा पेट महसूस कराने में कारगर है। इसलिए जब भी भूख लगे, बादाम को अपने स्नैक्स में शामिल करें। ऐसा करने से आप अपने वजन पर भी काबू रख पाएंगी।

एजिंग को रोकें-
बादाम एंटी-ऑक्सीडेंट के अच्छे स्रोत माने जाते हैं। पानी में भीगे बादाम में मौजूद विटामिन ई एंटी-ऑक्सीडेंट की तरह काम करता है, जो फ्री रेडिकल को नुकसान न पहुंचाते हुए inflation और एजिंग को बढ़ने से रोकता है।

कैंसर से लड़े- पानी में भीगे बादाम में विटामिन बी17 पाया जाता है, जो कैंसर से लड़ने में मददगार है। बादाम में मौजूद फ्लेवनॉइड, ट्यूमर को बढ़ने से रोकता है।

Heart के लिए अच्‍छा- बादाम दिल के लिए काफी अच्छे होते हैं। ये बुरे कोलेस्ट्रोल (low density lipoprotein) को बॉडी से कम कर अच्छे कोलेस्ट्रोल (high density lipoprotein) को बढ़ावा देते हैं। जर्नल ऑफ न्‍यूट्रिशन में प्रकाशित एक रिसर्च के अनुसार, बादाम एक बहुत ही शक्तिशाली एंटीऑक्‍सीडेंट हैं, जो एलडीएल कोलेस्‍ट्रॉल के ऑक्‍सीकरण को रोकने में हेल्‍प करता है। बादाम के ये गुण हार्ट को हेल्‍दी रखने में हेल्‍प करते हैं।

Read more: कैसे करते हैं अच्छे और बुरे ड्राई फ्रूट्स का क्वालिटी टेस्ट?

गर्भवती के लिए अच्‍छा- भीगे हुए बादाम में फॉलिक एसिड बहुत अधिक होने के कारण गर्भ के शिशु के ब्रेन और न्यूरोलॉजिकल सिस्टम के विकास में मददगार साबित होता है। इसके अलावा, जब बादाम को भिगा दिया जाता है तो उन्हें खाना आसान हो जाता है, जो गर्भवती की कमजोर पाचन क्रिया के लिए बहुत अच्छा होता है।

अब तो आपको पता चल ही गया होगा कि भीगे बादाम आपके लिए कितने फायदेमंद हैं। तो आप कब से शुरु कर रही हैं इन्‍हें खाना।

Recommended Video