भारत विविधता वाला देश है और विभिन्न संस्कृतियां इसकी खूबसूरती को बखूबी बयान करती हैं। इस देश में कई ऐसे मशहूर और पुराने मकबरे हैं, जिन्हें देखा जाना चाहिए। साथ ही, यह मकबरे समय के साथ पर्यटकों के लिए पसंदीदा स्थल बन गये हैं। मुगलों द्वारा बनवाए गए मकबरे बहुत खास हैं इसी में ही शेर शाह सूरी का मकबरा भी आता है, जो बेहद खास है। हज़ारों लोग इस मकबरे की खूबसूरती को निहारने आते रहते हैं। यह देखने में न सिर्फ बड़ा है बल्कि खूबसूरती ऐसी कि इसका नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज है। तो चलिए जानते हैं शेर शाह सूरी के मकबरे के बारे में कुछ रोचक बातें..... 

कौन थे शेर शाह सूरी? 

कहा जाता है कि शेर शाह सूरी का जन्म लगभग 1472 ईस्वी में हुआ था, जिन्हें बचपन में फरीद खां के नाम से पुकारा जाता था। हालांकि इसके जन्म वर्ष और जगह दोनों को लेकर मतभेद है कोई कहता है कि इनका जन्म 1486 ईस्वी में हुआ था। वह बहुत ही कुशल सैन्य, निर्भिक, बहादुर, बुद्धिमान व्यक्ति थे। उनके दादा का नाम इब्राहिम सूरी और पिता का नाम हसन खान सूरी, जो सुल्तान बहलोल लोदी के समय 1482 ईस्वी में अफगानिस्तान के सरगरी से रोजगार की तलाश में भारत आए थे।

भारत में उन्होंने महाबत खां सूरी व जमाल खां के यहां नौकरी की। फिर 1499 ई. में जमाल खां ने हसन खां को सासाराम (सासाराम) का जागीरदार बना दिया था। शेर शाह का बचपन यही बीता और वहां का जागीरदार भी बना था। फिर सन 1540 में हुमायूं को पराजित कर शेर शाह ने दिल्ली की गद्दी पर बैठ हिंदुस्तान पर लगभग 5 साल तक राज किया था। 

शेर शाह सूरी मकबरे का इतिहास

tomb

शेर शाह सूरी एक पठान योद्धा था यानि वह पठान खानदान से ताल्लुक रखता था और मुगलों का बादशाह था। शेर शाह सूरी ने लगभग पांच साल 1540 से लेकर 1545 तक शासन किया था और साल 1545 में उनकी मृत्यु हो गई थी। अपनी हुकूमत के दौरान उन्होंने बिहार में शेरशाह सूरी नाम से एक मकबरा बनवाया था, जिसका वास्तुकार (बनाने वाला) अलीवाल खान है।

अलीवाल खान ने लाल बलुआ पत्थर से इस मकबरे का निर्माण किया था। यह मकबरा भारतीय-इस्लामिक शैली में निर्मित किया गया है, जो झील के बीचो-बीच स्थित है। इस मकबरे की यही खूबसूरती लोगों को काफी आकर्षित करती है। इसलिए लोग दूर-दूर से इस मकबरे को देखने आते हैं। 

मकबरे के अंदर मौजूद है बादशाह की कब्र 

kabr

मुगल साम्राज्य ने भारत के मुस्लिम लोगों को क़ब्रों की निर्माण शैली से परिचित भी कराया। इसलिए मुगल साम्राज्य में बनवाए गए तमाम मकबरे में कब्रें भी बनाई गई हैं। इस मकबरे के भीतर भी लगभग 24 कब्रें हैं और बादशाह शेर शाह सूरी की कब्र मकबरे बीच में है। इतिहास के अनुसार कालिंजर से बादशाह के शव को लाकर मकबरे के ठीक बीच में दफनाया गया था। तभी से लेकर आजतक वहां बादशाह की कब्र मौजूद है। इसके अलावा, इसकी कब्र के पास ही उसके करीबी अधिकारियों और परिवार के सभी सदस्यों की कब्र मौजूद है। 

कैसी है वास्तुकला? 

sher shah suri tomb picture

हज़ारों लोग इस मकबरे की खूबसूरती को दूर-दूर से निहारने आते रहते हैं। अगर हम इसकी खूबसूरती के साथ वास्तुकला की बात करें, तो यह मकबरा तीन मंजिला बना हुआ है और यह ऊपर से कंगूरेदार मुंडेर से घिरा है। मकबरे के अंदर दक्षिण-पूर्वी दिशा के गलियारे से सीढ़ियां भी बनाई गई हैं ताकि आसानी से ऊपर नीचे किया जा सके। इसके अलावा, मकबरे के मुख्य गुम्बद के चारों ओर अष्टभुज के किनारों पर आठ स्तंभ वाले गुम्बद बनाए गए हैं। दीवारों और गुम्बद के भीतरी भाग को कुरान के शिलालेखों से भी उकेरा गया है। साथ ही, उन्हें सुंदर और रुचिपूर्ण पुष्प डिजाइनों से भी सजाया गया है। 

अगर हम इस मकबरे की ऊंचाई की बात करें तो इस मकबरे की ऊंचाई चबूतरे के ऊपर से कुल 120 फीट है और पानी से इसकी ऊंचाई लगभग 150 फीट है। साथ ही, इस मकबरे की नक्काशी व शिल्पकला पर्यटकों को अफगान स्थापत्य कला की जानकारी देती है।

मकबरे घूमने का समय

tomb of sher shah suri

शेर शाह सूरी का मकबरा सप्ताह के हर दिन खुलता है। यहां सभी पर्यटकों को सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक प्रवेश की अनुमति है।

इसे ज़रूरत पढ़ें- आगरा के लाल ताजमहल के बारे में जानें रोचक तथ्‍य

टिकट की कीमत 

मकबरे को घूमने के लिए टिकट की कीमत बहुत कम है। सभी भारतीयों के लिए टिकट की कीमत सिर्फ 5 रुपये प्रति व्यक्ति और विदेशियों के लिए प्रति व्यक्ति 100 रुपये है। साथ ही, पंद्रह साल से कम उम्र के बच्चों के लिए कोई टिकट नहीं है।

Recommended Video

कैसे पहुंचें? 

शेर शाह का मकबरा बिहार के रोहतास जिले के मुख्यालय सासाराम में स्थित है। यहां जाने के लिए आपको सासाराम पूर्व मध्य रेलवे के पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन या गया जंक्शन रेलवे स्टेशन की ट्रेन लेनी होगी। इसके अलावा, अगर आप राष्ट्रीय राजमार्ग वाराणसी से आते हैं, तो वहां से यह 130 किलोमीटर स्थित है।

हवाई मार्ग से आने के लिए आप वाराणसी, पटना या गया एयरपोर्ट की टिकट करवा सकते हैं। फिर वहां से सड़क मार्ग से आसानी से जा सकते हैं।

इसे ज़रूरत पढ़ें- केरल की असल प्रकृति की खूबसूरती छिपी है इन राष्ट्रीय पार्को में

अगर आपकी इतिहास में रूचि है तो आप एक बार यह मकबरा जरूरी घूमें। आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें, साथ ही इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- (@Google and Travel websites)