क्योंकि आप मां बनने वाली हैं आपको यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि आप पर्याप्त पानी पिएं और हाइड्रेटेड रहें। जब आप प्रेग्नेंट होती हैं तो न सिर्फ अपने बल्कि अपने बच्चे की हेल्‍दी ग्रोथ के लिए आपको एक आम इंसान की तुलना में ज्यादा पानी की जरूरत होती है।  

जीवन को बनाए रखने के लिए पर्याप्त पानी का सेवन आवश्यक होता है। इसलिए प्रेग्‍नेंट और ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिलाओं को अपने शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए पानी और अन्य लिक्विड का सेवन बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। जीवन का एक अनिवार्य तत्व पानी है यह एक व्यक्ति के शरीर में 55% -65% तक मौजूद होता है, जिससे यह शरीर में सबसे आम तत्व बन जाता है। 

असंवेदनशील पानी का नुकसान सांस लेने और त्वचा से वाष्पीकृत होने से भी होता है। संवेदनशील पानी का नुकसान यूरिन और स्टूल के निकलने से होता है। संवेदनशील और असंवेदनशील पानी का नुकसान लगभग बराबर ही होता है। पानी की जरूरत का आंकलन खाना खाने के तरीके पर भी निर्भर करता है। एक व्यक्ति को हर एक कैलोरी के लिए 1-1.5 मिली पानी की जरूरत होती है। एक इंसान अगर 2000 कैलोरी की डाइट एक दिन में लेता है तो उसे 2000-3000 मिली पानी की जरूरत हर दिन होगी। अधिकतर प्रेग्नेंट महिलाओं को दूसरे ट्राईमेस्टर तक अपनी कैलोरी की खपत 300 कैलोरीज तक बढ़ाने की सलाह दी जाती है। इसलिए उन्हें लगभग 300 मिली ज्यादा फ्लूइड लेने की आवश्यकता होती है। 

पानी में घुलने वाले विटामिन्स जैसे एस्कॉर्बिक एसिड, निकोटिनिक एसिड, राइबोफ्लेविन, बी 12 (थियामिन), और बी 6 (पाइरिडोक्सिन) आदि के एब्जॉर्ब होने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीने की आवश्यकता होती है।

इसे जरूर पढ़ें:प्रेग्‍नेंसी के दौरान यूरिनरी ट्रैक्‍ट इन्फेक्शन क्‍यों होता है? लक्षण और उपचार जानें

प्रेग्‍नेंट महिला को कितना पानी पीना चाहिए?

  • फीटस के संचलन, एमनियोटिक फ्लूएड और हाई वैल्‍यूम में ब्‍लड की मात्रा का समर्थन करने के लिए प्रेग्‍नेंसी के दौरान सामान्य फ्लूइड की आवश्यकता होती है। इसलिए रोजाना कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पीने की सलाह दी जाती है। फ्लूइड की मात्रा की जरूरतों को बनाए रखने के अलावा, अधिकांश नगर निगम के पानी में फ्लोराइड होता है, जो बढ़ते फीटस में दांतों और हड्डियों के विकास में मदद करता है।
  • प्रेग्‍नेंट महिलाओं को थोड़ा ध्यान रखने की जरूरत है क्योंकि कुछ मामलों में पानी में लेड भी होता है जिससे अबॉर्शन, घटा हुआ कद और बढ़ते फीटस के न्यूरोडेवलपमेंट में कमी हो सकती है। 
  • इसके अतिरिक्त, प्रेग्‍नेंसी की एक आम शिकायत कब्ज है। घटी हुई गतिशीलता और आयरन सप्‍लीमेंट के कारण यह समस्‍या हो सकती है। बढ़े हुए फ्लूइड इनटेक से कब्ज की समस्या में आराम मिल सकता है। पर्याप्त फ्लूइड सप्लाई से ये भी सुनिश्चित होता है कि डिलीवरी के समय होने वाली ब्‍लड की कमी को झेलने के लिए मां के पास पर्याप्त भंडार मौजूद है। 
  • एक बार में बहुत कुछ गुल करने के बजाय पूरे दिन थोड़ा-थोड़ा पानी का सेवन लगातार करने की कोशिश करें, जिससे आपको असहज महसूस न हो। हर सुबह एक या दो पानी की बोतल भरना और इसे पूरे दिन संभाल कर रखना परेशानी को हाइड्रेशन से बाहर ले जाता है।
  • वर्कआउट से पहले, उसके दौरान और बाद में पानी पिएं और तब भी जब किसी गर्म दिन में बाहर हों। अगर आपको बार-बार प्यास लगती है तो यह इस बात संकेत है कि आपका शरीर पहले से ही डिहाइड्रेट होने के रास्ते पर है। इससे शरीर में पानी अंदर जाने की तुलना में तेजी से कम होने लगता है।
  • अगर आपके यूरिन का रंग पीला या कलरलेस है तो ये संकेत है कि आप पर्याप्त पानी पी रही हैं।
hydration during pregnancy inside

पानी शरीर को कई तरीकों से मदद करता है, जैसा कि नीचे बताया गया है:

  • फॉर्म एमनियोटिक फ्लूइड 
  • ब्‍लड का एक्‍स्‍ट्रा उत्पादन
  • नए टिशू का निर्माण
  • पोषक तत्वों को ले जाना
  • डाइजेशन को बढ़ाता है
  • अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालना

हाइड्रेटेड रहने के फायदे

प्रेग्‍नेंसी के दौरान हाइड्रेटेड रहने के कुछ फायदे यहां दिए गए हैं:

  • कब्ज और बवासीर को कम करता है।
  • सूजन को कम करता है।
  • स्किन को सॉफ्ट बनाता है।
  • एनर्जी बढ़ाता है।
  • आपकी बॉडी को ठंडा रखता है।
  • यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन्स के जोखिम को कम करता है।
  • प्रीटर्म लेबर और प्रीटर्म जन्म के जोखिम को कम करता है। 
  • कब्ज से राहत दिलाता है।

डिहाइड्रेशन को रोकने के लिए टिप्स

अगर हर दिन पानी की अनुशंसित मात्रा रखना मुश्किल है, तो डिहाइड्रेशन को रोकने में मदद करने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:

  • अपने पानी में नींबू या नींबू जैसे फलों को मिलाएं।
  • कैफीन से बचें क्योंकि इससे यूरिन आउटपुट बढ़ता है, जिससे डिहाइड्रेशन हो सकता है। 
  • ज्यादा से ज्‍यादा फल और सब्जियां खाएं।
  • दूध, जूस, स्पार्कलिंग वाटर, चाय और सूप सभी को पानी या तरल पदार्थ के रूप में गिना जा सकता है।
  • गर्मी से बचे रहें। सुबह जल्दी या शाम के समय या फिर अंदर एक्सरसाइज करें।
  • अपना एक्टिविटी लेवल बढ़ाने पर शरीर में फ्लूइड इंटेक को भी बढ़ाएं।

Recommended Video

लक्षण और जटिलताएं

प्रेग्‍नेंसी के दौरान डिहाइड्रेशन के परिणामस्वरूप हल्‍के लक्षण से लेकर गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं। डिहाइड्रेशन के लक्षण हैं:

हल्के लक्षण

  • मैटर्नल ओवरहीटिंग 
  • सिरदर्द और सुस्ती
  • डार्क या गाढ़ा यूरिन

जटिलताएं

डिहाइड्रेशन के कारण प्रेग्‍नेंसी में गंभीर जटिलताएं उत्पन्न हो सकती हैं:

  • लो एमनियोटिक फ्लूइड
  • किडनी स्‍टोन 
  • न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट
  • शरीर में सूजन
  • पानी की कमी और पोषण संबंधी सपोर्ट के कारण बच्चे में जन्म दोष अपर्याप्त ब्रेस्‍ट मिल्‍क प्रोडक्‍शन 
  • यूरिनरी ट्रैक्‍ट इन्फेक्शन से प्रीटर्म लेबर और प्रीटर्म बर्थ हो सकता है।

निष्कर्ष

प्रेग्‍नेंसी के दौरान पर्याप्त रूप से हाइड्रेटेड रहना महत्वपूर्ण है क्‍योंकि यह मां के स्वास्थ्य के साथ-साथ बच्चे के लिए भी आवश्यक है। डिहाइड्रेशन के कारण उत्पन्न होने वाली प्रेग्‍नेंसी से जुड़ी कई जटिलताओं से बचने के लिए पूरे दिन पानी या लिक्विड्स का सेवन नियमित रूप से करें।

एक्‍सपर्ट सलाह के लिए डॉक्‍टर नीता ठाकरे (एम डी) को विशेष धन्यवाद।