रंग-बिरंगे और खुशबूदार, खूबसूरत गुलाब आखिर किसे पसंद नहीं होंगे। गुलाब जहां भी हों अपनी खूबसूरती से सबका मन मोह लेते हैं। भारतीय मौसम में आसानी से गुलाब के पौधे उगाए जा सकते हैं और इन्हें सभी अपने गार्डन में रखना पसंद करते हैं, लेकिन समस्या ये होती है कि कई बार इस तरह के गुलाब के पौधे घर पर बड़ी मेहनत से लगाने के बाद भी इनमें फूल नहीं आ पाते और न ही ये पनप पाते हैं। 

गुलाब के पौधे को कुछ महीनों में कटिंग की जरूरत पड़ती है पर इसे बहुत ज्यादा मैनेज करने की जरूरत नहीं होती है। अगर आपके घर में गुलाब का पौधा है जो सूख रहा है या उसमें अच्छे से फूल नहीं खिल रहे हैं तो आप कुछ खास टिप्स को आजमा सकती हैं। 

किस तरह का रोज़ प्लांट है आपके पास?

सबसे पहले ये ध्यान दें कि आप किस तरह का प्लांट लाए हैं। इंगलिश रोज़ या फिर देसी रोज़ प्लांट। देसी गुलाब में महक बहुत अच्छी होती है, लेकिन उसमें बहुत वेराइटी नहीं होती है वो गुलाबी, सफेद, लाल रंगों में तो होता है, लेकिन साइज में काफी छोटा होता है। इंग्लिश रोज़ प्लांट्स कई तरह के होते हैं। कई रंग, शेप, साइज में मिलेंगे, लेकिन इनमें महक नहीं होती है। अगर आपका देसी प्लांट है तो बहुत ज्यादा केयर के बिना भी वो खिलेगा, लेकिन इंग्लिश रोज़ की केयर करने की थोड़ी टिप्स आपको पता होनी चाहिए। 

rose plant and hacks for garden

इसे जरूर पढ़ें-  जनवरी-फरवरी में अपने गार्डन में लगाए जा सकते हैं ये खूबसूरत फूलों वाले पौधे

3 हैक्स जो रखेंगे आपके गुलाब के पौधे का ख्याल-

गुलाब के पौधे की मिट्टी, फर्टिलाइजर और धूप बस ये तीन चीज़ें ही बहुत महत्वपूर्ण हो सकती हैं। 

1. गुलाब के पौधे की मिट्टी पर दें ध्यान-

गुलाब का पौधा उस वक्त अच्छा रहता है जब इसकी मिट्टी सही होती है। अगर पौधे की मिट्टी बहुत कड़क है और सिर्फ ब्लैक सॉइल का इस्तेमाल आप कर रहे हैं तो कभी भी अच्छे फूल नहीं आएंगे। गुलाब के पौधे को रीपॉट करना जरूरी है, इसे दो-तीन दिन के अंदर रीपॉट करें जिससे ये सेटल हो जाए। इसे शुरुआत में बहुत तेज़ धूप में न रखें। नर्सरी से जब भी आप पौधा खरीद कर लाएं उसे रीपॉट करें यानि नए गमले में लगाएं और उसकी मिट्टी बनाते समय इन बातों का ध्यान रखें-

  • मिट्टी बालू वाली होनी चाहिए, सिर्फ ब्लैक सॉइल का इस्तेमाल न करें। 
  • मिट्टी में खाद जरूर मिली होनी चाहिए। गुलाब के पौधे के लिए किचन वाले कॉम्पोस्ट से ज्यादा बेहतर गोबर की खाद हो सकती है।  
  • मिट्टी को कड़क होने न दें। उसकी बीच-बीच में खुदाई करते रहें ताकि पानी आसानी से पौधे में भी जा सके और एक्स्ट्रा पानी निकल सके। लेकिन ऐसा करते समय गुलाब की जड़ों का ध्यान जरूर रखिएगा।  
  • आप इसमें कोको पीट, बोन मील आदि भी मिला सकते हैं जिससे पूरे साल तक मिट्टी में सही न्यूट्रिएंट्स बने रहेंगे।  

rose plant and tips

2. सबसे आसान DIY फर्टिलाइजर: अगर सूख रहा है पौधा तो करें ये काम-

गुलाब का पौधा वैसे तो बहुत ही आसानी से उग जाता है, लेकिन ऐसा भी हो सकता है कि ये सूखने लगे और इसकी पत्तियां काली पड़ जाएं। ऐसे में आप एक DIY फर्टिलाइजर बना सकते हैं जिसे पौधों पर डाला जा सकता है।  

क्या करें? 

सूखा गोबर और थोड़े से सिट्रस फ्रूट्स के छिलके जैसे संतरे आदि के छिलके लेकर इसे 1 बाल्टी पानी में दो-तीन दिन के लिए रख दें। इसके बाद आप उस पानी को थोड़े और साफ पानी में मिलाकर अपने गुलाब के पौधों में डालें और आप स्प्रे बॉटल की मदद से इसे पत्तियों में भी छिड़क सकते हैं। इसे आप हफ्ते में 1 बार कर सकते हैं और आप देखेंगे कि गुलाब के पौधे किस तरह से खिलने लगे हैं।  

सब्जियों और दाल-चावल का पानी इस्तेमाल करें- 

किचन में दाल-चावल धोने के बाद बचा पानी, आलू उबालने के बाद बचा पानी या सब्जियों को धोने के बाद बचा पानी एक जगह इकट्ठा कर लें और उसे अपने गुलाब के पौधों में डालें। इस पानी में भरपूर मात्रा में न्यूट्रिएंट्स होते हैं जिससे गुलाब के पौधे सड़ते नहीं हैं और उनकी मिट्टी भी नम बनी रहती है वो कड़क नहीं होती।  

rose tips

इसे जरूर पढ़ें- सर्दियों के मौसम में बढ़ाना चाहती हैं अपने गार्डन की खूबसूरती, तो लगाएं इन फूलों के पौधे 

Recommended Video

3. दोपहर की धूप- 

अक्सर लोगों को लगता है कि पौधों को सीधे सूरज की रौशनी में रखने से ये अच्छी तरह से खिलते हैं, लेकिन आपको ध्यान रखना चाहिए कि आप किस तरह के पौधे की बात कर रहे हैं। जैसे गुलाब का पौधा ठंडों में बहुत अच्छे से फूल दे सकता है। गर्मियों में तो इसे धूप से बचाने की नौबत आ सकती है। ऐसे में आप 50% ग्रीन शेड वाली नेट के नीचे गुलाब का पौधा लगाएं ताकि इसे सीधे दोपहर की धूप से बचाया भी जा सके और पर्याप्त हवा-पानी भी इसे मिले।  

अगर आप नेट नहीं इंस्टॉल कर पा रहे हैं तो इसे ऐसी जगह पर रखें जहां सुबह की धूप आती हो और दोपहर की धूप न हो। ये सबसे अच्छा तरीका है गुलाब के पौधों को जलने से और उसकी पत्तियों को खराब होने से बचाने का।