आमतौर पर लोग अपनी सेहत को ध्यान में रखते हुए पौष्टिक आहार ग्रहण करते हैं और अपनी आँखों को अनदेखा कर देते हैं। लेकिन आंखों की देखभाल भी उतनी ही जरूरी है जितनी हमारी सेहत की। अगर आप भी अपनी आँखों को नज़रअंदाज़ करके आंखों की देखभाल को अपनी लाइफस्टाइल का हिस्सा नहीं मानती हैं तो ये लेख आपके लिए है। आइए डॉक्टर अनुरीता वधावन, नेत्र विशेषज्ञ और चेयर पर्सन आई कैन फाउंडेशन (दिल्ली), से जानें जानें आंखों  की देखभाल कैसे की जकती है। 

अच्छी डाइट है जरूरी 

healthy diet

आपकी प्लेट पर भोजन के साथ अच्छे नेत्र स्वास्थ्य की शुरुआत होती है। ओमेगा -3 फैटी एसिड, ल्यूटिन, जिंक और विटामिन सी और ई जैसे पोषक तत्व मैकुलर डिजनरेशन और मोतियाबिंद जैसी उम्र से संबंधित दृष्टि समस्याओं को दूर करने में मदद कर सकते हैं। उन्हें पाने के लिए, अपनी डाइट में हरी पत्तेदार सब्जियाँ जैसे पालक, मेथी, बथुआ आदि को शामिल करें।

dr anureeta wadhawan

प्रोटीन युक्त आहार को अपनी डाइट में शामिल करें जैसे अंडे, नट्स, बीन्स और अन्य गैर-प्रोटीन प्रोटीन स्रोत भी डाइट में शामिल करें। ख़ासतौर पर विटामिन ए को डाइट में शमिल करना आँखों के स्वास्थ्य को बनाए रखना है।

धूम्रपान न करें

stop smoking for eye health 

धूम्रपान आपको मोतियाबिंद, आपके ऑप्टिक तंत्रिका को नुकसान और कई अन्य चिकित्सा समस्याओं के बीच धब्बेदार अध: पतन की संभावना को बढ़ाता है। धूम्रपान न सिर्फ आंखों के स्वास्थ्य के लिए बल्कि आपकी सेहत के लिए भी हानिकारक है। इसलिए आँखों की दृष्टि बनाए रखने के लिए धामंडपाण को पूरी तरह अपनी लाइफ स्टाइल से दूर रखने की कोशिश करें। 

सन ग्लासेज पहनें 

use sun glasses

अच्छे सन ग्लासेज का जोड़ा आपकी आंखों को सूरज की पराबैंगनी किरणों से बचाने में मदद करता है। बहुत अधिक यूवी जोखिम मोतियाबिंद और धब्बेदार अध: पतन की संभावना को बढ़ा देता है। सन ग्लसेस की एक जोड़ी चुनें जो 99% से 100% यूवीए और यूवीबी किरणों को अवरुद्ध करता है। सनग्लासेस यूवीए और यूवीबी किरणों को रोककर आंखों की सुरक्षा प्रदान करते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert tips: विंटर मे आंखों की सुरक्षा के लिए धूप में जरूर पहनें सनग्लासेस

कंप्यूटर स्क्रीन से दूर देखें

computer screen

कंप्यूटर या फोन स्क्रीन पर बहुत देर तक काम करना आपकी आँखों के स्वास्थ्य को खराब कर सकता है। इसके कारण आंखों से सम्बंधित कई समस्याएं हो सकती हैं जैसे आँखों में स्ट्रेन पड़ना, आई साइट का धुंधला होना, दूरी पर ध्यान केंद्रित करने में परेशानी, आंखों की ड्राइनेस, सिरदर्द। इन सभी समस्याओं से बचने के लिए यदि आपका कंप्यूटर स्क्रीन से दूरी बनाना संभव नहीं है तो अपनी आँखों की सुरक्षा के लिए सुनिश्चित करें कि आपका चश्मा या कॉन्टैक्ट प्रिस्क्रिप्शन एक कंप्यूटर स्क्रीन पर देखने के लिए अद्यतित और अच्छा है।

यदि आपकी आंखों का तनाव दूर नहीं होता है, तो अपने डॉक्टर से एन्टीग्लेयर चश्मे के बारे में बात करें। स्क्रीन को स्थानांतरित करें ताकि आपकी आँखें मॉनिटर के शीर्ष के साथ समतल हों। यह आपको स्क्रीन पर थोड़ा नीचे देखने की सुविधा देता है। रोशनी से चकाचौंध से बचने की कोशिश करें। जरूरत पड़ने पर एंटी-ग्लेयर स्क्रीन का इस्तेमाल करें।

नेत्र चिकित्सक के पास जाएं 

eye specialist

सभी को नियमित रूप से आंखों की जांच की जरूरत है, यहां तक कि छोटे बच्चों को भी। यह आपकी दृष्टि की रक्षा करने में मदद करता है और आपको सर्वश्रेष्ठ दृष्टि प्रदान करने में भी सहायता करता है। नेत्र विशेषज्ञ से नियमित आँखों की जांच करवाना आँखों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए सबसे मुख्य कदम है। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert advice: कोरोना काल में मास्क लगाने से क्यों बढ़ रहा है ऑक्युलर इरिटेशन का खतरा

उपर्युक्त सभी टिप्स को फॉलो करके आप अपनी आँखों की सेहत को ठीक रखने के साथ अपनी आँखों की दृष्टि को भी सुचारु बनाए रख सकते हैं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik