अगर आप इन दिनों परेशान रहने लगी हैं तो उसकी वजहों की पड़ताल करना बहुत जरूरी है, क्योंकि परेशान होने या किसी भी बात की चिंता करने पर आपका फोकस बिगड़ता है और काम खराब होने का अंदेशा भी बढ़ जाता है। कई बार मूड खराब होने, काम पर फोकस नहीं कर पाने या टेंशन में रहने की वजह शरीर में हार्मोन का असंतुलन भी हो सकता है। हमारे शरीर में हार्मोन काफी इंपॉर्टेंट रोल प्ले करते हैं, क्योंकि ये शरीर के काम-काज को कंट्रोल करते हैं। आमतौर पर हार्मोन में बदलाव यंग एज, पीरियड्स, प्रेगनेंसी और मेनोपॉज के दौरान देखा जाता है। मगर आज के समय में सही डाइट नहीं लेने, बहुत ज्‍यादा या बहुत कम एक्सरसाइज करने, नींद नहीं पूरी होने, स्ट्रेस, बर्थ कंट्रोल पिल्‍स लेने और कीटनाशक जैसे जहरीले पदार्थों के संपर्क में आने से हार्मोन्स में बैलेंस बिगड़ सकता है। आइए जानें हार्मोन से जुड़े कुछ अहम तथ्यों के बारे में-

हार्मोन संतुलन बिगड़ने से होती हैं ये परेशानियां

reduce stress in life

महिलाओं में हार्मोन का बैलेंस बिगड़ जाए तो घबराहट, चिड़चिड़ेपन, थकान, वजन बढ़ने के अलावा बाल झड़ने, सिरदर्द, फिजिकल इंटिमेसी की इच्‍छा कम होने, मुंहासे, इन्फर्टिलिटी जैसी कई समस्‍याएं हो सकती हैं। इन समस्याओं से निजात पाने के लिए जरूरी है अपने खानपान और जीवनशैली को सही किया जाए। 

इसे जरूर पढ़ें: जाने ऐसा क्या ख़ास है आयुर्वेदिक डाइट में जो इससे निरोगी बनाती है

ओमेगा - 3 फैटी एसिड से भरपूर डाइट लें

harmone balance naturally inside

ओमेगा 3 फैटी एसिड हार्मोन बैलेंस बनाने में काफी ज्‍यादा मददगार होते हैं। ये पीरियड्स के तेज दर्द को शांत करने और मेनोपॉज के लक्षणों को कम करते हैं। ओमेगा 3 फैटी एसिड्स के लिए मछली, अलसी के बीज, अखरोट, सोया बींस, टोफू और ऑलिव ऑइल से प्राप्‍त हो सकता है। डॉक्‍टर की सलाह पर आप ओमेगा 3 की टैबलेट भी ले सकती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: इसे जरूर पढ़ें: आम से जुड़े हैं ये 5 मिथ, एक्‍सपर्ट कविता देवगन ने बताए फायदे

विटामिन डी की खुराक से बनेगी बात

विटामिन डी पिट्यूटरी ग्रंथि को प्रभावित करता है, जहां हार्मोन बनते हैं। यह एस्ट्रोजन के कम स्तर के लक्षणों को धीमा कर सकता है। इसके असर से वजन काबू में रहता है और भूख भी खुलकर लगती है। यदि आपके शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाती है तो, शरीर में पैराथायरॉयड हार्मोन का असामान्य स्‍त्राव होने लगेगा। विटामिन डी के लिए सूर्य की रोशनी सबसे अच्छा स्रोत है। सॉल्‍मन और टुना फिश, डेयरी प्रोडक्ट्स और डेयरी प्रोडक्ट्स से भी विटामिन डी की कमी पूरी होती है। 

Recommended Video

नियमित रूप से करें एक्सरसाइज

harmone balance naturally inside

नियमित रूप से 20 से 30 मिनट डेली एक्‍सरसाइज करने से आपके हार्मोन संतुलित रह सकते हैं। इससे तनाव के स्तर में भी कमी आती है क्‍योंकि स्‍ट्रेस हार्मोन एस्‍ट्रोजेन हार्मोन को ब्‍लॉक कर देता है, जिससे पूरे शरीर को परेशानी भुगतनी पड़ती है। आप रोजाना टहल सकती हैं, जॉगिंग, स्वीमिंग या योगा कर सकती हैं। 

नारियल तेल से ब्लड शुगर को काबू में रखें

harmone balance naturally inside

नारियल तेल कुदरती रूप से हाइपोथायरायडिज्म को ठीक कर देता है। यह ब्‍लड शुगर का स्तर संतुलित रखता है और इम्यूनिटी को भी स्ट्रॉन्ग बनाए रखता है। 

मेथी दाना बढ़ाएगा मेटाबॉलिज्म

आयुर्वेद में मेथी दाने को जड़ी बूटी के समान मानते हैं। मेथी एस्ट्रोगेनिक इफ़ेक्ट को बढ़ावा देती है। यह ब्‍लड शुगर की मात्रा को नियंत्रित रखने में मदद करती है और ग्‍लूकोज मेटाबॉल्‍जिम की खराबी को ठीक करती है, जिससे वजन को काबू रखने में आसानी होती है। रोजाना एक कप गरम पानी में 1 चम्‍मच मेथी दाने को 15 मिनट तक भिगो कर रखें, फिर छान कर दिन में 3 बार पियें। इसके साथ में आप नींबू या शहद भी मिक्‍स कर सकती हैं। 

इन तरीकों को अपनाएं और अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में खुश रहें। अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे जरूर शेयर करें। हेल्थ से जुड़ी अन्य अपडेट्स के लिए विजिट करती रहें हरजिंदगी।