प्रीमेंस्ट्रुअल से पहले का सिरदर्द आमतौर पर एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन में कमी के कारण होता है, जो आपके पीरियड्स शुरू होने से पहले होता है। जबकि ये हार्मोनल परिवर्तन लगभग सभी महिलाओं में दिखाई देते हैं, लेकिन कुछ महिलाएं दूसरों की तुलना में इन परिवर्तनों के प्रति अधिक संवेदनशील होती हैं। अगर आपको भी पीरियड्स से पहले सिरदर्द की समस्‍या होती है, तो आर्टिकल में बताया नुस्‍खा आपके लिए बेहद फायदेमंद हो सकता है। इस नुस्‍खे के बारे में हमें आयुर्वेदिक डॉक्‍टर जीतू रामचंद्रन जी बता रही हैं। उन्‍होंने यह नुस्‍खा अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से फैन्‍स के साथ शेयर किया है।

नुस्‍खे के लिए सामग्री 

  • हलीम के बीज- 1/2 छोटा चम्‍मच 
  • गुड- 1 टुकड़ा

विधि 

  • इस नुस्‍खे को बनाने के लिए बीजों और गुड को थोड़े से पानी में भिगो दें। 
  • इसे कुछ देर के लिए ऐसे ही छोड़ दें।
  • फिर इसे अच्‍छी तरह से पीसकर पेस्‍ट बना लें।
  • शाम के समय इसकी एक चम्‍मच लें।

नुस्‍खे के फायदे

हलीम के बीज

haleem ke beej

हलीम के बीज आयोडीन, फास्फोरस और पोटेशियम के समृद्ध स्रोत हैं। इन्हें एलीव सीड्स/चंद्रशूरा भी कहा जाता है। आयुर्वेद के अनुसार, बीज हल्के, बिना गंध वाले और नेचर से स्लिपरी होते हैं। यह कफ और वात को संतुलित करते हैं। यह एस्ट्रोजन की कमी में भी उपयोगी होते हैं। साथ ही पौष्टिक गुणों से भरपूर हलीम के बीजों में प्रोटीन, आयरन, फोलिक एसिड के साथ ही बहुत अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जो आपकी हेल्‍थ के लिए बहुत अच्‍छा होता है।

इसके अलावा, हलीम के बीजों में बहुत सारे फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जो एस्ट्रोजन के समान होते हैं। यह एक ऐसा हार्मोन है, जो महिला के शरीर में विभिन्न भूमिका निभाता है। इन बीजों में एक्टिव तत्‍व पीरियड्स के नियमन में मदद करते हैं। अगर आप पहले से ही ऐसी दवा ले रही हैं, जो आपके हार्मोन को प्रभावित करती है, तो अपने आहार में हलीम के बीजों को शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Recommended Video

गुड

gud for headache

पीरियड्स से पहले होने वाले सिर दर्द और माइग्रेन से बचाने में गुड़ का सेवन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, कैल्शियम, मैंगनीज, जिंक और सेलेनियम ऐसे मिनरल्‍स हैं, जो आपको दर्द से निपटने में मदद करते हैं। यह सभी गुड़ में भरपूर मात्रा में होते हैं।

सावधानी 

सिर्फ इसलिए कि हलीम के बीज कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको उनका असीमित मात्रा में सेवन करना चाहिए। आप सुरक्षित रूप से इन बीजों का एक बड़ा चम्‍मच या 12 ग्राम सप्ताह में 2 से 3 बार ले सकती हैं। अपने चिकित्सक द्वारा निर्धारित अनुशंसित खुराक से अधिक का सेवन न करें। हलीम के बीज में गोइट्रोजन की मात्रा भी होती है, जो शरीर में आयोडीन के उचित अवशोषण को रोक सकती है।

आप भी इस नुस्‍खे को अपनाकर पीरियड्स से पहले होने वाले सिरदर्द से बच सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।