प्यार से बोलो जय माता दी, जोर से बोलो जय माता दी। नवरात्र की बहुत सारी शुभकामानएं आपको और अगर आप नवरात्र के व्रत रख रही हैं तो और यह आपके लिए और भी ज्यादा मंगलमय हो। नवरात्र एक ऐसा व्रत है, जिसे 90 प्रतिशत हिंदू रखते हैं। कुछ लोग लिक्विड पर व्रत रखते हैं तो कुछ लोग केवल फल खाकर ही व्रत रखते हैं। वहीं कुछ लोग एक समय नमक खाकर व्रत रखते हैं। लेकिन व्रत में यह जरूरी नहीं होता है कि आप क्या खाती हैं और क्या नहीं। नवरात्र में यह जरूरी होता है कि आप कितने-कितने अंतराल में कुछ खाती हैं। अगर आप भी नवरात्र के व्रत रखती हैं तो यह आर्टिकल आपके लिए है।  

बॉडी के अनुसार रखें व्रत 

हर इंसान के शरीर की क्षमता अलग होती है। इसलिए किसको क्या खाना चाहिए और कितने अंतराल में खाना चाहिए, यह उसकी क्षमता पर निर्भर करता है। वैसे भी किसकी बॉडी को क्या सूट करता है, यह कहना मुश्किल है। इसलिए अपने बॉडी के अनुसार व्रत का चुनाव करें। अलग-अलग क्षमता की वजह से कुछ लोग हंसते-हंसते लिक्विड पर व्रत रख लेते हैं तो कुछ लोग एक समय खाकर भी व्रत नहीं रख पाते हैं।

navratri fast food jai mata di inside

कितने अंतराल में खाएं

ऐसा शरीर को लगने वाले खाने की वजह से होता है। दरअसल कुछ लोगों की बॉडी टाइप ऐसी होती है कि उन्हें थोड़े-थोड़े अंतराल में कुछ चाहिए होता है। ऐसे में व्रत के दौरान भी आप थोड़े-थोड़े अंतराल में कुछ-कुछ खाकर अपने शरीर का ख्याल रखें। 

इसे जरूर पढ़ें: Chaitra Navratri 2020: नवरात्र के व्रत में खाएं सिंघाड़े की नमकीन बर्फी

इसके लिए सबसे पहले अपनी बॉडी को समझें। यह भी ध्यान रखें कि आप कितनी देर तक भूखे रहने के बाद भी ठीक महसूस करती हैं, आपका डाइजेस्टिव सिस्टम कैसा है, एसिड का लेवल क्या है आदि। व्रत करते हुए अपने शरीर की प्रकृति का ध्यान जरूर रखें। फिर भी कुछ सामान्य बातों को आप यहां पढ़कर अपने शरीर का तुलनात्मक अध्ययन कर सकती हैं।  

चक्कर आने लगे

अगर व्रत में अचानक चक्कर आने लगते हैं तो आपको डिहाड्रेशन की समस्या है। मतलब की कुछ-कुछ समय में आपके शरीर में कोई खाने की चीज नहीं जाती है तो आपके शरीर में कमजोरी आने लगती है। ऐसे में हर 3-4 घंटे में दूध, छाछ, दही या फल आदि लें। लंबे समय तक भूखे रहने से जरूर बचें। 

इसे जरूर पढ़ें: Chaitra Navratri: नवरात्रि व्रत रखने के हैं ये 5 फायदे, स्किन करती है ग्लो और वेट तेजी से होता है कम

navratri fast food jai mata di inside

मौसमी फल खाएं

व्रत के दौरान ज्यादा-से-ज्यादा मौसमी फल खाएं हर 3-3 घंटे में कुछ-कुछ खाते रहें। सेब और केला खाने की बजाय संतरा और मौसमी फल अधिक खाएं। इनमें फाइबर्स अधिक होते हैं, जिससे कब्ज की समस्या नहीं होती है और बॉडी को प्रचुर मात्रा में पानी भी मिल जाता है। 

Recommended Video

रात का खाना

इसी तरह से रात में आलू खाने की जगह मौसमी सब्जियां खाएं। आलू के मुकाबले पालक, मूली, टमाटर, कद्दू, सीताफल ज्यादा खाएं। अगर आलू खाना चाहते हैं तो उसे तलने के बजाय उबले रूप में मैश कर दही के साथ खाएं। 

navratri fast food jai mata di inside

हर तीन घंटे में लस्सी पिएं

व्रत में केले खाने के बजाय हर तीन घंटे में लस्सी पिएं। इससे बॉडी में डिहाइड्रेशन की समस्या नहीं होगी और चक्कर भी नहीं आएंगे। साथ ही आपको भूख भी नहीं लगेगी। अगर जूस पीना पसंद है तो पैक्ड जूस पीने के बजाय ताजा फलों को जूस पिएं। 

व्रत के दौरान कुछ चीजें खाने और कुछ चीजें नहीं खाने का प्रावधान है। इन चीजों के बारे में अच्छे से जान लें और ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। व्रत के दौरान पेट को जितना हो सके पानी से भर लें। इससे भूख नहीं लगती और चक्कर भी नहीं आते हैं। तो इस तरह से नवरात्र के व्रत रखें और हेल्दी रहें।