आजकल घुटनों के दर्द के बारे में सुनना आम बात हो गई है। ऐसा नहीं है कि ये सिर्फ बुढ़ापे का लक्षण है बल्कि ये तो आजकल जवान लोगों को भी हो रहा है। डॉक्टर से सलाह के बाद अलग-अगल तरह की बातें पता चलती हैं, लेकिन इसका अहम कारण क्या है? क्यों लोगों को ये बहुत ज्यादा हो रहा है और साथ ही साथ ये कम उम्र के लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है और इससे बचने के कारण क्या हो सकते हैं? इसके लिए हमने एक एक्सपर्ट से सलाह ली।  

हमने घुटनों के दर्द को लेकर डॉक्टर समर्थ सूर्यवंशी से बाक की जो भोपाल डिविजनल रेलवे हॉस्पिटल में फिजियोथेरेपिस्ट हैं। उन्होंने इस दर्द को लेकर खास कारण और उनके उपाय बताए हैं। तो चलिए सबसे पहले बात करते हैं इसके कारणों की।  

डॉक्टर समर्थ के अनुसार अक्सर लोगों को ये बताया जाता है कि उनके घुटनों के दर्द का कारण ये है कि Knee Cap में गैप आ गया है। लेकिन इसके टेक्निकल टर्म में दो कारण होते हैं- 

1. पैथोकैमिकल

2. पैथोलॉजिकल 

इसे जरूर पढ़ें- Golden Globe 2020: प्रियंका ने स्टाइल के मामले में फिर सबको छोड़ा पीछे, कुछ इस अंदाज़ में दिखे Nickyanka

पहला कारण-

इसे सरल भाषा में कहें तो घुटन घिसने का अहम कारण होता है कि जोड़ों में कोई कमी या खराबी आ जाती है। 

ऐसा क्यों होता है?

मसल्स कमजोर होने के कारण

गलत चलने या बैठने के कारण

मांसपेशियों का टाइट होना

knee pain and its effects

1. मांसपेशियों की समस्या-

इसका एक कारण ये भी होता है कि लोग जरूरत भर की कसरत नहीं करते हैं। जैसे Quadriceps Musle जिसका काम घुटनों को सीधा करना होता है उसका अगर सही से उपयोग न हो या उसे पर्याप्त मात्रा में रोज़ाना एक्सरसाइज न मिले तो उसका एक हिस्सा कमजोर हो जाता है। इसके कारण घुटनो में गैप बढ़ जाता है और दर्द होने लगता है। 

क्या है इसका उपाय-

इसके लिए Quadriceps की एक्सरसाइज करना जरूरी है, लेकिन अगर आपके घुटनों में लगातार दर्द है तो इसे बिना फिजियोथेरेपिस्ट की सलाह के न करें और उसकी बताई हुई एक्सरसाइज ही करें।  

Recommended Video

2. गलत तरीके से चलना या बैठना-

गलत तरीके से बैठना या चलना बहुत ज्यादा समस्या का कारण हो सकता है। आमतौर पर लोग कुर्सी पर एक पैर पर दूसरा पैर चढ़ाकर बैठते हैं जिससे medial joint line पर दबाव पड़ता है। ऐसा करने से ज्वाइंट पेन हो जाता है। ऐसा ही लगातार घुटनों को मोड़कर बैठने से भी होता है। 

knee pain exact reason for the issue

क्या है इसका उपाय- 

इसका सीधा सा उपाय ये है कि आपको सही तरीके से चलना या बैठना चाहिए। आपके लिए ये सही नहीं होगा कि आप एक ही पोजीशन में घुटनों को मोड़कर काफी देर तक बैठे रहें।  

गलत तरीके से चलना भी इसका कारण है। जाने-अनजाने में हम ये गलती कर बैठते हैं। चलने की ट्रेनिंग को गेट ट्रेनिंग कहा जाता है। 

क्या है इसका उपाय- 

आपको सही तरीके से चलने की आदत डालनी होगी ताकि एक ही जगह पर ज्यादा वजन न पड़े। जैसे मेडिकल ज्वाइंट लाइन पर जोर न पड़े वैसे चलना होगा।  

3. मांसपेशियों का टाइट होना-

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि लोगों को परफेक्ट स्ट्रेचिंग नहीं मिलती है। अगर लोगों को स्ट्रेचिंग की जरूरत होती है तो वो गलत तरीके से इसे कर लेते हैं। ऐसे में शरीर के स्ट्रिंग मसल्स में दिक्कत आ जाती है।  

क्या है इसका उपाय- 

फिजियोथेरेपिस्ट की देख-रेख में स्ट्रेचिंग की एक्सरसाइज करें।  

दूसरा अहम कारण है पैथोलॉजिकल कारण- 

इसमें मुख्यत: 

1. रूमेटिक अर्थराइटिस

2. गाउट अर्थराइटिस

3. सोराइटिक अर्थराइटिस

4. ओस्टियो अर्थराइटिस  

शामिल होते हैं।  

इसे जरूर पढ़ें- Exclusive: एक्ट्रेस बिदिता बाग के बलात्कार विरोधी अभियान पर खास बात-चीत

अगर किसी को अर्थराइटिस की समस्या है तो उसे तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए और साथ ही साथ किसी भी तरह की एक्सरसाइज के पहले फिजियोथेरेपिस्ट को कंसल्ट करना चाहिए। अगर फिजियोथेरेपिस्ट से जांच नहीं करवाई जाएगी तो हो सकता है कि आप अपने शरीर के किसी अंग को नुकसान पहुंचा लें। 

अर्थराइटिस के कई देसी इलाज भी होते हैं, लेकिन आपको सलाह यही दी जाएगी कि आप सबसे पहले डॉक्टर से बात करें। ताकी आप अपने शरीर की पूरी देखभाल कर सकें। 

अगर आपको ये स्टोरी पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें और ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी से।