प्रेगनेंसी के दौरान अगर आप स्मोकिंग कर रही हैं तो विटामिन सी के सेवन से आप अपने होने वाले बच्चे के फेफड़ों को संभावित नुकसान से बचा सकती हैं। इससे पहले की स्टडी में कहा गया था कि जिन महिलाओं ने स्मोकिंग नहीं छोड़ी, उनमें विटामिन सी लेने से शिशुओं में पल्मोनरी फंक्शन बेहतर पाया गया। 

नवजात शिशुओं को सांस लेने में नहीं हुई मुश्किल

pregnant women inside

एक साल में इस स्टडी में पाया गया कि जिन महिलाओं ने विटामिन सी लिया, उनके शिशुओं को सांस लेने में परेशानी नहीं हुई। नई स्टडी में अमेरिकन थोरेसिक सोसाइटी ने 252 महिलाओं के न्यूबॉर्न बेबीज के फोर्स एक्सपायरेटरी फ्लो (एफईएफ को मापा। एफईएफ उस स्पीड को मापता है, जिसके जरिए हवा फेफड़ों के बाहर भेजी जाती है। जो महिलाएं स्मोक कर रही थीं उन्हें प्रीनेटल विटामिन के अलावा हर रोज 500 मिलिग्राम विटामिन सी भी दिया गया। उन्हें पूरी प्रेगनेंसी के दौरान स्मोकिंग छोड़ने के लिए भी प्रेरित किया गया। इन महिलाओं ने औसतन 7 सिगरेट रोजाना पीं। 

अस्थमा पर विटामिन सी के असर की जारी है पड़ताल

स्टडी को-इन्वेस्टिगेटर इलियट स्पिंडेल, एमडी, प्रोफेसर ऑफ न्यूरोसाइंस का अनुमान है कि विटामिन सी के सेवन से सांस के रास्ते कोलेगन डिपोजिशन में कमी आई, जैसा कि जानवरों के शिशुओं में प्रेगनेंसी के बाद नजर आता है। यह स्टडी इन बच्चों पर इनके 6 साल होने तक जारी रहेगी और इसमें देखा जाएगा कि विटामिन सी के सेवन से उनकी रेस्पिरेटरी हेल्थ अच्छी होती है या नहीं। रिसर्चर इस बात में भी दिलचस्पी ले रहे हैं कि वे विटामिन सी लेने वाली महिलाओं के बच्चों की एक साल तक की अवस्था में अस्थमा होने की आशंका घटती है या नहीं। 

प्रेगनेंट महिलाओं के लिए स्मोकिंग छोड़ना जरूरी

रिसर्चर मेकइवॉय ने कहा कि विटामिन सी के जाहिर तौर पर पता बेनिफिट्स के बावजूद महिलाओं को प्रेगनेंसी में स्मोकिंग छोड़ना पहली प्रायोरिटी होनी चाहिए। मोटे तौर पर ऐसी 50 फीसदी महिलाएं, जो स्मोकिंग नहीं छोड़ पा रहीं या स्मोकिंग नहीं छोड़ेंगी, के विटामिन सी लेने से उनके बच्चे बेहतर तरीके से सांस ले सकेंगे। यह स्टडी एटीएस 2018 इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में पेश की गई थी।

Recommended Video