सब्‍जी का स्‍वाद बढ़ाने के लिए ज्‍यादातर महिलाएं मसालों का इस्‍तेमाल करती हैं। और एमडीएच के मसाले तो ज्‍यादातर महिलाओं की पहली पसंद हैं। अगर आप भी अगर आप भी सांभर का स्‍वाद बढ़ाने के लिए एमडीएच मसाले का इस्‍तेमाल करती हैं तो सावधान हो जाये। क्‍योंकि अमेरिकी एफडीए की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान के अनुसार, 'एफडीए की ओर से एक प्रमाणित लैब में कराए गए टेस्ट में साल्मोनेला मिलने की पुष्टि हुई है।' 

जी हां एमडीएच के सांभर मसाले में कथित तौर पर साल्मोनेला बैक्टीरिया मिलने के बाद अमेरिका से इन मसालों की कम से कम तीन खेप वापस मंगाई गई हैं। अमेरिका की फूड एंड ड्रग रेगुलेटर बॉडी एफडीए की ओर से कराए गए कुछ टेस्ट के परिणाम सामने आने के बाद पिछले हफ्ते यह कदम उठाया गया।

इसे जरूर पढ़ें: 5 मिनट में घर पर ऐसे तैयार करें सांभर मसाला, टेस्टी बनेगा सांभर

sambar masala health inside

अमेरिकी एफडीए की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान के अनुसार, ‘एफडीए की ओर से एक प्रमाणित लैब में कराए गए टेस्ट में साल्मोनेला मिलने की पुष्टि हुई है। साल्मोनेला से संक्रमित प्रोडक्ट के वितरण की जानकारी मिलने के बाद एफडीए ने रिकॉल का फैसला किया।’ बयान में इस बात का जिक्र नहीं है कि प्रोडक्ट वापसी का फैसला स्वैच्छिक था। 

साल्मोनेल्लोसिस क्‍या है?

एफडीए के मुताबिक, साल्मोनेला बैक्टीरिया के कारण होने वाली साल्मोनेल्लोसिस नामक एक आम खान-पान जनित बीमारी होती है। इसके होने पर दस्त, पेट में दर्द और बुखार जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। अधिकतर लोग बिना इलाज ठीक हो जाते हैं। हालांकि, बहुत कई लोगों को समस्‍या के दौरान तेज दस्त की शिकायत हो सकती है जिससे उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराना पड़ सकता है। अधिक गंभीर मामलों में, रोगी को तेज बुखार, दर्द, सिरदर्द, सुस्ती, यूरीन या मल में ब्‍लड आ सकता है और उनके अनुसार कुछ मामलों में, साल्मोनेल्लोसिस घातक हो सकता है। एजेंसी के अनुसार, बुजुर्ग, नवजात और कमजोर इम्‍यूनिटी वाले लोगों के गंभीर तौर पर बीमार होने की आशंका रहती है।

इसे जरूर पढ़ें: सांबर का स्वाद है उसके मसालों में, शेफ से जानिए authentic सांबर बनाने की exclusive रेसिपी

sambar masala health inside

यूएसएफडीए ने एक विज्ञप्ति में कहा कि लॉट कोड 108, 47 और 48 के साथ तीन लॉटों का निर्माण आर-प्योर एग्रो स्पेशलिटीज द्वारा किया गया है, जिसे हाउस ऑफ स्पाइस (इंडिया) द्वारा बेचा गया था और उत्तरी कैलिफोर्निया के रिटेल स्टोर में वितरित किया गया था। 

 

फिलहाल यह साफ नहीं है कि आर-प्योर की ओर से अमेरिकी बाजार के लिए निर्मित एमडीएच के प्रोडक्ट भारत में भी वितरित किए गए थे कि नहीं। इस बारे में एमडीएच से उनकी रजिस्टर्ड ईमेल एड्रेस पर सवाल पूछे गए, लेकिन खबर के प्रकाशित होने तक उनकी ओर से जवाब नहीं मिल पाया था। बता दें कि एमडीएच के प्रोडक्ट्स में साल्मोनेला के इंफेक्‍शन की शिकायत अमेरिका में पहले भी हुई है। एफडीए की वेबसाइट के अनुसार, फूड रेगुलेटर ने 2016 से 2018 के बीच कंपनी के मसालों के इंपोर्ट को 20 मौकों पर रोका है।