• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

गर्दन पर भी दिखती हैं ऐसी काली लाइन्‍स, तो हो सकती है इस बीमारी की शुरुआत

अगर आपको भी गर्दन के चारो ओर काली लाइन्‍स दिखाई देती हैं तो आपको एक खतरनाक बीमारी हो सकती है। आर्टिकल में इसके बारे में विस्‍तार से पढ़ें।  
author-profile
Published -01 Aug 2022, 15:39 ISTUpdated -02 Aug 2022, 14:40 IST
Next
Article
dark neck lines ke reason hindi

क्या आपने अपनी गर्दन के चारों ओर काली लाइन्‍स को देखा है? तो सचेत हो जाएं क्‍योंकि यह प्रीडायबिटीज/डायबिटीज का शुरुआती कारण हो सकता है। जी हां, गर्दन के चारों ओर पिगमेंटेड त्वचा, जिसे एन्थोसिस निगरिकन्स भी कहा जाता है, इंसुलिन रेजिस्टेंस का संकेत है। 

दरअसल, यह प्रीडायबिटीज/डायबिटीज का शुरुआती कारण हो सकता है। इसकी जानकारी पोषण कंपनी हेल्थ हैच की एक्‍सपर्ट निहारिका बुधवानी के अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से शेयर की है। 

भारत विश्व की डायबिटीज राजधानी बनता जा रहा है। वास्तव में, एक अध्ययन के अनुसार, 'डायबिटीज से पीड़ित हर दो भारतीयों में से एक (47%) अपनी कंडीशन से अनजान है और केवल एक चौथाई (24%) ही इसे कंट्रोल में लाने का प्रबंधन करते हैं।'

प्रारंभिक डायबिटीज/प्रीडायबिटीज के ये लक्षण और संकेत, जीवनशैली में बदलाव जैसे डाइट पर काम करना, रेगुलर एक्‍सरसाइज करना, तनाव और नींद पर काम करना, स्‍मोकिंग और तंबाकू का उपयोग कम करना आदि के साथ उनकी कंडीशन को उलटने में मदद कर सकते हैं।

यहां तक, कुछ लोग लंबे समय से डायबिटीज से पीड़ित होते हैं और जब तक उन्हें रेगुलर ब्‍लड टेस्‍ट करने की सलाह नहीं दी जाती हैं तब तक वे इससे अनजान रहते हैं। याद रखें, यह कंडीशन प्रतिवर्ती है। केवल जीवनशैली में बदलाव करके आप इससे बच सकती हैं और इसे प्री-विकसित डायबिटीज में विकसित होने से रोक सकती हैं।

डायबिटीज आपकी त्वचा सहित आपके शरीर के कई हिस्सों को प्रभावित कर सकती है। जब डायबिटीज त्वचा को प्रभावित करती है, तो यह अक्सर एक संकेत होता है कि आपके ग्लूकोज का लेवल बहुत अधिक है। इसका मतलब यह हो सकता है कि आपको डायबिटीज या प्री-डायबिटीज है। यदि आप अपनी त्वचा पर निम्नलिखित में से कोई भी चेतावनी संकेत दिखते हैं, तो यह आपके डॉक्टर से बात करने का समय है।

इसे जरूर पढ़ें:होने वाली है डायबिटीज तो शरीर देता है ये संकेत, स्किन पर दिखते हैं ये लक्षण

त्वचा पर पीले, लाल या भूरे रंग के धब्बे

यह त्वचा की कंडीशन अक्सर छोटे उभरे हुए ठोस धक्कों के रूप में शुरू होती है जो पिंपल्स की तरह दिखते हैं। जैसे-जैसे यह आगे बढ़ते हैं, ये धक्कों में सूजन और सख्त त्वचा के धब्बे बन जाते हैं। धब्बे पीले, लाल या भूरे रंग के हो सकते हैं। पैरों पर लाल, सूजे हुए और सख्त पैच नेक्रोबायोसिस लिपोइडिका है। आप ब्‍लड वेसल्‍स को देख सकती हैं या त्वचा में खुजली और दर्दको महसूस कर सकती हैं। 

त्वचा का डार्क हिस्‍सा मखमल जैसा दिखना

dark patches

आपकी गर्दन, बगल, कमर या अन्य जगहों पर मखमली त्वचा का गहरा पैच (या बैंड) का मतलब यह हो सकता है कि आपके ब्‍लड में बहुत अधिक इंसुलिन है। यह अक्सर प्रीडायबिटीज का संकेत होता है। इस त्वचा की कंडीशन का मेडिकल नाम एसेंथोसिस नाइग्रिकन्स है। अक्सर गर्दन की सिलवटों में त्वचा का रंग गहरा होना, एएन पहला संकेत हो सकता है कि किसी को डायबिटीज है।

कठोर या मोटी त्वचा

जब यह उंगलियों, पैर की उंगलियों या दोनों पर विकसित होता है, तो इस कंडीशन का मेडिकल नाम डिजिटल स्केलेरोसिस है। साथ ही, आप अपने हाथों के पिछले हिस्‍से पर टाइटनेस या वैक्‍स जैसी त्‍वचा महसूस कर सकती हैं। इसमें उंगलियां टाइट और हिलने-डुलने में मुश्किल हो सकती हैं। यदि डायबिटीज को वर्षों से खराब तरीके से कंट्रोल किया गया है, तो ऐसा महसूस हो सकता है कि आपकी उंगलियों में अकड़न है।

कठोर, मोटी और सूजी हुई दिखने वाली त्वचा शरीर के अंगों तक फैल सकती है, जो फोरआर्म्स और बाजुओं के ऊपरी हिस्‍से पर दिखाई देती है। यह ऊपरी पीठ, कंधों और गर्दन पर भी विकसित हो सकती है। कभी-कभी, मोटी त्वचा चेहरे, कंधों और चेस्‍ट तक फैल जाती है।

दुर्लभ मामलों में, घुटनों, टखनों या कोहनी के ऊपर की त्वचा भी मोटी हो जाती है, जिससे पैर को सीधा करना और अपनी बाजुओं को मोड़ना मुश्किल हो जाता है। यह जहां भी दिखाई देता है, मोटी त्वचा में अक्सर संतरे के छिलके की बनावट होती है।

यह त्वचा की समस्या आमतौर पर उन लोगों में विकसित होती है जिन्हें डायबिटीज के कारणजटिलताएं होती हैं जिनका इलाज करना मुश्किल होता है।

प्रीडायबिटीज को कंट्रोल करने के तरीके

Prediabetes Symptoms

  • सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण अपनी डाइट पर काम करना है। जौ, ज्वार, रागी, जई जैसे विभिन्न प्रकार के अनाज शामिल करें और दैनिक आधार पर मैदा का उपयोग सीमित करें।
  • रोजाना अपनी डाइट में फलों और सब्जियों की 3-4 सर्विंग शामिल करें।
  • यदि आप अधिक वजन वाले हैं, तो कृपया अपने शरीर की कुल चर्बी को कम करने पर काम करें, कैलोरी की कमी वाली डाइट को फॉलो करें।
  • स्‍ट्रेंथ ट्रेनिंग वास्तव में आपके इंसुलिन रेजिस्टेंस को बेहतर बनाने में मदद करता है। सप्ताह में 3 बार 30-40 मिनट के लिए एक अच्छी शुरुआत है
  • अपना NEAT नॉन-एक्‍सरसाइज एक्टिविटी थर्मोजेनेसिस को बढ़ाएं।
  • अपने तनाव पर काम करें, यह एक और कारण है जिससे आपके शरीर की चर्बीबढ़ती है।
  • 6-7 घंटे अच्छी गुणवत्ता वाली नींद लें, क्‍योंकि यह इंसुलिन रेजिस्टेंस प्रबंधन का एक अनिवार्य पहलू है।
  • हाई प्रोटीन डाइट मदद करती है, अपने प्रोटीन के सेवन के बारे में जानने के लिए अपने योग्य डाइटिशियन से सलाह लें।

उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें, साथ ही कमेंट भी करें। एक्‍सरसाइज से जुड़े ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

Image Credit: Freepik & Shutterstock 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।