शरीर में 3 दोष होते हैं जिन्हें वात, पित्त और कफ के नाम से जाना जाता है। यह महत्वपूर्ण है कि हम सीखें कि उन्हें कैसे संतुलित किया जाए। जब ये दोष अच्छी तरह से संतुलित होते हैं, तो हम अच्छे स्वास्थ्य का अनुभव कर सकते हैं। 

सांस लेने की तकनीक के साथ किए गए योगासनों के अभ्यास के साथ-साथ हमें अपनी जीवनशैली में भी बदलाव करना चाहिए जिससे हम अधिक हेल्‍दी आदतों को शामिल कर सकें। इसमें आहार जैसे कारक शामिल हैं जिनका हम उपभोग करते हैं; शरीर और अंगों को पर्याप्त पानी से हाइड्रेट रखना, यह सुनिश्चित करना कि हमें भरपूर नींद मिले आदि।

अपने सिस्टम में मौजूदा दोषों के बीच संतुलन लाने के लिए इस क्रम में योग आसनों के इस विशिष्ट क्रम का पालन करें और अभ्यास करें। पर्वतासन या पर्वत की स्थिति में शुरू करें, यहां से पश्चिमोत्तानासन या बैठने की स्थिति में आगे की ओर झुकें। पश्चिमोत्तानासन के बाद, दोनों पैरों को अंदर की ओर मोड़ें और अपने पेल्विक और पैरों को ब्रिज पोज या सेतुबंधासन में ऊपर उठाने के लिए लेट जाएं। 

यदि आप समग्र सामंजस्यपूर्ण कल्याण के लिए अपने दोषों को संतुलित करने का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तो उचित श्वास तकनीकों के साथ दिए गए और अभ्यास के क्रम में इस क्रम का पालन किया जाना चाहिए। इन योगासन के बारे में हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।

पर्वतासन

Parvatasana to balance doshas

  • टेबल टॉप पोजीशन बनाने के लिए घुटनों और हथेलियों को धीरे से नीचे गिराएं या कैट पोज से ग्रहण करें।
  • हथेलियों को कंधों के नीचे और घुटनों को कूल्हों के नीचे संरेखित करें।
  • घुटनों को ऊपर उठाएं। शरीर को एक उल्टा बनाना चाहिए।
  • हाथों को कंधे-चौड़ाई की दूरी पर रखें।
  • एड़ियों को ऊपर उठाएं।
  • पैर की उंगलियों पर ध्यान दें।

पश्चिमोत्तानासन

Paschimottanasana to balance doshas

  • पैरों को आगे की ओर फैलाते हुए दंडासन से शुरुआत करें।
  • घुटनों को थोड़ा मोड़कर रख सकती हैं।
  • बांहों को ऊपर उठाएं और रीढ़ को सीधा रखें।
  • कूल्हे से आगे की ओर झुकते हुए सांस छोड़ें।
  • पैर की उंगलियों को अपनी उंगलियों से पकड़ें।
  • आसन में कुछ देर रुकें।

सेतु बंध आसन

Setu bandh asana balance doshas

  • बैठने की स्थिति में शुरू करें और अपने पैरों को मोड़ें।
  • पीठ के बल लेट जाएं और एड़ियों/टखनों को पकड़ें।
  • ठुड्डी को चेस्‍ट से लगाएं।
  • जितना हो सके श्वास अंदर लें और पेल्विक को ऊपर उठाएं।

वात नाश मुद्रा

  • इस मुद्रा को करना बहुत आसान है, बस तर्जनी और मध्यमा को अंगूठे के आधार पर रखें और अंगूठे से हल्का प्रेशर डालें।
  • दोनों हाथों से करना चाहिए।
  • इष्टतम परिणामों के लिए इस मुद्रा को विशेष रूप से सुबह के समय में 45 मिनट के लिए ध्यान मुद्रा (सुखासन/पद्मासन) में बैठकर करना चाहिए।

कफ नाश मुद्रा

यह मुद्रा पहले अंगूठे के आधार पर अंगूठा और छोटी उंगलियों को रखकर और फिर इन अंगुलियों पर अंगूठे का हल्का प्रेशर लाने से बनती है।

प्रभाव

यह मुद्रा पित्त को बढ़ाती है लेकिन शरीर के भीतर कफ को कम करती है। पित्त का संबंध शारीरिक गर्मी (पाचन/चयापचय) और संचार प्रणाली से है। इन संस्थाओं को इस मुद्रा से प्रेरित और प्रबलित किया जाता है।

यह उन लोगों के लिए एक उत्कृष्ट मुद्रा है जिनके शरीर में कफ की अधिकता या पित्त की कमी है। वे बीमारी को रोकने के लिए भी इस मुद्रा को नियमित रूप से कर सकते हैं। हालांकि, जिन लोगों के शरीर में पित्त (गर्मी) की अधिकता होती है, उन्हें इसका संयम से अभ्यास करना चाहिए।

Recommended Video

 

पित्त नाशक मुद्रा- प्राण मुद्रा

इसे दोनों हाथों की मदद से किया जाता है। अनामिका और छोटी उंगली की युक्तियों को अंगूठे के सिरे से जोड़ना होता है। अन्य सभी उंगलियों को सीधा बढ़ाया जाना चाहिए। समान अवधि के लिए सांस लें और छोड़ें। श्वास लें और श्वास छोड़ें (ध्वनि जप द्वारा)

इसे जरूर पढ़ें: वेट लॉस के लिए हफ्ते में सिर्फ 3 बार करें ये योगासन

प्रभाव

प्राण मुद्रा का अर्थ है ऊर्जा या जीवन की आत्मा। इस मुद्रा को करने का कोई निश्चित समय नहीं है। हालांकि, इस मुद्रा को गोपनीयता में करना हमेशा के लिए वैकल्पिक है। इस मुद्रा को शांत कमरे में करने से होश उड़ जाते हैं। इस सरल प्लस उपलब्ध तकनीक की तरह जब आपको थोड़ा और संतुलन और सहजता की आवश्यकता होती है। इसका रहस्य प्राण मुद्रा है।

ऐसी कई प्रथाएं हैं जो विशेष रूप से तीन दोषों के बीच संतुलन बनाए रखने में हमारी मदद कर सकती हैं और सभी लेवलों और उम्र के मनुष्‍य द्वारा किया जा सकता हैं। आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए HerZindagi से जुड़ी रहें।