हार्मोन्स मानव शरीर में स्वास्थ्य को बनाए रखने और रिप्रोडक्‍शन, डाइजेशन आदि जैसी प्रमुख विकासात्मक भूमिकाओं के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। एस्ट्रोजन मानव शरीर में मौजूद एक ऐसा ही महत्वपूर्ण हार्मोन है। वैसे तो ये पुरुष और महिलाओं दोनों के शरीर में मौजूद रहता है, लेकिन महिलाएं इसे आमतौर पर ज्यादा मात्रा में बनाती हैं और उनके शरीर की कई गतिविधियों के लिए ये महत्वपूर्ण हार्मोन है। 

क्या है हाइपोएस्ट्रोजेनिज्म?

हाइपोएस्ट्रोजेनिज्म या एस्ट्रोजन की कमी, महिलाओं में एस्ट्रोजन के सामान्य लेवल के कम होने की तरफ इशारा करता है। एस्ट्रोजन महिलाओं में एक प्राइमरी सेक्स हार्मोन है। 

इसे जरूर पढ़ें- यूरिन में दर्द और जलन से परेशान हैं तो कारण, लक्षण और बचाव के तरीके जान लें 

एस्‍ट्रोजन का पर्याप्‍त स्‍तर क्यों जरूरी होता है?

एस्ट्रोजन हमारे शरीर में बहुत ही महत्वपूर्ण होता है और इसका काम है महिलाओं के शरीर के विकास और इसकी देखरेख में मदद करना। एस्ट्रोजन हार्मोन शरीर के इन फंक्शन्स को सही ढंग से चलाने के लिए जिम्मेदार होता है- 

  • बोन हेल्‍थ को नियंत्रित करता है।
  • कोलेस्ट्रॉल के मेटाबॉलिज्‍म को नियंत्रित करता है।
  • टीनएज और प्रेग्‍नेंट महिलाओं में ब्रेस्‍ट का विकास होने लगता है।
  • प्‍यूबर्टी में पहुंचने वाली लड़कियों का सेक्‍शुअल विकास होने लगता है।
  • यह शरीर के वजन, भोजन का सेवन, इंसुलिन सेंसिटिविटी, ग्लूकोज मेटाबॉलिज्‍म आदि जैसे फैक्टर्स को नियंत्रित करता है।
  • मेंस्ट्रुअल साइकिल और प्रेग्‍नेंसी के दौरान यूटेरिन लाइनिंग को कंट्रोल करने में सक्षम बनाता है।

disorder hypoestrogenism 

 

एस्ट्रोजन के कम होने के क्या कारण हैं? 

एस्ट्रोजन हार्मोन ओवरीज में बनता है और ओवरीज में किसी भी तरह की समस्या के कारण एस्ट्रोजन हार्मोन के प्रोडक्शन में कमी आ सकती है। शरीर में एस्ट्रोजन को कम लेवल के प्रोडक्शन के कई कारण हो सकते हैं- 

  • क्रॉनिक किडनी डिजीज 
  • टर्नर सिंड्रोम
  • असामान्य रूप से काम करने वाली पिट्यूटरी ग्‍लैंड 
  • बहुत ज्‍यादा एक्‍सरसाइज
  • बहुत ज्‍यादा डाइटिंग 
  • ओवेरियन सिस्‍ट्स
  • हार्मोनल समस्‍याओं की फैमिली हिस्‍ट्री 
  • एनोरेक्सिया या इस तरह के अन्य ईटिंग डिसऑर्डर्स
  • समय से पहले ओवेरियन फेलियर
  • जेनेटिक दोष
  • ऑटोइम्‍यून मे‍डिकल कंडीशन्स 

low level of estrogen in body

40 की उम्र के आस-पास महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन की कमी प्रीमेनोपॉज का लक्षण है। इसका मतलब ये है कि महिला मेनोपॉज की ओर बढ़ रही है। मेनोपॉज की ओर बढ़ते हुए ओवरीज आमतौर पर एस्ट्रोजन का प्रोडक्शन कम कर देती हैं। जब शरीर में एस्ट्रोजन का प्रोडक्शन रुक जाता है तो इस स्टेज को ही मेनोपॉज कहा जाता है।  

इसे जरूर पढ़ें- प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम क्‍या है इसके जोखिम कारक, लक्षण और उपचार के बारे में जानें  

Recommended Video

शरीर में एस्‍ट्रोजन की कमी के क्‍या लक्षण हैं? 

टीनएज लड़कियां जिन्हें प्यूबर्टी नहीं हुई है और वो महिलाएं जो मेनोपॉज के नजदीक हैं उनके शरीर में अक्सर एस्ट्रोजन लेवल असमान्य होता है। हालांकि, लगभग हर उम्र की महिला एस्ट्रोजन लेवल में कमी महसूस कर सकती है। इससे जुड़े आम लक्षण हैं- 

  • वेजाइनल लुब्रिकेशन की कमी के कारण सेक्स दर्दभरा हो जाता है
  • हॉट फ्लैशेस
  • मूड स्विंग्‍स
  • सिरदर्द
  • डिप्रेशन
  • थकान
  • ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई
  • ब्रेस्ट का नरम पड़ना
  • मेंस्ट्रुअल साइकिल का अनियमित या न होना 
  • यूरेथ्रा के पतला होने के कारण आप यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन की चपेट में जल्‍दी आ सकती हैं
  • बोन डेंसिटी में कमी के कारण हड्डियों में चोट और फ्रैक्चर की अधिक संभावना बन जाती है
  • अगर इलाज न किया जाए, तो एस्ट्रोजन का कम लेवल महिलाओं में इनफर्टिलिटी का कारण भी बन सकता है

एस्ट्रोजन लेवल का डायग्नोसिस कैसे किया जाता है? 

एस्ट्रोजन के कम लेवल का समय पर डायग्नोसिस बहुत सारी स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने में मदद करता है। इस संबंध में एक स्‍पेशलिस्‍ट डॉक्‍टर से परामर्श करने और इलाज की प्रक्रिया को फॉलो करने की सलाह दी जाती है, जो आपकी स्थिति और शरीर के प्रकार के लिए सबसे बेस्‍ट होगी। डॉक्टर आपकी मेडिकल हिस्ट्री और परिवार की हिस्ट्री के आधार पर आपकी हार्मोनल कंडीशन चेक करेगा। वो कुछ ब्लड टेस्ट्स करवाने की सलाह भी दे सकता है और साथ ही कोई फिजिकल एग्जामिनेशन भी कर सकता है। कुछ मामलों में डॉक्टर ब्रेन स्कैन और डीएनए टेस्ट के बारे में भी सलाह दे सकता है ताकि एंडोक्राइन सिस्टम में किसी असमानता की पहचान की जा सके।  

एस्‍ट्रोजन की कमी का इलाज कैसे किया जाता है? 

एस्ट्रोजन के कम लेवल की जानकारी कई बार विभिन्न प्रकार के ब्‍लड टेस्‍ट से मिलती है, कुछ स्थितियों में बदलाव की आवश्यकता होती है। इसका इलाज गायनेकोलॉजिस्ट या एंडोक्रिनोलॉजिस्ट द्वारा लक्षणों, उम्र और अन्य रिस्क फैक्टर्स के आधार पर संयुक्त हार्मोनल गोलियों या एस्ट्रोजन युक्त गोलियों को प्रिसक्राइब करके किया जा सकता है। एस्ट्रोजन ओरली, वेजाइना के माध्‍यम से या टॉपिकली दिया जा सकता है। यह विशेष रूप से कार्डियोवस्कुलर डिजीजेज, बोन लॉस और हार्मोनल असंतुलन के जोखिम को कम करने के लिए आवश्यक हो सकता है।  

कुछ मामलों में, विशेष रूप से मेनोपॉज वाली महिलाओं के मामलों में, डॉक्टर हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी की सलाह दे सकते हैं। हालांकि, इस संबंध में स्‍पेशलिस्‍ट डॉक्‍टर से परामर्श करने और व्यक्तिगत आधार पर दी गई सलाह को फॉलो करने के लिए कहा जाता है।  

डॉक्टर अरुणा मुरलीधर (एमडी, एमआरसीओजी, एफआरसीओजी (यूके)) को उनकी एक्सपर्ट सलाह के लिए धन्यवाद।  

Reference:

https://www.healthline.com/health/womens-health/low-estrogen-symptoms#outlook

https://fertilitypedia.org/edu/diagnoses/hypoestrogenism