साल 2020 को कोरोना काल कहा जाए तो कुछ गलत नहीं होगा क्‍योंकि हर जगह कोरोना ने अपना कहर कायम रखा और कोविड-19 संक्रमण के कारण पूरे देश को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। लेकिन यह साल कुछ खट्टी-मीठी यादों के साथ कुछ ही दिनों में हमसे विदा लेने वाला है। साल के अंत में हम आपके लिए कुछ ऐसे घरेलू नुस्‍खे लेकर आए हैं जो ज्‍यादातर लोगों ने बीमारियों के लिए गूगल पर सबसे ज्‍यादा सर्च किया था। हो सकता है आपने भी इनमें से कोई घरेलू नुस्‍खा गूगल पर सर्च किया हो। अगर नहीं भी तो भी आप 2020 के सबसे सर्च किए जाने वाले घरेलू नुस्‍खों के बारे में जान सकती हैं क्‍योंकि कोरोना काल में लोगों का घरेलू चीजों पर विश्‍वास थोड़ा बढ़ गया है।

गले में खराश

sore throat inside

गूगल पर सबसे ज्‍यादा सर्च किए गए लिस्‍ट में सबसे पहले नम्‍बर पर गले की खराश के लिए घरेलू नुस्‍खा है। मौसम में बदलाव के साथ बैक्टीरियल और वायरल इंफेक्शन होना आम बात है। ऐसे में फ्लू, कोल्ड, जुकाम और गले खराब होने जैसी समस्याएं होने लगती हैं। विशेष तौर पर गले की खराश आपको बहुत ज्‍यादा परेशान करती है। इसके कारण ना तो आप ठीक से खा पाती हैं और ना ही बोल पाती हैं।

इसे जरूर पढ़ें:गले की खिच-खिच को दूर करेंगी ये 5 अनोखी होम मेड ड्रिंक्‍स

गले में खराश के लिए घरेलू नुस्‍खे

अदरक 

गले की खराश को ठीक करने के लिए अदरक से अच्‍छा कुछ और हो ही नहीं सकता है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो खराश को दूर करने में काफी असरदार होते हैं। इसके लिए आप शहद में थोड़ा सा अदरक का जूस मिलाकर लें। आप चाहे तो इसका उपयोग करने के लिए, एक गिलास पानी में अदरक के टुकड़ों को उबालें। जब पानी आधा रह जाए तो आंच बंद कर दें और इसे थोड़ा तेज गर्म ही लें। 

लौंग

लौंग में बहुत सारे एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं। गले की खराश को दूर करने के लिए लौंग के पाउडर को पानी में मिलाकर लें। इसके अलावा आप चाहें तो लौंग को पानी में उबालेंं और इस पानी को गरारे के लिए इस्‍तेमाल करें। 

कब्ज

constipation inside  

कोरोना काल के कारण 2020 में लोगों की दिनचर्या और खान-पान अनियमित हो गया है। इसके अलावा लंबे समय तक बैठे रहने, एक्‍सरसाइज न करने और रात को खाने के बाद सीधा सो जाने के कारण कब्‍ज जैसी समस्‍या होने लगी हैं। इसलिए लोगों ने 2020 में कब्‍ज के लिए घरेलू नुस्‍खों को सबसे ज्‍यादा सर्च किया है।

कब्ज के लिए घरेलू नुस्‍खे

अंजीर

अगर आपको भी कब्‍ज की समस्‍या है तो अंजीर आपके लिए रामबाण हो सकता है। इसके लिए रात को थोड़े से पानी में 1 अंजीर भिगो दें और सुबह इसे चबा-चबाकर खा लें और इसका पानी पी लें। इससे पेट अच्छी तरह साफ होगा और कब्ज की समस्या नहीं होगी।

शहद 

कब्ज के लिए शहद बेहद फायदेमंद है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि शहद को अपने हल्के रेचक फायदों के लिए जाना जाता है। रात को सोने से पहले एक चम्मच शहद को एक गिलास पानी के साथ मिलाकर पिएं। इसके नियमित सेवन से कब्ज की समस्या दूर हो जाती है।

हार्टबर्न

heartburn inside

हार्टबर्न की समस्या सुनने में बेहद आम लगती है, लेकिन जब व्यक्ति को सीने के निचले हिस्से में तेज जलन, दर्द, मतली आदि की परेशानी होती है तो व्यक्ति काफी बैचेन हो जाता है। हार्ट बर्न की समस्या पेट की अपच से जुड़ी है जिसमें असंतुलित खान-पान या किसी बीमारी के साइड इफेक्ट के कारण पेट में गैस या एसिडिटी होने लगती है, जिसके कारण सीने में जलन की समस्‍या होती है। लेकिन परेशान होने की जरूरत नहीं क्‍योंकि घरेलू नुस्‍खों की मदद से इससे बचा जा सकता है। 

हार्टबर्न के लिए घरेलू नुस्‍खे

अदरक

अदरक में नेचुरल एंटी−इंफलेमेटरी गुण पाए जाते हैं जो हार्टबर्न का एक प्राकृतिक उपचार हैंं। आप अदरक की चाय बनाकर इसका सेवन कर सकती हैं।

एलोवेरा जूस

हार्टबर्न को दूर करने के लिए एलोवेरा जूस का सेवन करें। एलोवेरा जूस आपको भीतर से ठंडक देता है जिससे आपको सीने में होने वाली जलन से राहत मिलती है।

कोल्‍ड सोर

cold sore inside

कोल्‍ड सोर ज्यादतर होठों के आसपास, नाक के नीचे या ठोढ़ी के पास पाया जाता है। यह बहुत ही पीड़ादायक होता है। इस ओरल घावों का मुख्य कारण हर्पीज वायरस है। यूं तो यह घाव 7 दिनों में ठीक हो जाते हैं, लेकिन अगर इसका उपचार न किया जाए तो इसके दाग पूरी तरह रह जाते हैं। इस घरेलू नुस्‍खे को भी 2020 में गूगल पर सबसे ज्‍यादा सर्च किया गया था। आइए इसे ठीक करने के कुछ आसान घरेलू नुस्‍खे जानते हैं। 

कोल्‍ड सोर के लिए घरेलू नुस्‍खे

नींबू 

कोल्‍ड सोर से बहुत जल्‍दी निजात दिलाने में नींबू बहुत उपयोगी होता है। सोर पर नींबू का सत्‍व लगाने से आपको बहुत फायदा होता है। इसके लिए नींबू में डूबा हुआ कॉटन का टुकड़ा कोल्‍ड सोर पर दिन में दो या तीन बार लगाने से फायदा मिलता है।

बर्फ का इस्‍तेमाल

कोल्‍ड सोर के लिए आपको बर्फ का इस्‍तेमाल करना चाहिए। यह वायरस को पूरी तरह कंट्रोल करता है। बर्फ के माध्‍यम से इस बीमारी का बहुत ही तेजी से इलाज हो सकता है।

सिरदर्द

headache inisde

सिरदर्द सबसे सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है जो ज्यादातर लोगों को प्रभावित करती है। 2020 में लाइफस्‍टाइल में बदलाव के चलते ज्‍यादातर लोग इससे परेशान थे और गूगल पर इससे बचने के घरेलू नुस्‍खों की खोज कर रहे थे। आमतौर पर चार तरह का सिरदर्द देखने को मिलता है, जैसे चिंता से होने वाला सिरदर्द, माइग्रेन से होने वाला सिरदर्द, साइनस वाला सिरदर्द और क्लस्टर सिरदर्द। आइए इससे बचने के घरेलू नुस्‍खों के बारे में जानें।

सिरदर्द के लिए घरेलू नुस्‍खे

लैवेंडर

लैवेंडर से न केवल बहुत अच्छी खुशबू आती है, बल्कि माइग्रेन और सिरदर्द के दर्द के इलाज में भी कारगर है। लैवेंडर एसेंशियल ऑयल को माथे पर लगाएं या सिर दर्द के लक्षणों को कम करने के लिए आप इसे सूंघ सकती हैं।

तुलसी

थकी हुई मसल्‍स के कारण होने वाले सिरदर्द का इलाज करने में तुलसी बेहद लाभदायक होती है। इसके साथ ही इसमें आराम देने और एनाल्जेसिक के प्रभाव भी मौजूद होते हैं। तुलसी का इस्तेमाल करने के लिए एक कप पानी में सबसे पहले तीन या चार तुलसी की पत्तियों को कुछ मिनट तक उबलने के लिए रख दें।

कोल्‍ड और फ्लू

cold and flu, inside

बदलते मौसम के साथ कोल्‍ड और फ्लू आने वाली समस्या है। कोल्‍ड बैक्टीरियल या वायरल इन्फेक्शन, एलर्जी, साइनस इन्फेक्शन या ठंड के कारण हो सकती है, लेकिन हमारे देश में हर परेशानी के लिए लोग डॉक्टरों के पास नहीं जाते हैं बल्कि किचन में ही मौजूद घरेलू नुस्‍खों को अपनाने के लिए गूगल पर इसकी खोज करते हैं। इस साल लोगों ने कोल्ड और फ्लू के लिए घरेलू नुस्‍खों को भी काफी सर्च किया। 

कोल्‍ड और फ्लू के लिए घरेलू नुस्‍खे

आंवला

आंवला में प्रचुर मात्रा में विटामिन-सी पाया जाता है जो ब्‍लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाता है और इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स भी होते हैं जो आपकी इम्‍यूनिटी को मजबूत बनाकर कोल्‍ड और फ्लूू से बचातेे हैंं। 

काली मिर्च

अगर खांसी के साथ बलगम भी है तो आधा चम्मच काली मिर्च को देसी घी के साथ मिलाकर लें और आराम मिलेगा।

इसे जरूर पढ़ें:सर्दी और खांसी से लड़ने के लिए ये 3 अद्भुत आयुर्वेदिक टिप्‍स आजमाएं

कान में संक्रमण

ear infection inside

बदलते मौसम के साथ बैक्‍टीरियल और वायरल संक्रमण होना बहुत ही आम है। कान का संक्रमण बैक्‍टीरियल और वायरल संक्रमण की वजह से ही होता है। सर्दी-जुकाम, कान में पानी जाना, चोट, फुंसी या जख्म, साधारण जलन की स्थिति में खुरचने, संक्रमण या एलर्जी से भी दर्द होने लगता है। कान का संक्रमण काफी तकलीफ देह होता है। इसलिए लोग इससे बचने के लिए घरेलू नुस्‍खों की खोज करते हैं।

कान में संक्रमण के लिए घरेलू नुस्‍खे

तुलसी की पत्‍ती 

तुलसी की पत्‍ती से रस निकालकर कान में 4-5 बूंद डालें। आप चाहें तो तुलसी की पत्‍तियों को नारियल तेल में उबालकर भी कान में डाल सकती हैं।

सरसों का तेल

सरसों के तेल को हल्‍का गर्म करके कान में बूंदें डालें। लेकिन इन घरेलू नुस्‍खों को इस्‍तेमाल करने से पहले किसी एक्‍सपर्ट से सलाह जरूर ले लें।

खराब पेट

upset stomach inside

भागदौड़ भरी जिन्दगी के कारण खाने-पीने में लापरवाही जैसे समय पर भोजन न करने, हैवी भोजन करने या बार-बार भोजन करने से पेट खराब हो जाता है। अगर आप भी पेट खराब होने से परेशान रहती हैं तो ये घरेलू उपाय कर सकती हैं।

खराब पेट के लिए घरेलू नुस्‍खे

दालचीनी   

दालचीनी डाइजेशन में सुधार लाती है। पेट में गड़बड़ी होने पर एक कप पानी में आधा चम्मच दालचीनी पाउडर डालकर उबालें और पी लें। दालचीनी को चाय में डालकर भी पी सकती हैं। 

जीरा

एक गिलास पानी में एक चम्मच जीरा डालकर उबालें। इसे गुनगुना कर के पिएं। यह उपाय खराब पेट या पेट की बीमारी को ठीक करने में मदद करता है।

साइनस संक्रमण

sinus infection inside

साइनस एक ऐसी समस्या है जिससे ज्‍यादातर लोग परेशान रहते हैं। इसे साइनोसाइटिस कहा जाता है। यह नाक संबंधी रोग है जो जुकाम, सांस लेने में तकलीफ व चेहरे की मसल्‍स में दर्द के साथ शुरू होता है। लेकिन इस समस्‍या से बचने के लिए आप घरेलू नुस्‍खों को अपना सकती हैं।

Recommended Video

साइनस संक्रमण के लिए घरेलू नुस्‍खे

अजवाइन

साइनस की बीमारी में अजवाइन एक कारगर घरेलू औषधि है। साइनस का उपचार करने के लिए 3 बड़े चम्मच अजवाइन लेकर इसे तवे पर भून लें। अब किसी कॉटन कपड़े में भूूने हुए अजवाइन को बांधकर रख लें। फिर इसे थोड़ा सा ठंडा होने दें। साइनस की वजह से आपके शरीर के जिस भी हिस्से में दर्द होता है वहां इसे हल्का-हल्का रखें। इस उपाय से साइनस के दर्द में आराम मिलता है।

तुलसी के पत्ते

तुलसी के पत्ते लगभग हर बीमारी का रामबाण इलाज हैंं। काली मिर्च के चूर्ण को तुलसी के पत्तों में डालकर दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करें। इस उपाय से साइनस की बीमारी में राहत मिलती है।

मतली

nausea inside

जी मिचलाने पर हम काफी असहज महसूस करते हैं। अगर आप कहीं बाहर हैं और जी मिचलाना या उल्टी जैसा लगने लगे तो और भी ज्यादा दिक्कत का सामना करना पड़ता है। मतली होने के कई कारण होते हैं जैसे कि अधिक या दूषित खाना खाना, बीमारी, प्रेग्‍नेंसी, ज्‍यादा शराब पीना, पेट में संक्रमण आदि। लेकिन परेशान न हो क्‍योंकि कुछ ऐसी घरेलू उपचार हैंं जिनके इस्‍तेमाल से मतली की समस्‍या को रोका जा सकता है और लोगों ने मतली के इलाज को गूगल पर 2020 में सबसे ज्‍यादा सर्च भी किया है।

मतली के लिए घरेलू नुस्‍खे

अदरक

अदरक में एंटीमेटिक गुण होते हैं। एंटीमेटिक एक ऐसा पदार्थ है जो मतली से बचाता है। मतली की समस्‍या होने पर अदरक की चाय का सेवन करें।

नींबू

नींबू एक असरदार औषधि है, इसमें मौजूद सिट्रिक एसिड मतली की समस्या को रोकते हैं। एक छोटे कप में गर्म पानी लें और उसमें 1 नींबू का रस व थोड़ा सा नमक मिलाएं। इसे अच्छे से मिलाकर पिएं।

इन 10 सबसे ज्‍यादा सर्च किए गए घरेलू नुस्‍खों को अपनाकर आप भी अपनी हेल्‍थ से जुड़ी 10 परेशानियों को आसानी से दूर कर सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com