कंप्यूटर और लैप टॉप में ज्यादा समय के लिए लगातार काम करने से आंखों से संबंधित कई समस्याएं होती हैं। कई बार आंखों का अच्छी तरह ध्यान न देने पर ये समस्याएं जरूरत से ज्यादा बढ़ जाो ती हैं और किसी बड़ी समस्या को जन्म देती हैं। अपने कंप्यूटर या लैपटॉप को घंटों तक घूरने के बाद, क्या आपने कभी अपने सिर में तेज़ दर्द महसूस किया है या आपकी आँखें कभी सूखी, खुजली या थकान महसूस हुई हैं? इन सभी लक्षणों का एक नाम है- आईस्ट्रेन। लैपटॉप या कंप्यूटर पर काम करना आपकी आंखों पर अत्यधिक तनाव डालता है। 

Dr. Anureeta Wadhawan eye specialist

आप में से कई लोग 10 घंटे से अधिक समय सीधे कंप्यूटर पर देखते हैं। इसके अलावा, आप स्मार्टफ़ोन या अन्य पोर्टेबल डिजिटल डिवाइस का भी इस्तेमाल करते हैं, अक्सर ऐसा करते समय आप पलक झपकाना तक भूल जाते हैं। यह आपकी आंखों को तनाव देता है। अगर आप ज्यादा देर तक लैपटॉप या कंप्यूटर में काम करने की वजह से परेशान हैं, तो आइए डॉक्टर अनुरीता वधावन, नेत्र विशेषज्ञ और चेयर पर्सन आई कैन फाउंडेशन (दिल्ली), से जानें आंखों की देखभाल करने और आंखों को तनाव से बचाने के कुछ तरीकों के बारे में। 

कंप्यूटर का आंखों में दुष्प्रभाव 

laptop side effects

जब आप कंप्यूटर पर काम करते हैं तो आपको लगातार फोकस करना पड़ता है। कंप्यूटर या लैपटॉप स्क्रीन पर दिखाई देने वाली मुद्रित लाइनें विभिन्न आकृतियों और रंगों की होती हैं। जब आप इन लाइनों को पढ़ते हैं तब आंखों को आगे और पीछे ले जाना पड़ता है। इसके अलावा, अक्सर आपको मुद्रित सामग्री को संदर्भित करना पड़ता है और फिर कंप्यूटर स्क्रीन पर देखना होता है। जैसे-जैसे चित्र बदलते हैं, आंखें आपके मस्तिष्क को समझने के लिए आपके अनुसार प्रतिक्रिया करती हैं। ऐसा करने के लिए, आपकी आंखों को वास्तव में कड़ी मेहनत करनी पड़ती है और परिणामस्वरूप, यह थका हुआ महसूस करती हैं । यह समस्या तब और ज्यादा बढ़ जाती है जब स्क्रीन में कंट्रास्ट, चकाचौंध और झिलमिलाहट की समस्या ज्यादा होती है। अगर आपको पहले से कोई आंख की समस्या है तो आपको और ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ता है। यदि आपको चश्मे की आवश्यकता है और आप इसका इस्तेमाल नहीं करते हैं  तो यह आंखों की समस्या को बढ़ा सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert Advice: आंखों की अच्छी सेहत के लिए अपनाएं ये टिप्स

उचित रोशनी पर ध्यान दें 

proper resolution laptop

अपने वातावरण या कार्य स्टेशन की लाइटिंग बदलें। यह आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर प्रभाव को कम करने में मदद करेगा। यदि आप एक खिड़की के पास बैठते हैं, तो दूर जाएं। यह इसलिए है क्योंकि खिड़की से प्रकाश कंप्यूटर स्क्रीन पर एक चमक डाल सकता है। तकनीकी रूप से, जब आप कंप्यूटर का उपयोग कर रहे होते हैं, तो परिवेश प्रकाश आधा उज्ज्वल होना चाहिए जैसा कि किसी भी कार्यालय सेटिंग में पाया जाता है। बाहरी प्रकाश को कम करने के लिए पर्दे और रंगों को बंद करें। कम तीव्रता की रोशनी का उपयोग करके आंतरिक प्रकाश को कम करें। एक लैपटॉप के अपने कंप्यूटर को इस तरह से रखें कि खिड़कियां आपके बगल में हों और आपके पीछे न हों या सिर्फ आपके सामने हों। किसी भी ओवरहेड फ्लोरोसेंट लाइट को बंद करें। अक्सर, यह आपकी आंखों (ये आदतें पहुंचा सकती हैं आंखों को नुकसान) के लिए असुविधाजनक हो सकता है। ध्यान रखें कि लैप टॉप स्क्रीन का resolution भी कम हो जिससे आंखों पर कम स्ट्रेन पड़े। 

बैठने की उचित व्यवस्था 

sitting position proper

मॉनिटर आपके आंखों के स्तर से थोड़ा नीचे होना चाहिए। यह आपके चेहरे से लगभग 20 से 28 इंच की दूरी पर होना चाहिए। आदर्श रूप से, कंप्यूटर पर काम करते समय, आपको अपनी गर्दन को नहीं खींचना चाहिए और स्क्रीन पर जो लिखा है उसे देखने के लिए कंप्यूटर से क्लोजर प्राप्त करें। यदि आपको कंप्यूटर और किसी भी अन्य मुद्रित पेपर को एक साथ देखना है, तो पेपर को इस तरह रखें कि आपको लिखते समय और नीचे स्क्रीन पर न देखना पड़े। कंप्यूटर के बगल में एक स्टैंड रखें जिसमें पेपर रखें। आपके बैठने की उचित व्यवस्था आंखों के स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है। 

आंखों की एक्सरसाइज 

eye excercise

आपकी आंखों को भी काम के बीच में आराम की जरूरत है। इसलिए जब आप कंप्यूटर पर खिंचाव पर काम कर रहे हों, तो 20-20-20 नियम का पालन करने का प्रयास करें। हर 20 मिनट में कंप्यूटर स्क्रीन से दूर देखें और ऐसी कोई भी चीज़ देखें जो आपसे कम से कम 20 फीट की दूरी पर हो। इसे लगभग 20 सेकंड तक देखें। अगर आपकी आंखों में कोई समस्या हो तो आई ड्रॉप का इस्तेमाल करें। आप एक और व्यायाम की कोशिश कर सकते हैं। 10-15 सेकंड के लिए दूर स्थित किसी भी वस्तु को देखें और फिर कुछ ऐसा देखें जो लगभग 10-15 सेकंड के लिए पास में स्थित हो। फिर से दूर स्थित वस्तुओं को देखें। इस प्रक्रिया को 10 बार दोहराएं। अक्सर, कंप्यूटर स्क्रीन पर लंबे समय तक देखने से आंखों की कई समस्याएं बढ़ जाती हैं। इसलिए आंखों का व्यायाम  इस स्थिति से बचने में मदद करता है।

इसे जरूर पढ़ें:Expert Advice: आंखों के लिए बेहद लाभदायक है गुलाबजल, ऐसे करें इस्तेमाल

आंखों को ब्लिंक करें 

blinking eyes offenly

कितनी बार ऐसा होता है कि आप अपने काम में इतना व्यस्त होते हैं कि आप पलक झपकना तक भूल जाते हैं। यदि ऐसा है तो यह आपकी आंखों को थका हुआ महसूस करा सकता है। लैपटॉप या कंप्यूटर पर काम करते समय पालक न झपकना आपकी आंखों को सूखा और खुजली प्रदान करता है। इसे रोकने के लिए अक्सर आंखों को ब्लिंक करें। पलक झपकना आपकी आंखों को नम करता है, जिससे आंखों की थकान कम होती है। जब आप लंबे समय तक पलक नहीं झपकाते हैं तो आपकी आंखों पर आंसू का लेप जल्दी निकल जाता है और यह सूखी आंखों के मुख्य कारणों में से एक है। यदि आप सूखी आंखों के लक्षणों का सामना कर रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श करें। लक्षणों को कम करने के लिए डॉक्टर आपको अच्छी आई ड्रॉप का सुझाव देता है।

आंखों की नियमित जांच 

proper eye test

अपने नेत्र चिकित्सक से नियमित परामर्श लें, ताकि आप अपने नेत्र स्वास्थ्य की देखभाल कर सकें। दृष्टि समस्याओं का पता लगाने के अलावा, आपका डॉक्टर आपकी जीवनशैली और गतिविधियों के आधार पर आपकी आंखों की देखभाल करने की सलाह दे सकता है। यही नहीं नेत्र चिकित्सक आपकी आंखों की समस्याओं के निदान के लिए उचित सलाह भी देगा। यदि आपकी आंखों को चश्मे की जरूरत है तो इसका तुरंत इस्तेमाल शुरू करें।  

इसे जरूर पढ़ें:Expert advice: कोरोना काल में मास्क लगाने से क्यों बढ़ रहा है ऑक्युलर इरिटेशन का खतरा

उचित आईवियर पहनें

eye wear proper

हमेशा लैपटॉप या कंप्यूटर पर काम करते समय उचित आईवियर पहनें। कंप्यूटर के उपयोग के लिए तैयार किए गए कई तरह के चश्मे उपलब्ध हैं जो मॉनिटर के सामने लम्बे समय तक काम करने पर आंखों को आराम दे सकते हैं। अच्छे आईवियर का इस्तेमाल काफी हद तक आंखों को तनाव से बचाकर आराम देने में मदद करता है।  

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:freepik, unsplash and pintrest