मां बनना किसी भी महिला के लिए सुखद अहसास होता है। लेकिन प्रेग्‍नेंसी के दौरान हार्मोन में बदलाव के चलते महिलाओं को कई तरह की परेशानियों से गुजरना पड़ता है। ऐसे में उन्हें कई बार पेनकिलर का इस्तेमाल भी करना पड़ता है लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि इन पेनकिलर के इस्तेमाल से आपके साथ-साथ आपके होने वाले बच्‍चे को भी नुकसान हो सकता है।

पेनकिलर से बच्‍चे की फर्टिलिटी पर असर

जी हां अगर आप प्रेग्‍नेंसी के दौरान पेनकिलर ले रही हैं तो सावधान हो जाए! एक नई रिसर्च से पता चला है कि इससे गर्भस्थ बच्चे की फर्टिलिटी पर असर पड़ सकता है। इस शोध का प्रकाशन पत्रिका 'इनवायरमेंटल हेल्थ पर्सस्पेक्टिव' में किया गया है। शोध से पता चलता है कि इन दवाओं से अजन्मे लड़के व लड़कियों दोनों की प्रजनन क्षमता पर असर पड़ता है।

Read more: Pregnancy में paracetamol लेना बच्‍चों की health के लिए अच्‍छा नहीं

क्‍या कहता है शोध

शोध में कहा गया है कि इनका प्रभाव भविष्य की पीढ़ियों के प्रजनन क्षमता पर पड़ सकता है। यह डीएनए पर असर डाल सकते हैं। इसमें यह भी कहा गया है कि पैरासिटामॉल सहित कुछ दवाओं का इस्तेमाल गर्भावस्था के दौरान सावधानी से करना चाहिए।

pregnancy painkiller in

Image Courtesy: Shutterstock.com

ब्रिटेन के एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी के प्रमुख शोधकर्ता रॉड मिशेल ने कहा, "हम महिलाओं को प्रेग्‍नेंसी के दौरान पेनकिलर लेने में सावधानी बरतने व मौजूदा दिशा-निर्देशों को पालन करने व कम समय के लिए कम मात्रा में लेने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।"

भ्रूण के हार्मोन होने लगते हैं असंतुलित

पेनकिलर से भ्रूण के हार्मोन असंतुलित होने लगते हैं, जिससे उसमें विकृतियां हो सकती हैं। भविष्य में टेस्टीकल कैंसर का खतरा भी हो सकता है। प्रेग्‍नेंसी के 4 से 6 महीने के बीच केवल एक पेनकिलर मेडिसिन लेने से भी सामान्य महिलाओं के मुकाबले इन महिलाओं के बच्चों में विकृति का खतरा दोगुना हो जाता है। पैरासीटामॉल से भ्रूण के विकास में दोगुनी बाधा होती है।

पेनकिलर मेडिसिन का एक नुकसान और भी है कि भ्रूण के हार्मोस का संतुलन बिगड़ने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं और होने वाले बच्चे में कई विकृतियां जन्म ले सकती  हैं।
अगर आप भी प्रेग्‍नेंट हैं और पेनकिलर मेडिसिन लेती हैं तो मेडिसिन लेने से पहले अपनी डॉक्‍टर से परामर्श जरूर लें।

Recommended Video

Read more: मां बनने वाली सभी महिलाओं को जानने चाहिए प्रेग्‍नेंसी से जुड़े ये मिथ और उनकी सच्‍चाई