हेक्टिक लाइफस्टाइल का प्रभाव अब लोगों के जीवन पर गहरा असर डाल रहा है। 60 की उम्र में होने वाली बीमारियां अब लोगों को यंग ऐज में ही हो रही हैं। इसके पीछे कहीं न कहीं हमारी अनहेल्दी लाइफस्टाइल है। वहीं सुबह जल्दी उठना और समय पर सो जाने के कई फायदे हैं। इसके अलावा स्वस्थ रहने के लिए हेल्दी खाना भी बहुत जरूरी है, हालांकि काम और बिजी शेड्यूल की वजह से लोगों को खुद के लिए वक्त निकालना काफी मुश्किल हो गया है। 

लोग अब फिजिकल एक्टिविटी से ना सिर्फ दूर हो रहे हैं बल्कि सारा दिन जंक फूड और अनहेल्दी खानों पर निर्भर होने की वजह से समय से पहले ही बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। कई ऐसी शारीरिक परेशानियां हैं जो लोगों को यंग ऐज में ही हो रही हैं, उनमें से एक है घुटनों का दर्द। इस आर्टिकल में हम बात करेंगे, पांच ऐसी पॉजिशन के बारे में जिसकी वजह से घुटनों में दर्द की समस्या हो सकती है। आपको बता दें कि उम्र के साथ इलास्टिक कार्टिलेज के आसपास की मांसपेशियां जो हमारे जोड़ों के लिए शॉक अब्जॉर्बर के रूप में काम करती है वे कठोर हो जाती हैं, जिसकी वजह से लोच खो जाती है। 

  • क्रॉस पॉजिशन में बैठना

cross position

ज्यादातर लोग ऑफिस या फिर काम करते वक्त क्रॉस पॉजिशन में बैठना पसंद करते हैं। अगर आपको इस पॉजिशन में बैठकर काम करने की आदत है तो आपको कुछ दिन बाद घुटनों में दर्द की समस्या हो सकती है। अपने पैरों को क्रॉस करके दूसरे घुटने पर बैठने की वजह से दूसरे पैर के घुटने पर अधिक दवाब पड़ता है। जिन लोगों को पहले से ही घुटनों में दर्द की समस्या है और वह इस तरह की पॉजिशन में अधिक देर तक बैठती हैं तो उन्हें अपनी इस आदत को बदल देना चाहिए, क्योंकि इससे स्थिति और खराब हो सकती है।

  • व्रजासन पॉजिशन में बैठना

vajrasana position

कई लोगों की आदत होती है पढ़ते या फिर खाते वक्त इस पॉजिशन में बैठना पसंद करते हैं, लेकिन ज्यादा देर तक इस तरह बैठने से जोड़ों में तनाव पैदा हो सकता है। अगर आप जमीन पर घुटने को काफी देर तक मोड़ कर बैठी रहेंगी तो इससे आपके कार्टिलेज और घुटनों के आसपास की हड्डियों पर दबाव और अधिक बढ़ जाता है। इसलिए इस पॉजिशन में अधिक समय तक बैठे रहने से बचें, खास कर तब जब आप पहले से ही जोड़ों के दर्द से परेशान हैं। (क्या होती है जॉक खुजली)

इसे भी पढ़ें: अगर बार-बार होती है एसिडिटी तो एक्सपर्ट के ये 9 नुस्खे आएंगे काम

  • जूतों के साइज को न करें नजरअंदाज

perfect size of shoes

कई बार हम अपने पैरों के साइज से बड़े जूते या फिर अन्य फुट वियर को पहन लेते हैं। इससे हमारा न सिर्फ बैलेंस बिगड़ सकता है बल्कि यह हमारे ज्वाइंट पर भी प्रेशर डाल सकता है। इससे आसानी से जोड़ों का दर्द और मांसपेशियों में खिंचाव हो सकता है। यही नहीं लगातार हील्स को कैरी करने की वजह से भी घुटनों में दर्द की समस्या होती है। इसलिए आम दिनों में आरामदायक जूते या फिर चप्पलों को ही पहनें। (बदहजमी के लिए अपनाएं ये 10 रामबाण घरेलू उपचार)

Recommended Video

  • कुर्सी पर सही पॉजिशन में बैठना

right postion

ऑफिस का काम करते वक्त अगर आप कुर्सी पर अधिक समय तक बैठी हुई हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि वह आरामदायक हो। कई बार डेस्क कुर्सी से अधिक नीचे या फिर ऊपर होने की वजह से समस्या पैदा हो सकती है। राइट पॉजिशन में बैठकर काम करना आपकी पहली प्रॉयोरिटी होनी चाहिए। लंबे वक्त तक अपने शरीर को एक गलत पॉजिशन में रखने से घुटनों में दर्द के साथ-साथ कमर में भी दर्द की समस्या पैदा हो सकती है। (कंप्यूटर और लैपटॉप पर ज्यादा समय तक करते हैं काम)

इसे भी पढ़ें:Home Remedies: स्किन में बार-बार होती है एलर्जी, तो ये घरेलू नुस्खे आएंगे काम

  • सही पॉश्चर का रखें ध्यान

knee pain

उठते या फिर बैठते वक्त पॉश्चर का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। कई महिलाओं को आदत होती है अपने पैरों को क्रॉस कर के खड़े होने की। इससे आपके घुटनों पर दबाव पड़ता है। इससे आपके स्नायुबंधन में खिंचाव होता है और घुटनों में दर्द होता है। अगर आप अपने घुटनों को स्वस्थ रखना चाहती हैं और उन्हें परेशानियों से दूर रखना चाहती हैं तो ऐसा करना बंद कर दें। नैचुरल तरीके से खड़ी रहें और अपने घुटनों को हर समय आराम दें।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।