अगर आप प्लांटिंग में नए नहीं हैं तो आपको रूटिंग हार्मोन के बारे में अवश्य पता होगा। आमतौर पर कई प्लांट्स को कटिंग से भी तैयार किया जाता है। लेकिन अक्सर लोगां की यह शिकायत होती है कि कटिंग से उनका पौधा अच्छी तरह तैयार नहीं होता या फिर उसकी ग्रोथ उतनी तेजी से नहीं होती है, जैसा कि वास्तव में होनी चाहिए। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वह रूटिंग हार्मोन का इस्तेमाल नहीं करते हैं। रूटिंग हार्मोन वास्तव में एक तरह का पाउडर होता है, जो प्लांट्स की ग्रोथ को बेहतर बनाने में मदद करता है।

जब भी कटिंग से पौधा तैयार किया जाता है, तो पहले उसके एंड्स को रूटिंग हार्मोन पाउडर में डिप किया जाता है। यूं तो आपको मार्केट में कई अलग-अलग ब्रांड्स के रूटिंग हार्मोन पाउडर मिल जाएंगे, लेकिन अगर आप चाहें तो इसे घर पर भी बना सकते हैं। तो चलिए आज हम आपको रूटिंग हार्मोन पाउडर तैयार करने के तरीके के बारे मे बता रहे हैं-

एस्पिरिन रूटिंग हार्मोन

garden in hindi

एस्पिरिन एक ऐसी दवाई है, जो आपके गार्डन एरिया के लिए बेहद काम की चीज है। एस्पिरिन को आप होममेड रूटिंग हार्मोन के रूप में उपयोग करना सबसे आसान और सस्ता तरीका है। आप इसकी गोलियों को पीसकर इसके पाउडर को रूटिंग हार्मोन के रूप में इस्तेमाल कर सकती हैं। इसके अलावा आप डिस्टिल्ड वाटर लें और उसमें एस्पिरिन की गोलियां डालकर उसे घुलने दें। अब प्लांट की कटिंग को कुछ घंटों के लिए इस इस रूटिंग घोल में रखें। यह आपके प्लांट्स की बेहतर ग्रोथ में मदद करेगा।

एप्पल साइडर विनेगर

vinegar for plants

अगर आप अपने प्लांट्स के लिए एक आर्गेनिक रूटिंग हार्मोन तैयार करना चाहते हैं। इसे तैयार करने के लिए आप थोड़े से पानी में एक बड़ा चम्मच एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं। आप रूटिंग हार्मोन के रूप में इस मिश्रण का उपयोग करके अपनी कटिंग से प्लांट्स तैयार कर सकते हैं।

इसे ज़रूर पढ़ें- Expert Tips: सर्दियों में पेड़-पौधों को कैसे दें पानी

शहद

honey for plants

शहद प्लांट ग्रोथ के लिए एक बेहतरीन उत्तेजक के रूप में कार्य करता है और इसलिए यह सबसे अच्छा होममेड रूटिंग हार्मोन में से एक है। चूंकि इसमें जीवाणुरोधी, एंटीसेप्टिक और एंटीफंगल गुण होते हैं जो पौधे को सड़न और संक्रमण से बचाएंगे। इसे आप कई तरह से होममेड रूटिंग हार्मोन के रूप मे इस्तेमाल कर सकते हैं। (एक्सपायर्ड मेडिसिन और सप्लीमेंट्स को गार्डन एरिया में कुछ इस तरह करें इस्तेमाल) इसके लिए, आप कटिंग के सिरे को शहद में डुबोएं और इसके चारों ओर एक पतली परत बनाने के लिए इसे घुमाएं। इसके अलावा, एक या दो कप उबले हुए पानी में दो बड़े चम्मच शहद मिलाएं और इस घोल को ठंडा होने दें। कटिंग को इसमें डुबोएं और इसे ग्रोइंग मीडियम में रोपें। वहीं, कटिंग को पानी में गीला करके दालचीनी पाउडर में रोल करें। बाद में, रोपण से पहले कटिंग को शहद में डिप करें।

आलू और दालचीनी का रूटिंग हार्मोन

potato for plant in hindi

आलू और दालचीनी भी एक बेहतरीन रूटिंग हार्मोन की तरह काम करता है। खासतौर से, अगर आप अपने गार्डन में गुलाब की कटिंग से प्लांट तैयार करना चाहती हैं तो आलू और दालचीनी का इस्तेमाल करें। दालचीनी में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो जड़ प्रक्रिया के दौरान आपके तने को फफूंद और सड़न से बचाते हैं। इसके लिए, आप पहले गुलाब की कटिंग करें और उसके एंड्स को दालचीनी के पाउडर में अच्छी तरह घुमाएं। अब, आलू को बीच में से काट लें और उस आलू के आधे भाग को रोज की तरह गमले की मिट्टी में गाड़ दें। अब आप आलू के बीच में हल्का छेद कर लें। इसे आप ड्रिल के साथ, फिलिप्स हेड स्क्रूड्राइवर या चाकू से हाथ से कर सकते हैं। अब आप गुलाब की कटिंग को आलू के बीच में फिक्स करें। यह आपके गुलाब के तने को नमी और पोषक तत्व देगा जो रूटिंग के लिए आवश्यक है। आलू एक बार जमीन में रखने के बाद यह स्थिरता भी प्रदान करता है। जब आलू डिकंपोज होने लगता है तो वह खाद का भी काम करता है।

इसे ज़रूर पढ़ें- Expert Tips: घर में आने वाली परेशानियों का संकेत दे सकता है तुलसी का पौधा, जानें कैसे

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit- freepik