मौसम के बदलते मिजाज के साथ ही बीमारियों का तांता सा लग जाता है।
सुबह उठते समय गले में दर्द और बहती नाक महसूस होना इस मौसम में बेहद ही आम है। और आप तो जानती ही हैं कि गले में हल्‍का-हल्‍का दर्द और चुभन और साथ ही नाक का बहना किस ओर इशारा करता है। जी हां यह इस बात की ओर इशारा करता है कि आपकी बॉडी का temperature बढ़ने वाला है, और आपको तभी सी अजीब सा महसूस होने लगता है।

लेकिन परेशान ना हो क्‍योंकि बुखार कोई हौवा नहीं हैं बल्कि बुखार आपकी बॉडी का एक हिस्सा है जो इंफेक्‍शन के खिलाफ आपका बचाव करता है। जब हमारी बॉडी पर किसी आक्रमणकारी का हमला होता हैं, तो हमारी बॉडी का temperature बढ़ता है। यह हम नहीं कह रहे बल्कि यह हमें पटपड़ गंज स्थित क्लिनिक के homeopathic doctor Dr. Himanshu Saxena ने बताया है। इस बारे में विस्‍तार से बताते हुए वह कहते हैं कि

क्या है normal body temperature?

बॉडी का normal temperature लगभग 98.6 डिग्री फ़ारेनहाइट (37 सेल्सियस) है, हालांकि यह व्यक्ति में अलग-अलग होता है। Normal temperature एक डिग्री से नीचे या एक डिग्री ऊपर 9.6 डिग्री सेल्सियस तक उतार चढ़ाव हो सकता है।

body fever health

High temperature के दौरान क्या होता है?

बुखार खून में बह रहे, pyrogens के रूप में जाना जाने वाले केमिकल के कारण होता है। आमतौर पर, pyrogens बैक्‍टीरिया और वायरस जैसे infectious agents से लड़कर इम्‍यून सिस्‍टम की हेल्‍प करते हैं- जो temperature changes के प्रति संवेदनशील होते हैं।

Read more: Immunity booster गिलोय सर्दी में हर तरह के बुखार से देता है safety
 
बॉडी का temperature 100.4 डिग्री सेल्सियस या उससे अधिक के आसपास होना बुखार का संकेत है, हालांकि केवल मुंह और बगल का temperature वास्तविक बॉडी  का temperature होता है।

ब्रेन में hypothalamus बॉडी के temperature को नियंत्रित करने का काम करता है, और बॉडी की thermostat के रूप में काम करता है। हमारी बॉडी का temperature बढ़ जाता है, जब pyrogens ब्रेन तक पहुंचते हैं और hypothalamus में कुछ रिसेप्टर्स के साथ बांधते हैं।

कब high fever ज्‍यादा 'high' होता है?

जबकि बुखार infections से लड़ने में हेल्‍प करता है, शायद ही कभी, यह घातक भी हो सकता है। लेकिन 104 डिग्री सेल्सियस से अधिक बॉडी temperature को medical emergencies माना जाना चाहिए और तुरंत medical help ली जानी चाहिए।

body fever health i

गर्मी का यह लेवल प्रोटीन के काम को नुकसाना पहुंचा सकता है, जिसका नियमित कार्य बॉडी के normal temperature पर निर्भर करता है। गंभीर रूप से high fever से दौरे, भ्रम, सिरदर्द और तेज रोशनी और आवाज के प्रति असामान्य संवेदनशीलता और सांस लेने में कठिनाई हो सकती है।

डॉक्टर को कब बुलाना चाहिए?

अगर आपका temperature 103 degrees F से ज्‍यादा है तो तुरंत अपने डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। घबराने की जरूरत नहीं हैं क्‍योंकि दवा और देखभाल से  temperature आसानी से नीचे आ जाता है। आमतौर पर temperature कुछ दिनों के अंदर ही अधिकतम आराम, विटामिन सी से भरपूर फूड और ताजी हवा के कारण दूर हो जाता है-क्‍योंकि यह सभी चीजें इंफेक्‍शन को दूर करने में बेहद ही मददगार होते हैं।

लेकिन अगर आपको बहुत ही तेज फीवर (more than 104 degrees F) है या body temperature तीन दिनों के बाद भी कम नहीं हो रहा है तो आपको तुरंत किसी अच्‍छे डॉक्‍टर के पास जाना चाहिए और डॉक्‍टर के बताने पर लगातार देखभाल और निगरानी के लिए हॉस्पिटल में भर्ती हो जाना चाहिए।  

Read more: निमोनिया से अपने नन्‍हे मुन्‍ने को बचाना है तो ब्रेस्‍टफीडिंग करायें