ऐसा कहा जाता है कि अमृत की कुछ बूंदे भी शरीर की तमाम बीमारियों को एकदम से खत्म कर सकती हैं, घड़े के पानी को अमृत के सामान माना जाता है क्योंकि इससे मिलने वाले 6 फायदे अमृत मिलने के सामान है खासतौर पर गर्मियों के मौसम में। अगर गर्मी के दिनों में पानी पीने के लिए मिट्टी के घड़े का इस्तेमाल किया जाता है तो आप गर्मी से होने वाली कई सम्स्याओं से बच सकती हैं। पीढ़ियों से भारतीय घरों में पानी स्टो र करने के लिए मिट्टी के बर्तन यानी घड़े का इस्तेमाल किया जाता है। आज भी कुछ लोग ऐसे हैं जो इन्हीं मिट्टी से बने बर्तनो में पानी पीते है। ऐसे लोगों का मानना है कि मिट्टी की भीनी-भीनी खुशबू के कारण घड़े का पानी पीने का आनंद और इसका लाभ अलग है।

अगर ज्यादातर लोगों की बात की जाए तो गर्मी के मौसम में लोग प्यास को बुझाने के लिए अब मिट्टी से बने घड़े के पानी को पीना पसंद नहीं करते और इसकी जगह पर फ्रीज के पानी को पीना ही पसंद करते हैं पर क्या आप जानती हैं कि मिट्टी के घड़े का पानी आपकी सेहत के लिए कितना फायदेमंद साबित होता है। मिट्टी से बने इस घड़े में कई प्राकृतिक गुण पाए जाते हैं। जो आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाते है और आपको कई रोगों से लड़ने की क्षमता प्रदान करने में मदद करते है। दरअसल, मिट्टी में कई प्रकार के रोगों से लड़ने की क्षमता पाई जाती है। मिट्टी के बर्तनों में पानी रखा जाए तो उसमें मिट्टी के गुण आ जाते हैं इसलिए घड़े में रखा पानी हमें हेल्दी बनाए रखने में अहम भूमिका निभाता है। 

mitti ghade   water benefits inside

थकावट को करें दूर और रहें कूल-कूल 

गर्मी के मौसम में मिट्टी के घड़े का पानी पीने से किसी तरह की थकान नहीं रहती है। इस पानी का सेवन करने से काफी हद तक सिरदर्द की समस्या से भी निजात मिलता है। मिट्टी के घड़े का पानी आपको तपती गर्मी में भी कूल बनाए रखता है। मिट्टी के बने मटके में सूक्ष्म छिद्र होते हैं। ये छिद्र इतने सूक्ष्म होते हैं कि इन्हें नंगी आंखों से नहीं देखा जा सकता। पानी का ठंडा होना वाष्पीकरण की क्रिया पर निर्भर करता है।  जितना ज्यादा वाष्पीकरण होगा उतना ही ज्यादा पानी भी ठंडा होगा। इन सूक्ष्म छिद्रों द्वारा मटके का पानी बाहर निकलता रहता है। गर्मी के कारण पानी वाष्प बन कर उड़ जाता है। वाष्प बनने के लिए गर्मी यह मटके के पानी से लेता है। इस पूरी प्रक्रिया में मटके का तापमान कम हो जाता है और पानी ठंडा रहता है। 

Read more: सावधान ! पीती हैं अगर ठंडा पानी तो आपको हो सकते हैं ये 7 रोग

मिट्टी के घड़े के पानी में मिलेगा पीएच का संतुलन

मिट्टी के घड़े का पानी पीने का एक और लाभ यह भी है कि इसमें मिट्टी में क्षारीय गुण विद्यमान होते है। क्षारीय पानी की अम्लता के साथ प्रभावित होकर, उचित पीएच संतुलन प्रदान करता है। इस पानी को पीने से एसिडिटी पर अंकुश लगाने और पेट के दर्द से राहत प्रदान पाने में मदद मिलती हैं। 

mitti ghade   water benefits inside

प्रेग्नेंट लेडीज़ के लिए फायदेमंद 

कई जाने-माने डॉक्टर प्रेग्नेंट लेडीज़ को फ्रिज में रखा ठंडा पानी पीने की सलाह नहीं देते हैं। इसके बदले डॉक्टर्स सलाह देते हैं कि मिट्टी के घड़े में रखे पानी को पीना चाहिए। इनमें रखा पानी ना सिर्फ उनकी  हेल्थ के लिए अच्छा होता है बल्कि पानी में मिट्टी का सौंधापन बस जाने के कारण प्रेग्नेंट लेडीज़ को बहुत अच्छा लगता है। 

Read more: नींबू पानी से नहीं गर्म पानी पीकर तेजी से घटाएं अपना वजन

गला और पेट नहीं होगा खराब 

आमतौर पर हमें गर्मियों में ठंडा पानी पीने की तलब होती है और हम फ्रिज से ठंडा पानी ले कर पीते हैं। ठंडा पानी हम पी तो लेते हैं लेकिन बहुत ज्यापदा ठंडा होने के कारण यह गले और शरीर के अंगों को एक दम से ठंडा कर शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव डालता है। फ्रिज का ठंडा पानी पीने से गला पकने लगता है। साथ ही आपको बता दें कि मिट्टी के घड़े के पानी से कब्ज भी नहीं होती है जिस कारण स्किन पर ग्लो बना रहता है। 

mitti ghade   water benefits inside

प्लास्टिक से होने वाले नुकसान से बचाएं 

प्लासस्टिक की बोतलों में पानी स्टो र करने से उसमें प्लारस्टिक से अशुद्धियां इकट्ठी हो जाती है और वह पानी को अशुद्ध कर देता है। साथ ही यह भी पाया गया है कि घड़े में पानी स्टोपर करने से शरीर में टेस्‍टोस्टेतरोन का स्तर बढ़ जाता है इसलिए अग्र आप प्लास्टिक से होने वाले नुकसान से बचना चाहती हैं तो आपको मिट्टी के घड़े में पानी पीना चाहिए। 

विषैले पदार्थ सोखने की शक्ति

मिट्टी में शुद्धि करने का गुण होता है यह सभी विषैले पदार्थ सोख लेती है और इसके घड़े के पानी में सभी जरूरी सूक्ष्म पोषक तत्व मिलते हैं। गर्मियों में हेल्दी बने रहना है तो मिट्टी के घड़े का पानी पीना चाहिए। 

Recommended Video