• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile
  • Shilpa
  • Editorial

Pride Month: LGBTQ+ फ्लैग के रंगों का है अलग-अलग महत्व, जानें हर रंग क्यों है खास

 झंडा जिस तरह किसी देश की पहचान है, उसी तरह इंद्रधनुषी झंडा भी एलजीबीटी समुदाय का गर्व है।  
author-profile
  • Shilpa
  • Editorial
Published -13 Jun 2022, 12:05 ISTUpdated -13 Jun 2022, 12:38 IST
Next
Article
Meaning Behind The Colours Of LGBT flag big

महिला और पुरुष दोनों जेंडर के बारे में हम सब को पता है। लेकिन जब हम थर्ड जेंडर के बारे में सुनते या बात करते हैं तो इन लोगों को हीन भावना से देखते हैं, ऐसे क्यों किया जाता है? लगभग इसका कारण हम सब जानते हैं। खैर आज के समय में कई देशों ने एलजीबीटी समुदाय को कानूनी अधिकार दिए है। लेकिन इन अधिकारों के लिए उन्हें लंबा संघर्ष करना पड़ा था। लेकिन वहीं आज भी कुछ ऐसे देश हैं जहां उन्हें किसी भी तरह के कानूनी अधिकार प्राप्त नहीं हैं।

जून के इस महीने को प्राइड मंथ के रूप में भी सेलिब्रेट किया जाता है। प्राइड मंथ एलजीबीटी समुदाय को समर्पित है। आपने सोशल मीडिया पर जरूर एलजीबीटी समुदाय का कलरफुल फ्लैग देखा होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह फ्लैग कैसे बना? इस फ्लैग के लिए इन रंगों का उपयोग क्यों किया गया है। आइए इस लेख में जानते हैं झंडे का इतिहास और इसके बारे में सबकुछ। 

एलजीबीटी फ्लैग के रंगों के अर्थ 

LGBT Flag And Meaning Behind The Colours ()

आपने सोशल मीडिया पर जरूर एलजीबीटी फ्लैग देखा होगा। इस फ्लैग में कई सारे कलर्स है। झंडे का हर के कलर एलजीबीटी से जुड़े इवेंट्स से संबंधी है।  यह इंद्रधनुष की तरह दिखने वाला झंडा एलजीबीटी समुदाय के गर्व से जुड़ा है। आइए जानते हैं फ्लैग के रंग किस चीज को जाहिर करता है। बता दें कि शुरुआत के समय में झंडे में आठ कलर का उपयोग किया था। लेकिन बाद में पिंक और फिरोजी कलर को हटा दिया है। वर्तमान समय में झंडे में केवल 6 ही कलर है। 

  • पिंक- सेक्सुएलिटी
  • लाल- लाइफ 
  • ऑरेंज- इलाज के लिए 
  • येलो- सूरज की रोशनी 
  • हरा- प्रकृति 
  • नीला- शांति 
  • फिरोजी- आर्ट
  • बैंगनी- आत्मा

किसने डिजाइन किया एलजीबीटी फ्लैग 

इस कलरफुल फ्लैग को गिर्ल्बट बेकर ने डिजाइन किया था। वह गे राइट्स ऐक्टिविस्ट और आर्टिस्ट थे। उनके अनुसार झंडा क्रांति का प्रतीक होता है। जब एक बार वह अपने दोस्त के साथ डांस कर रहे हैं, तो उन्हें फ्लैग के कलर का आइडिया आया है। उनके अनुसार फ्लैग का रंग किसी न किसी चीज को दर्शाता हो। 

इसे जरूर पढ़ेंः जानें किन फिल्मी सितारों ने निभाए हैं लेस्बियन और ट्रांसजेंडर के किरदार

LGBTQ+ क्या है?

LGBT Flag And Meaning Behind The Colours

एलजीबीटी शब्द के बारे में अधिकतर लोगों ने सुना होता है लेकिन लोगों को इसके फुल फॉर्म की जानकारी नहीं होती है। जिसकी वजह से वह इस समुदाय के लोगों में फर्क नहीं समझ पाते हैं। आइए जानते हैं क्या है एलजीबीटी? और इसका मतलब 

  • L का मतलब- L यानी लेस्बियन  जब एक महिला दूसरी महिला की तरफ सेक्शुअली अट्रैक्ट होती है। 
  • G- गे- जब एक पुरुष को दूसरे आदमी से प्यार होता है। उसे गे कहते हैं। 
  • B- बाईसेक्सुअल- जब कोई आदमी या महिला को पुरूष और महिला दोनों से सेक्शुअली अट्रैक्ट होते हैं उन्हें बाईसेक्सुअल कहा जाता है। 
  • T- ट्रांसजेंडर वह इंसान होता है जो अपने जेंडर से अलग महसूस करता है। उदाहरण के लिए कोई इंसान लड़के के रूप में पैदा होता है लेकिन उसे लड़की जैसा महसूस होता है। जिसके बाद वह अपने जेंडर चेंज कराते हैं उन्हें ही ट्रांसजेंडर कहते हैं। 
  • Q- Q का अर्थ क्वीयर होता है। ऐसे इंसान जो अपने सेक्‍सुअल प्रिफरेंस को लेकर कंफ्यूज रहते हैं। (ट्रांसजेंडर प्रेग्नेंसी )

जून में ही क्यों मनाया जाता है प्राइड मंथ?

प्राइड मंथ जून में सेलिब्रेट किया जाता है। ऐसे में अक्सर लोगों के जहन में सवाल आता है कि आखिर जून में ही क्यों प्राइड मंथ बनाया जाता है। दरअसल  28 जून 1969 की हिंसक दिन की याद में प्राइड मंथ सेलिब्रेट किया जाता है। बता दें कि इस मंथ में एलजीबीटी समुदाय के उन लोगों को याद किया जाता है जिन्हें हेट क्राइम की वजह से खो दिया। 

इसे जरूर पढ़ेंः ये देश LGBTQ+ समुदाय के लोगों का खुलकर करते हैं स्वागत

प्राइड मंथ की शुरुआत कैसे हुई?

LGBT Flag And Meaning Behind The Colours ()

साल 2000 में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने पहली बार प्राइड मंथ की आधिकारिक रूप से घोषणा की थी। लेकिन इस मंथ की कहानी काफी पुरानी है। दरअसल 1969 में जून के महीने में मैनहट्टन ने स्टोनवॉल इन में पुलिस ने समलैंगिक समुदाय पर छापेमारी शुरू कर दी है। इसके अलावा पुलिस समलैंगिक लोगों को मारती थी इसके अलावा उन्हें जेल में बंद कर दिया जाता था। एलजीबीटी समुदाय लोगों को किसी भी तरह के अधिकार प्राप्त नहीं थे। पुलिस के द्वारा समलैंगिक पर किए गए अत्याचार ने अगले साल एक बड़े आंदोलन का रूप ले लिया। (एलजीबीटी पर बनी बॉलीवुड फिल्म)

अमेरिका में नहीं दुनिया भर के देशों में मनाया जाता है प्राइड मंथ 

प्राइड मंथ की शुरुआत भले ही अमेरिका में हुई। मगर आज यह कई देशों में फैल चुका है। कई देशों में प्राइड मंथ के दौरान सड़क पर परेड की जाती है। वहीं इस मंथ को सेलिब्रेट करने के लिए एलजीबीटी समुदाय को लोग पार्टी का आयोजन करते हैं। 

उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।  

Image Credit: freepik 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।