जरा सोचो! आपके सामने आपका सबसे फेवरेट फूड है और कोई नहीं देख रहा है कि आप कितना खाओगे, कितना छोड़ोगे? जबकि आप प्‍लेट को खाली करना पसंद कर सकती हैं, लेकिन आप इसमें शामिल जोखिमों से भी अवगत हैं, है ना? पेट का खराब होना या पेट से जुड़ी कोई अन्‍य समस्‍या में किसी भी तरह की परेशानी किसी को भी पसंद नहीं होती है। इसलिए एसिडिटी जैसी समस्या आम होते हुए भी स्वागत योग्य नहीं है। 

एसिडिटी तब होती है जब पेट की जठर ग्रंथियों में एसिड का अधिक स्राव होता है, जिससे गैस, सांसों की बदबू, पेट में दर्द और अन्य लक्षण पैदा होते हैं। यह एक अप्रिय प्रतिक्रिया को ट्रिगर करता है जो आपको अक्सर बीमार और दुखी महसूस कराता है। 

न्यूट्रिशनिष्ट प्रीती त्यागी का कहना है, ''हैवी खाने, खाली पेट चाय या कॉफी लेने, स्‍मोकिंग या अल्‍कोहल के अत्यधिक सेवन के कारण एसिडिटी हो सकती है। एसिड का स्राव सामान्य से अधिक होने पर - हमें एसिड रिफ्लक्स या जीईआरडी (गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज) का रिफ्लेक्‍स का अनुभव होता है। जो आमतौर पर तब होता है जब हम हैवी या मसालेदार भोजन खाते हैं।''  

एसिडिटी काफी कष्टप्रद हो सकती है। इससे छुटकारा पाने के लिए, हम अक्सर विभिन्न उपायों का सहारा लेते हैं। हालांकि, अगर आप ऐसा करने में असफल रहे हैं, तो चिंता न करें। इस आर्टिकल के माध्‍यम से हमारी एक्‍सपर्ट आपको एसिडिटी के 3 घरेलू उपचारों के बारे में बता रही हैं, जो एसिडिटी की समस्या से छुटकारा पाने में बहुत मददगार हो सकते हैं।

घरेलू नुस्‍खा नंबर-1: डिटॉक्‍स वॉटर

detox water for acidity

आप नींबू, अदरक, अजवाइन या जीरे से बने डिटॉक्स वॉटर का इस्तेमाल कर सकती हैं। यह एसिडिटी को दूर भगाने में आपकी मदद कर सकता है। यह पाचन तंत्र में जलन पैदा करने वाले विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है।

इसके अलावा, इन सभी चीजों में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट शरीर को फ्री रेडिकल्‍स के कारण होने वाले ऑक्सीडेटिव नुकसान से बचाने में मदद करते हैं, जो अक्सर डायबिटीज और हार्ट डिजीज जैसी बीमारियों का कारण बनते हैं। इसके अलावा, नींबू विटामिन-सी से भरपूर होता है, जो इम्‍यूनिटी को मजबूत करने में मदद करता है।

इसे जरूर पढ़ें:एसिडिटी से होते हैं परेशान तो एक्सपर्ट के बताए ये टिप्स करेंगे आपकी मदद

घरेलू नुस्‍खा नंबर-2: सीएफसी पाउडर

cure acidity with powder

सोने से पहले सीएफ़सी पाउडर ले सकती हैं। इसमें भुना जीरा, सौंफ और धनिये के बीज का पाउडर शामिल होता है। जीरा एक ऐसा मसाला है जो पाचन रस को उत्तेजित करता है और एसिडिटी और अपच जैसी पेट की समस्याओं को दूर रखता है।

सौंफ से आप एसिडिटी को कम कर सकते हैं। एसिडिटी से राहत पाने के लिए सर्वोत्तम तरीकों में से एक सौंफ है। सौंफ के बीज में एनेथोल नामक यौगिक होता है। यह यौगिक पेट के लिए सुखदायक एजेंट के रूप में काम करता है और ऐंठन और पेट फूलने से बचाता है। 

expert tips for acidity

यह विटामिन्‍स, मिनरल्‍स और महत्वपूर्ण आहार फाइबर से भी भरपूर होता है जो उचित पाचन की प्रक्रिया में सहायता करता है। सौंफ में अल्सर रोधी गुण भी होते हैं, यह पेट की परत को ठंडा करता है और कब्ज से भी राहत दिलाने में मदद करता है।

धनिये के बीज एसिडिटी से राहत दिलाने में कारगर है। धनिया आंत को उत्तेजित कर सकता है और पेट में एसिड के उत्पादन को बढ़ा सकता है। यह अपच, कब्ज जैसी स्थितियों वाले लोगों की मदद कर सकता है।

Recommended Video

घरेलू नुस्‍खा नंबर-3: खूब सारा पानी

water for acidity

एसिडिटी पेट में एसिड के वापस अन्नप्रणाली में प्रवाह के कारण होती है। पीने का पानी राहत दे सकता है। यह पेट के पीएच लेवल को बढ़ा सकता है। इसलिए आपको एसिडिटी से बचने के लिए आपको दिनभर में कम से कम 8 गिलास जरूर पिएं। 

इसे जरूर पढ़ें:एसिडिटी दूर करने के 3 सिंपल तरीक़े, जल्द मिलेगी राहत

इन नुस्‍खों को अपनाकर आप भी एसिडिटी की समस्‍या से छुटकारा पा सकती हैं। हर बार की तरह हम आपको यही कहेंगे, हालांकि ये नुस्‍खे नेचुरल चीजों से बने हैं और इनके कोई साइड इफेक्‍ट्स नहीं हैं। लेकिन फिर भी इन्‍हें इस्‍तेमाल करने से पहले एक बार एक्‍सपर्ट से परामर्श जरूर कर लें। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com