कोरोना काल में लोग केवल अपने स्वास्थ्य को लेकर ही चिंतित नहीं हैं, बल्कि फाइनेंशियल स्ट्रेस भी उन्हें काफी परेशान कर रहा है। दरअसल, कोरोना से निपटने के लिए पूरे देश में कर्फ्यू व लॉकडाउन जैसे उपाय अपनाए गए, जिसके कारण लोगों के काम-धंधे व नौकरियों पर भी गहरा असर पड़ा। इस मुश्किल दौर में जहां बहुत से लोगों को अपना व्यापार बंद करना पड़ा, तो बहुत लोगों की नौकरियां चली गईं। वहीं ऐसे भी कई लोग हैं, जो बहुत कम वेतन पर काम कर रहे हैं, जिसके कारण वह अब फाइनेंशियल स्ट्रेस से गुजर रहे हैं। इस तनाव के परिणामस्वरूप लंबे समय तक बीमारियाँ हमारे स्वास्थ्य को शारीरिक और मानसिक रूप से प्रभावित कर सकती हैं। कर्ज में डूबे रहना और अपने बिलों का भुगतान न कर पाना एक ऐसी चीज है जो हमें हर महीने परेशान करती है। जल्द ही, यह मन की एक चिरस्थायी स्थिति बन जाती है जहां आप अपने दिन में निराशा और कभी-कभी अवसाद का भी सामना करते हैं। इसलिए, अब वक्त आ गया है कि आप  पैसा आपकी खुशी नहीं खरीद सकता है, इस नियम का पालन करें। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको फाइनेंशियल स्ट्रेस से निपटने के कुछ आसान उपायों के बारे में बता रहे हैं-

अपने खर्चों को ट्रैक करें

inside  saving

अगर आप फाइनेंशियल स्ट्रेस से प्रभावी तरीके से निपटना चाहती हैं तो यह बेहद जरूरी है कि आप मनी मैनेजमेंट सीखें। इसके लिए आप अपने खर्चों को ट्रैक करें। ऐसा करने से आप अपने जरूरी खर्चों के बारे में जान पाएंगी और अतिरिक्त व अनजाने में खर्च किए बेफिजूल के पैसों का भी पता लगा पाएंगी। इसके लिए, अपने सभी खर्चों और लोन्स का एक नोट बनाएं। इस बात पर नज़र रखें कि आप अपना पैसा कहाँ खर्च कर रही हैं और अगर संभव हो तो वहाँ से अपने ख़र्चों को घटाने का प्रयास करें। 

बजट बनाएं

inside  budgut

अगर इन दिनों आप कुछ फाइनेंशियल परेशानियों से जूझ रही हैं तो ऐसे में बजट बनाना बेहद आवश्यक है। यूं तो फाइनेंशियल मैनेजमेंटके लिए हमेशा ही बजट बनाना चाहिए, लेकिन फाइनेंशियल स्ट्रेस के समय यह और भी अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। ऐसा करने से आप अपने ख़र्चों को सीमित कर देंगे या कम से कम कोशिश तो करेंगे ही। इस बात का ध्यान रखें कि आप अपने बजट से अधिक न हों। अपना पैसा बुद्धिमानी से और उन चीजों पर खर्च करें जिनकी आपको अनिवार्य रूप से आवश्यकता है।

इमरजेंसी फंड रखें

 emergancy fund

यह एक ऐसी आदत है, जो हमेशा आपको फाइनेंशियल स्ट्रेस से दूर रखती है। हमेशा ही अपनी कमाई का एक हिस्सा इमरजेंसी फंड के रूप में जोड़ें। आप अपनी, सबसे खराब स्थिति के मामले में आपातकालीन नकदी को संभाल कर रखें। हमेशा उम्मीद करें कि ऐसी स्थिति हो सकती है जहां आपका सारा पैसा खत्म हो गया हो या फिर आप एक बहुत बुरी फाइनेंशियल कंडीशन से गुजरें, ऐसे में यह इमरजेंसी फंड आपके काम आएगा। 

इसे ज़रूर पढ़ें-चोली के पीछे गाने की शूटिंग के दौरान डायरेक्टर की इस डिमांड से नीना गुप्ता को झेलनी पड़ी थी शर्मिंदगी

अन्य चीजों में खुशी की तलाश करें

inside  make to be a happy

यह सच है कि पैसा जीवन में जरूरी है, लेकिन सिर्फ इसे ही अपने जीवन का आधार ना बनाएं और हर समय केवल पैसों के बारे में ही ना सोचें। पैसों से ज्यादा अपने जीवन में अन्य चीजों को प्राथमिकता दें। पैसा आता है और चला जाता है, यह स्थायी नहीं है। परिवार या दोस्तों के साथ समय बिताने जैसी वास्तविक चीजों में खुशी पाएं।

Recommended Video

खुद से रहें खुश

inside  happy for own habit

पैसा जीवन की जरूरतों को पूरा करने के लिए आवश्यक है, लेकिन खुद को पैसा कमाने की मशीन के रूप में तब्दील ना करें। आपके पास जो है उसके साथ खुश रहें। आपकी थाली में जो कुछ है उससे संतुष्ट और खुश रहना ही अंतिम लक्ष्य है। रात को सोने से पहले, आप खुद से कहें कि आप एक खुशमिजाज व्यक्ति हैं जो अपने पास जो कुछ भी है उससे गर्व और संतुष्ट है। आप हमेशा खुशी के पीछे भागते रहेंगे यदि आप जो है उससे ज्यादा मांगते रहेंगे।

इसे ज़रूर पढ़ें-शादी के बाद भी रहें फाइनेंशियल स्ट्रॉन्ग, फॉलो करें ये easy steps

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik