• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

बॉडी को शेप में लाने के लिए लो-कार्ब या लो फैट डाइट में से कौन सी है बेस्ट, एक्सपर्ट से जानें

अगर आप वेट लॉस करना चाहती हैं तो पहले आपको लो-कार्ब और लो फैट डाइट के बीच का अंतर भी समझ लेना चाहिए। 
author-profile
  • Mitali Jain
  • Editorial
Published -24 Jul 2022, 09:30 ISTUpdated -24 Jul 2022, 09:03 IST
Next
Article
low carb and low fat diet

आज के समय में महिलाएं एक परफेक्ट बॉडी पाने की चाहत रखती हैं और अगर उनका वजन जरा सा भी बढ़ जाता है तो वह तुरंत अपना वजन कम करने की जद्दोजहद में जुट जाती है। हालांकि, सिर्फ एक्सरसाइज के बूते वजन कम करना संभव नहीं होता है। इसके लिए जरूरी होता है कि आप अपनी डाइट पर भी उतना ही ध्यान दें। अमूमन महिलाएं वेट लॉस करने के लिए कई तरह की डाइट को फॉलो करना पसंद करती हैं और इन दिनों कई वेट लॉस डाइट बेहद पॉपुलर हैं। 

expert ritu puri on weight loss

जब वेट लॉस की बात होती है तो अधिकतर महिलाएं लो फैट डाइट या लो कार्ब डाइट को लेना पसंद करती हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि इन दोनों में अंतर क्या है और आपको बेहतर रिजल्ट पाने के लिए किस डाइट को फॉलो करना चाहिए। तो चलिए आज इस लेख में सेंट्रल गवर्नमेंट हॉस्पिटल के ईएसआईसी अस्पताल की डाइटीशियन रितु पुरी आपको लो फैट और लो कार्ब डाइट के बीच के अंतर के बारे में बता रही हैं-

क्या होती है लो कार्ब डाइट

low carb diet

लो कार्ब डाइट एक ऐसी डाइट होती है, जिसे हाई कार्ब फूड को पूरी तरह से अवॉयड करने की कोशिश की जाती है। कुछ महिलाएं नो कार्ब डाइट फॉलो करने की कोशिश करती हैं, लेकिन वास्तव में ऐसा संभव नहीं है। दरअसल, हर फूड आइटम में कुछ हद तक कार्ब्स अवश्य होते हैं।

इसलिए लो कार्ब डाइट में फूड आइटम का चयन बेहद सोच-समझकर किया जाता है। जब आप अपनी डाइट में कार्ब्स को सीमित कर देती हैं, तो आपका शरीर कार्ब्स के बजाय ऊर्जा के लिए वसा का उपयोग करता है। जिससे बॉडी को शेप में लाने में मदद मिलती है। इस डाइट को फॉलो करते हुए आपको बेक्ड आइटम, स्वीट्स, होल ग्रेन, पास्ता, ब्रेड, स्टार्ची सब्जियों आदि को डाइट से बाहर रखना होता है।

इसे जरूर पढ़ें- एक्सपर्ट से जानिए क्या होती है नो कार्ब डाइट और कैसे करती है काम

Recommended Video


क्या होती है लो फैट डाइट

low fat diet

लो फैट डाइट में व्यक्ति अपने फैट कंटेंट को लिमिटेड करने का प्रयास करता है। इसमें आपकी दैनिक कैलोरी में 30 प्रतिशत से कम फैट कंटेंट होना चाहिए। अमूमन इसमें कुकिंग ऑयल से लेकर मक्खन और फुल फैट डेयरी प्रोडक्ट्स को या तो पूरी तरह से अवॉयड किया जाता है या फिर उन्हें बेहद ही सीमित मात्रा में खाया जाता है।

मसलन, अगर आप दूध पी रहे हैं या फिर दही व पनीर बना रहे हैं तो पहले दूध पर मौजूद मलाई को हटाया जाता है, ताकि उसके फैट कंटेंट को रिमूव किया जा सके। इस डाइट में आप फल, सब्जियां, एग व्हाइट, दालें व लो फैट डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन बेहद आसानी से कर सकते हैं।

किसे करें फॉलो

follow diet

अगर यह सवाल किया जाए कि वेट लॉस के लिए लो फैट या लो कार्ब डाइट में से किसे फॉलो किया जाए, तो इसका जवाब है दोनों। अगर आप अपनी डाइट में कुछ इस तरह बदलाव करती हैं, जो लो फैट और लो कार्ब हैं तो इससे आपको अधिक बेहतर रिजल्ट मिलते हैं।(वेट लॉस के लिए 'क्विक डाइट')

दरअसल, यह एक-दूसरे के पूरक है। मसलन, अगर आप लो कार्ब डाइट लेती हैं तो इससे फैट लॉस तो होगा, लेकिन वेट लॉस शॉर्ट टर्म ही होगा। लॉन्ग टर्म और बेहतर रिजल्ट पाने के लिए आप अपनी डाइट में फैट और कार्ब कंटेंट को कम ही रखें।

इसे जरूर पढ़ें- बिस्‍तर पर जाने से पहले जरूर करें ये 5 चीजें, देखते ही देखते कम हो जाएगा आपका वजन

तो अब आपको समझ में आ ही गया होगा कि वजन कम करने के लिए आपको अपनी डाइट को किस तरह मॉडिफाई करने की जरूरत है। अगर आपने भी वेट लॉस किया है तो अपनी जर्नी हमारे साथ फेसबुक पेज पर अवश्य शेयर कीजिए।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकीअपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।  

Image Credit- freepik

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।