माइग्रेन एक तरह का सिरदर्द है जो तेज दर्द का कारण बनता है। यह आमतौर पर उल्टी और मतली के साथ होता है। भावनात्मक तनाव, कैफीन, दर्द निवारक दवाओं का दैनिक उपयोग, हार्मोनल परिवर्तन कुछ सामान्य चीजें हैं जो माइग्रेन को ट्रिगर कर सकती हैं। माइग्रेन के हमले घंटों से लेकर दिनों तक रह सकते हैं और दर्द इतना गंभीर हो सकता है कि यह आपके रोजाना के कामकाज में हस्तक्षेप करता है। अगर आप भी इससे परेशान रहती हैं तो मीरा राजपूत कपूर का बताया आयुर्वेदिक नुस्‍खा ट्राई करें।  

मीरा राजपूत कपूर आयुर्वेद की दीवानी हैं और यदि आप उनके सोशल मीडिया को फॉलो करती हैं, तो आप जानती होगी कि उन्हें आयुर्वेद जीवन शैली का नेतृत्व करना पसंद है। वह विभिन्न आयुर्वेदिक सामग्री और उपचारों के साथ प्रयोग करती रहती हैं और अपने अनुभव फैन्‍स के साथ भी शेयर करती रहती हैं।

इस बार, मीरा कपूर को जब तेज धूप में ट्रेनिंग के बाद माइग्रेन हो गया था तो उन्‍होंने अपने माइग्रेन के लिए एक आयुर्वेदिक नुस्‍खा अपनाने कोशिश की और अपने इंस्टाग्राम पोस्ट पर शेयर किया कि यह कैसा रहा।

मीरा कपूर ने अपने पोस्ट पर शेयर किया कि कुछ दिन पहले जब वह दिन में तेज धूप में ट्रेनिंग कर रही थीं, तब उन्हें माइग्रेन हुआ था। मीरा ने शेयर किया कि उन्‍होंने देखा कि जब भी वह मौसम की परवाह किए बिना तेज धूप में ट्रेनिंग लेती है, तो उन्‍हें तेज सिरदर्द होता है। शॉवर से बाहर निकलने के कुछ ही मिनटों में सेट हो जाता है लेकिन फिर से होने लगता है। वह खुद को हाइड्रेटेड रखती है और शुगर का लेवल स्थिर रखती है, फिर भी माइग्रेन उनके दिन बर्बाद कर देता है।

पित्त वृद्धि

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Mira Rajput Kapoor (@mira.kapoor)

मीरा कपूर ने आगे शेयर किया कि यह पित्त-उत्तेजना हो सकती है। यह एक ऐसा दोष है जो मध्याह्न, दिन के समय होता है और यह शायद उनके शरीर में पित्त दोष को बढ़ा देता है।

आयुर्वेद के अनुसार, हमारे शरीर में तीन दोष हैं और उनमें से एक पित्त है जो हमारे मन और शरीर में गर्मी, मेटाबॉलिज्‍म, परिवर्तन को नियंत्रित करता है। पित्त यह भी नियंत्रित करता है कि हमारा शरीर खाद्य पदार्थों को कैसे पचाता है और सही और गलत के बीच के अंतर को समझता है। यह एक ऐसा दोष है जो शरीर में अग्नि को नियंत्रित करता है। हमारे शरीर में पित्त असंतुलन के कुछ सामान्य लक्षण हैं -

  • बुखार
  • मतली
  • दस्त
  • चिड़चिड़ापन
  • माइग्रेन
  • अचानक बुखार वाली गर्मी महसूस करना
  • अत्यधिक घृणा, ईर्ष्या
  • सूजन
  • चकत्ते
  • रक्तस्राव विकार
  • मुंह में खट्टा, अम्लीय स्वाद
 

शरीर में पित्त असंतुलन के कई कारण हो सकते हैं। कुछ सामान्य हैं -

  • शारीरिक तनाव
  • सूर्य के संपर्क में आना 
  • पित्त विरोधी आहार खाना
  • केमिकल्‍स का संपर्क 

उदाहरण के लिए, मीरा राजपूत कपूर के मामले में, यह अत्यधिक सूर्य के प्रकाश के संपर्क में था जिससे उनके पित्त में असंतुलन पैदा हो गया।

Recommended Video

मीरा कपूर का चना सेक नुस्‍खा

migraine remedy by mira kapoor Inside

मीरा कपूर ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट पर शेयर किया कि उन्होंने अपने माइग्रेन के लिए एक नुस्‍खे का पता लगा लिया है।

चना सेक कैसे बनाते हैं?

उन्‍होंने शेयर किया कि इसके लिए हमें काले चने की आवश्यकता होती है। काले चने को तवे पर सेंक लें और फिर एक कपड़े के रुमाल में लपेट लें। फिर कपड़े के रुमाल को आंखों पर रखें और इससे बहुत राहत मिलती है।

इसे जरूर पढ़ें:माइग्रेन के दर्द में राहत पहुंचाएंगे ये आयुर्वेदिक उपाय

उन्होंने आगे शेयर किया कि काले चने का सेंक आसानी से आंखों के एरिया की दरारों में चला जाता है। इन काले चने का पुन: उपयोग किया जा सकता है और कई बार फिर से भुना जा सकता है।

मीरा कपूर ने शेयर किया कि उन्हें यकीन नहीं है कि यह आंखों पर हल्का दबाव है, या गर्मी (अजीब है क्योंकि पित्त का बढ़ना ठंडा करना चाहता है) या कुछ अजीब तरह के प्लेसबो प्रभाव का वह शिकार हो गई है, लेकिन यह नुस्‍खा हर समय उनके लिए काम करता है।

क्या आपने कभी माइग्रेन के लिए यह चना सेक हैक आजमाया है? अगर नहीं तो एक बार ट्राई करें और अपने विचार हमारे साथ हमारे फेसबुक के माध्‍यम से जरूर करें। ऐसे और आर्टिकल पढ़ने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Article & Image Credit: Instagram (Meera Kapoor)