खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए भारतीय किचन में कई तरह के मसाले इस्तेमाल किए जाते हैं। ऐसा ही एक मसाला हींग भी है जिसका इस्तेमाल खाने में खुशबू बढ़ाने से लेकर दाल में तड़का लगाने और सब्जियों का बादीपन दूर करने के लिए भी किया जाता है। साथ ही यह कई बीमारियों को दूर करने में भी आपकी हेल्प करता है। लेकिन क्या आप जानती हैं कि हर घर के लिए इतने काम आने वाली हींग भारत में उगाई ही नहीं जाती है। जी हां आप हींग के बारे में जानते हैं जो आमतौर पर पूरे देश में उपयोग की जाती है और ईरान, अफगानिस्तान और उजबेकिस्तान जैसे देशों से आयात की जाती है। अच्छी खबर यह है कि अब सेंटर फॉर साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (CSIR) के वैज्ञानिकों ने हिमाचल प्रदेश में हींग के पौधे लगाए हैं और अगर यह खेती सफल रही तो इसे स्थानीय स्तर पर उगाया जाएगा और हम लगभग रुपये 900 करोड़ जो भारत को मसाला आयात करने के लिए वार्षिक रूप से खर्च किया जाता है।

आपने देखा होगा कि जब भी घर में किसी छोटे बच्चे के पेट में दर्द होता है तो घर में मौजूद बुजुर्ग बच्चे के पेट में हींग लगाने के लिए कहते हैं और नाभि के आस-पास हींग से मालिश करने के कुछ देर बाद ही बच्चे को राहत मिल जाती है। जी हां हींग सिर्फ पेट दर्द को दूर करने के लिए ही नहीं बल्कि कई बीमारियों में रामबाण की तरह काम करती है। आइए जानें हींग कैसे आपको बीमारियों से बचाती है।

पेट के लिए रामबाण
hing for stomach inside

पेट में दर्द और अपच दूर करने के लिए हींग का इस्तेमाल लगभग सभी महिलाएं करती हैं। इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीजडेंट गुणों के कारण यह पेट से जुड़ी समस्याओं से राहत पहुंचाती है। गैस की समस्या और बदहजमी से छुटकारा पाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। पेट में किसी भी तरह की समस्या होने पर 1 कप पानी में थोड़ी सी हींग मिलाकर लेनी चाहिए या पेट में दर्द होने पर हींग को पानी में घोलकर हल्का सा गर्म करके थोड़ा सा नाभि में डालने और आसपास लगाना चाहिए। ऐसा करने से कुछ ही देर में आराम मिलता है।

इसे जरूर पढ़ें: घर पर बनाएंगी गरम मसाला तो खाना बनेगा स्वादिष्ट

पेनकिलर भी है हींग

हींग का इस्तेमाल कई तरह के पेन को दूर करने के लिए किया जाता है। आप इसे नैचुरल पेनकिलर कह सकती हैं। इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी और दर्दनिवारक गुणों के कारण यह पेनकिलर की तरह काम करता है। पेट दर्द के लिए इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है यह तो हम आपको पहले ही बात चुके हैं लेकिन यह सिर दर्द, दांत में दर्द और पीरियड्स में होने वाले दर्द को दूर करने में हेल्प करता है। सिर दर्द होने पर इसे हल्का गर्म करके लेप करने से फायदा होता है और पीरियड्स के दिनों में ज्यादातर महिलाओं को पेट दर्द और मरोड़ की शिकायत होती है। ऐसे में चुटकी भर हींग को पानी के साथ लेने से आराम मिलता है और दांतों में दर्द होने पर हींग को नींबू की कुछ बूंदों के साथ मिलकार दर्द वाले दांत पर लगाने से आराम मिलता है।

Recommended Video

ब्लड शुगर लेवल करें कंट्रोल
hing for diabetes inside

अगर आप अपने ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखना चाहती हैं तो अपनी डाइट में हींग को शामिल कर लें। हींग इंसुलिन को छिपाने के लिए अग्नाशय के सेल्स को उत्तेजित करती है जिससे ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है और इससे डायबिटीज होने का खतरा भी कम होता है। अपनी डाइट में हींग का इस्तेमाल करने के साथ ही आप गुनगुने पानी में हींग मिलाकर पी सकती हैंं। इससे ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल होता है।

सांस की बीमारियों में लाभकारी 

हींग सांस संबंधी रोगों में भी लाभकारी होती है। हींग नैचुरल तरीके से बलगम को दूर करके चेस्ट कंजेशन हटाती है। खांसी, जुकाम या ब्रोंकाइटिस होने पर इसे शहद और अदरक के साथ मिलाकर लेने से बहुत आराम मिलता है।

इसे जरूर पढ़ें: अस्‍थमा में संजीवनी बूटी की तरह काम करते हैं ये 7 हर्ब्‍स

स्किन प्रॉब्लम्स दूर करें 

हींग में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व ना केवल पेन को दूर भगाते है बल्कि स्किन की केयर भी करतेे हैं। शायद आपने देखा होगा कि स्किन केयर प्रोडक्ट में हींग को मिलाया जाता है। ये स्किन इचिंग को दूर करता है और कॉर्न्स जैसी प्रॉब्लम्स से भी बचाता है। स्किन पर हींग लगाने से कूलिंग इफेक्ट होता है और साथ ही स्किन प्रॉब्लम्स के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया दूर करने में हेल्प करता है।


तो देर किस बात की आपकी किचन में मौजूद इस मसाले को अपनी डाइट का हिस्सा बनाएंं और बीमारियों को दूर भगाएं। डाइट से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।