नवरात्रि में किए जाने वाले श्री दुर्गा पूजन के साथ ही गेहुं के ज्वारे बोने की ही परम्परा भी चली आ रही है। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि गेहूं के ज्वारे से आप शायद आप वीट ग्रास के नाम से भी जानती हैं, एक प्रकार की औषधि है, जिसे ग्रीन ब्‍लड भी कहा जाता है। इसे लेने से आप कई प्रकार के बीमारियां से फ्री करता है। नवरात्रियों में बोए जाने वाले जौ ना केवल पूजन की एक पराम्‍परा तक ही सीमित है बल्कि अगर इनका सेवन किया जाए तो ये बॉडी को भी हेल्‍दी रखते हैं। जी हां खुद को बीमारियों से बचाने और हेल्दी रहने के लिए आप कई चीजों का सेवन करती हैं लेकिन इसके बावजूद भी आप कई छोटी-मोटी परेशानियों की चपेट में आ जाते है। यहीं प्रॉब्लम आगे जाकर बड़ी बीमारियों का कारण बन जाती है। लेकिन व्‍हीट ग्रास जूस लेने से आप हर मौसम में हेल्‍दी रह सकती है। इसमें फैट की मात्रा तो कम होती ही है लेकिन प्रोटीन, विटामिन्स, कैल्शियम और मिनरल भरपूर मात्रा में होता है।

प्राचीन काल से ही चिकित्सक वीट ग्रास को विभिन्न रोगों जैसे, कैंसर, त्वचा रोग, मोटापा, डायबिटीज आदि के ट्रीटमेंट में प्रयोग कर रहे हैं। वैज्ञानिक रिसर्च से यह सिद्ध हो चुका है कि वीट ग्रास जूस लाखों बीमारियों को दूर कर सकता है। व्‍हीट ग्रास का उपयोग कैसे करें जानते हैं इसी बारे में.....

Read more: जानिए कैसे सरसों का तेल वजन कम करने के साथ-साथ आपकी स्किन को बनाता है बेदाग

क्‍या होता है व्‍हीट ग्रास?

गेहूं के बोने पर जो एक ही पत्ता उगकर ऊपर आता है उसे जौ या ज्‍वारा कहा जाता है। नवरात्रि में यह घर-घर में छोटे-छोटे मिट्टी के पात्रों में मिट्टी डालकर इसे बोया जाता है। इसके पत्‍तों को पीसकर इसका जूस निकाला जाता है जिसे व्‍हीट ग्रास जूस के नाम से जानते हैं और ये हेल्‍थ के लिए बहुत अच्‍छा होता है। एक्‍सपर्ट आयुर्वेद फिजिशियन डॉक्‍टर अबरार मुल्तानी के अनुसार, ''आयुर्वेद के अनुसार व्‍हीट ग्रास जूस पित्त असंतुलन से होने वाले कई रोगों में बहुत लाभकारी है। अम्लपित्त, रक्तपित्त, वातरक्त, दाह, जलन, रक्त की खराबी, नकसीर, कब्ज, खराब पाचन की वजह से वजन न बढ़ना आदि में व्‍हीट ग्रास जूस बहुत फायदेमंद है। व्‍हीट ग्रास जूस में 103 पौष्टिक तत्व, आवश्यक विटामिनों की पूरी श्रेणी (जिसमें विटामिन-‘सी’, ‘ए’, ‘बी’ और ‘ई’ बहुतायत में हैं) मौजूद होते है। इसके अद्भुत गुणों के कारण इसे ‘ग्रीन ब्लड’ भी कहा जाता है। व्‍हीट ग्रास जूस पीने से मूत्राशय व किडनी सम्बन्धी रोग दूर होते हैं। पथरी भी दूर होती है। इससे आंखों की रोशनी बढ़ती है। मुंहासे, फोड़े, घाव-जख्म, फुंसी, जल जाना आदि में व्‍हीट ग्रास जूस रक्तशुद्धि करता है अतः त्वचा रोगों में लाभकारी होता है। अगर आप थायरॉयड की बीमारी से परेशान है तो व्‍हीट ग्रास जूस का लें।  इसका जूस थायरॉयड की बीमारी में बहुत फायदेमंद होता है। यह थायरॉयड की बीमारी को कण्ट्रोल करने के लिए एक नेचुरल दवा है। यह जूस डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने में हेल्‍प करता है।''

बालों से सम्बंधित समस्याओं जैसे बाल झड़ना, बाल सफेद होना तथा महिलाओं को रसौली में भी व्‍हीट ग्रास जूस लेना फायदेमंद होता है। व्‍हीट ग्रास जूस में मौजूद मिनरल्स और क्लोरोफिल बालों को हेल्दी बनाने में असरदार है। इसके जूस को बालों की जड़ों में लगाने से डैंड्रफ की समस्या दूर होती है।

व्‍हीट ग्रासजूस के कई हेल्‍थ बेनिफिट्स हैं क्‍योंकि इसमें क्‍लोरोफिल, विटामिन्‍स- ए, सी और ई, कैल्‍शियम, आयरन, मैगनीशियम, पोटैशियम और अमीनो एसिड पाया जाता है। इन सभी कारणों से आपके वजन को कम करता है। अगर वजन कम करना हो तो रोज सुबह खाली पेट वीट ग्रास जूस पीना चाहिये। व्‍हीट ग्रासकी सबसे अच्‍छी बात यह है कि यह आपको आसानी से किसी भी मेडीकल शॉप पर मिल जाएगा या आप चाहे तो इसे घर में आसानी से उगाकर भी इस्‍तेमाल कर सकती हैं।

wheat grass health benefits inside

हेल्‍थ टॉनिक है ये जूस

वीट ग्रास जूस बॉडी के लिए किसी हेल्‍दी टॉनि‍क से कम नहीं है। इसमें बॉडी को हेल्‍दी रखने वाले पांचो तत्वों में से चार तत्व यानि कार्बोहाईड्रेट, विटामिन, एल्‍कलाइन एवं प्रोटीन पाए जाते हैं। जिस कारण इसे लेने से आप कई बीमारियों से बची रह सकती हैं।

वजन कम करें

व्‍हीट ग्रास में बहुत सारे पोषक तत्‍व होते हैं, जिसकी बॉडी को जरुरत होती है। इससे आपकी बॉडी को बेकार के खाने की लत नहीं लगती और आप जंक फूड खाने से भी बच जाती हैं जिससे केवल वजन बढता है। जी हां अगर आप सुबह खाली पेट व्‍हीट ग्रासपीती हैं तो आपका पेट लंबे समय तक भरा रहता है। इससे वजन कंट्रोल रहेगा

डिटॉक्‍स करता है बॉडी को

व्‍हीट ग्रास जूस में मौजूद बीटा-ग्लूकेन बॉडी से टॉक्सिन को मल द्वारा बाहर निकालने में हेल्‍प करता है और बवासीर के खतरे को कम करता है। यह आपको कब्ज से राहत देता है, आंतों को साफ रखता है जिससे की पेट के कैंसर की संभावना कम हो जाती है। साथ ही व्‍हीट ग्रास में विटामिन बी, एमीनो एसिड और ऐसे ही एंजाइम्‍स होते है जो खाना पचाने में मदद करते है। इसके अलावा रोजाना इसे लेने से ब्‍लड सर्कुलेशन ठीक रखने में हेल्‍प मिलती है।

एनीमिया दूर करें

जैसे कि हमने आपको बताया कि इसे ग्रीन जूस के नाम से भी जाना जाता है इसलिए इसे रोज लेने से ब्‍लड की मात्रा बढ़ती है व हीमोग्लोबिन का लेवल नॉर्मल हो जाता है। और महिलाओं के लिए तो इसका जूस बहुत ही फायदेमंद हो सकता है क्‍योंकि ज्‍यादातर महिलाओं में ब्‍लड की कमी पाई जाती है। जी हां व्हीट ग्रास एनीमिया को दूर करने में बहुत मददगार होता है।

wheat grass for arthritis inside

अर्थराइटिस का दर्द दूर करें

अर्थराइटिस की समस्‍या होने पर जोड़ों में दर्द और अकड़न आने लगती हैं। लेकिन व्‍हीट ग्रास जूस लेने से ये समस्‍याएं दूर हो जाती है। जी हां इसमें मौजूद एंटी-इंफ़्लेमेंटरी गुणों के कारण ये अर्थराइटिस से परेशान महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसका 1 गिलास जूस हर प्रकार के दर्द और जोड़ों में सूजन को दूर करने में मदद करता है।

Read more: वसाबी: वेट लॉस से लेकर ग्‍लोइंग स्किन तक 10 प्रॉब्‍लम्‍स का रामबाण इलाज है ये हर्ब

एनर्जी से भरपूर

आजकल की महिलाएं पोषक तत्‍वों की कमी के कारण बहुत जल्‍दी थक जाती है। लेकिन व्‍हीट ग्रास जूस लेने आपकी बॉडी को एनर्जी देता है। जिससे आपकी बॉडी लंबे समय तक काम कर सकती है। जी हां इसे लेने से कार्यक्षमता बढ़ जाती है और थकान नहीं होती।

बीमारियों से लड़ने के लिए प्रकृति ने हमें कई अनमोल चीजें दी हैं। उन्हीं में से एक है व्‍हीट ग्रास। औषधीय गुणों को देखते हुए आयुर्वेदिक ने भी इसे प्रकृति की संजीवनी बूटी कहा है। तो देर किस बात की आप भी इस अनमोल हर्ब्‍स का इस्‍तेमाल कर हेल्‍दी रह सकती हैं।